राजस्थान विद्यार्थियों का लर्निंग लॉस: कोरोना महामारी के दौरान हुए लर्निंग लॉस को कम करने के लिए शिक्षा मंत्री कल्ला ने ब्रिज कोर्स की कार्य पुस्तिका और पोस्टर का किया विमोचन

कोरोना महामारी के दौरान विद्यार्थियों को हुए लर्निंग लॉस को कम करने हेतु तथा विद्यार्थियों का अधिगम स्तर कक्षा के अनुरूप लाने हेतु ब्रिज कोर्स नए शैक्षणिक सत्र से शुरू किया जाएगा। शिक्षा मंत्री डॉ बी डी कल्ला ने ब्रिज कोर्स हेतु आरएससीईआरटी द्वारा तैयार की गई कक्षा 1 से 8 तक की कार्यपुस्तिकाओं का विमोचन किया।

कोरोना महामारी के दौरान हुए लर्निंग लॉस को कम करने के लिए शिक्षा मंत्री कल्ला ने ब्रिज कोर्स की कार्य पुस्तिका और पोस्टर का किया विमोचन

जयपुर।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की वर्ष 2022-23 की बजट घोषणा की अनुपालना में कोरोना महामारी के दौरान विद्यार्थियों को हुए लर्निंग लॉस को कम करने हेतु तथा विद्यार्थियों का अधिगम स्तर कक्षा के अनुरूप लाने हेतु ब्रिज कोर्स नए शैक्षणिक सत्र से शुरू किया जाएगा। 
शिक्षा मंत्री डॉ बी डी कल्ला ने ब्रिज कोर्स हेतु आरएससीईआरटी द्वारा तैयार की गई कक्षा 1 से 8 तक की कार्यपुस्तिकाओं का विमोचन करते हुए कहा कि उपचारात्मक शिक्षण के माध्यम से कोरोना महामारी में स्कूल बंद रहने के कारण विद्यार्थियों को हुए शैक्षिक नुकसान की भरपाई की जाएगी।


नए सत्र से शुरू हो रहे ब्रिज कोर्स के द्वारा प्रदेश के कक्षा 1 से 8 तक के लगभग 70 लाख विद्यार्थी लाभान्वित होंगे। 
डॉ कल्ला ने बताया कि प्रस्तावित ब्रिज कोर्स के तहत जुलाई से सितम्बर तक प्रथम 4 कालांश में उपचारात्मक शिक्षण तथा शेष शैक्षणिक सत्र में प्रथम 2 कालांश में उपचारात्मक शिक्षण करवाया जाएगा।
डॉ कल्ला ने कहा कि ब्रिज कोर्स में दक्षता आधारित इन कार्यपुस्तिकाओं द्वारा विद्यार्थियों को पढ़ाया जाएगा।
इसके साथ ही बड़े स्तर पर एसडीएमसी/एसएमसी बैठकों व पेरेंट टीचर मीटिंग के माध्यम से अभिभावकों के साथ डिजिटल रिपोर्ट कार्ड शेयर करके विद्यार्थियों की प्रगति पर विमर्श किया जाएगा
इस अवसर पर शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पवन कुमार गोयल ने कहा कि मई-जून में अधिकारियों एवम् शिक्षकों के आमुखीकरण एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जाएंगे।
इसमें शिक्षकों को कार्यपुस्तिकाएं पढ़ाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा व शिक्षा विभाग के अधिकारियों को व्यवस्थागत रूप से ब्रिज कोर्स संचालन के प्रभावी निरीक्षण हेतु प्रशिक्षित किया जाएगा।
इस अवसर पर आरएससीईआरटी निदेशक प्रियंका जोधावत ने बताया कि कक्षा 1 के लिए प्रथम, कक्षा 2 के लिए पल्लव, कक्षा 3 के लिए पहल, कक्षा 4 व 5 के लिए प्रयास, कक्षा 6 व 7 के लिए प्रवाह व कक्षा 8 के लिए प्रखर कार्यपुस्तिकाएं तैयार की गई हैं। जो विद्यार्थियों को कोरोना पूर्व अधिगम स्तर पर लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

Must Read: गहलोत सरकार का कर्मचारियों के हित में बड़ा फैसला, बढ़ाए गए पद, मिलेगा पदोन्नति का अवसर

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :