Rajasthan @शिक्षा मंत्री का भाई भतीजावाद: आरएएस भर्ती में भाई भतीजावाद से विवादों में आने वाले शिक्षा मंत्री डोटासरा अब बेटे के ससुर को बना रहे है शिक्षा विभाग में सलाहकार

राजस्थान सरकार के शिक्षा मंत्री पर लगातार भाई भतीजावाद के आरोप लगाए जा रहे है लेकिन बावजूद इसके ना तो सरकार की ओर से और ना ही कांग्रेस पार्टी की ओर से इस ओर ध्यान दिया जा रहा है। आरएएस भर्ती परीक्षा 2018 में भाई भतीजावाद के आरोप लगने के बाद अब एक बार फिर से शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा पर सवाल उठाए जा रहे है।

आरएएस भर्ती में भाई भतीजावाद से विवादों में आने वाले शिक्षा मंत्री डोटासरा अब बेटे के ससुर को बना रहे है शिक्षा विभाग में सलाहकार

जयपुर। 
राजस्थान की कांग्रेस सरकार में अपनों को रेवड़ियां बांटी जा रही है। राजस्थान सरकार के शिक्षा मंत्री पर लगातार भाई भतीजावाद के आरोप लगाए जा रहे है लेकिन बावजूद इसके ना तो सरकार की ओर से और ना ही कांग्रेस पार्टी की ओर से इस ओर ध्यान दिया जा रहा है। आरएएस भर्ती परीक्षा 2018 में भाई भतीजावाद के आरोप लगने के बाद अब एक बार फिर से शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा (Education Minister Govind Singh Dotasara) पर सवाल उठाए जा रहे है। इस बार डोटासरा के रिटायर समधी को सलाहकार पद पर नियुक्ति देने की तैयारी की जा रही है। अभी उनके नाम का केवल सिंगल प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है। जानकारी के मुताबिक शिक्षा विभाग के भर्ती सेल में सलाहकार के पद पर शिक्षा मंत्री के बेटे के ससुर रमेश कुमार पूनिया को नियुक्ति देने की तैयारी की जा रही है। पूनिया के नाम सिंगल आदेश व प्रस्ताव जारी कर उन्हें भेजा गया है और सात दिन में जवाब देने का समय दिया गया हैं। रमेश कुमार पूनिया सितंबर में ही शिक्षा विभाग में शिक्षा अधिकारी के पद से रिटायर्ड हुए थे। आप को बता दे कि शिक्षा विभाग की ओर से उनके रिटायरमेंट के समय समारोह किया गया था। इससे पहले शिक्षक संगठनों ने आरोप लगाए थे क डोटासरा ने जिला शिक्षा अधिकारी के पद पर कार्यरत समधी पूनिया को पदोन्नत करवाकर उप निदेशक के पद पर करवा दिया था। रमेश कुमार पूनिया के नाम राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद के आयुक्त डॉ भंवर लाल के हस्ताक्षर युक्त प्रस्ताव भेजा गया है।

आरएएस भर्ती 2018 और समधी की डीपीसी को लेकर भी चर्चा में 
राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व सरकार के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा लगातार चर्चा में है। डोटासरा ने उनके समधी के प्रमोशन के लिए डीपीसी की बैठक को जल्द करवाया था। डोटासरा के दबाव में ही राज्य लोकसेवा आयोग ने दो दिन पहले का समय देकर पूनिया को पदोन्नत करने की प्रक्रिया को पूरी करवाई थी ऐसे आरोप लगाए गए। इसके साथ ही हाल ही में आरएएस भर्ती परीक्षा 2018 का परिणाम जारी किया गया। इसमें भी डोटासरा पर समधी के बेटे और बेटी काे परीक्षा में अच्छे नंबर दिलाने का आरोप लगा था। शिक्षा मंत्री डोटासरा की बहू के भाई गौरव और बहन प्रभा के RAS साक्षात्कार में समान नंबर मिले है, जबकि आरएएस मेरिट में टॉप आने वाले के भी इतने अंक नहीं आए।


आखिर सरकार में सलाहकार का क्या है कार्य
शिक्षा परिषद के विभिन्न प्रकोष्ठों में गतिविधियों का संचालन, मॉनिटरिंग एवं सलाह (monitoring and advice) देना, विभिन्न प्रकोष्ठों में प्रोग्राम मैनेजमेंट यूनिट में गतिविधियों में नियोजन एवं क्रियान्वयन (Implementation) में सहयोग, विभिन्न प्रकोष्ठों की वार्षिक कार्य योजना (Annual Action Plan) एवं बजट में स्वीकृत विभिन्न कार्यों का विश्लेषण, कमजोरी के क्षेत्र का तय कर परियोजना निदेशक (Project Director)को सुझाव देना। इसके अलावा समग्र शिक्षा मिशन(Samagra Shiksha Mission) व शिक्षा विभाग व राजस्थान सरकार व अन्य राजकीय विभागों में कोऑर्डिनेशन (Coordination) बनाना, विभाग की गतिविधियों व मॉनिटरिंग में सहयोग करना होगा।

Must Read: राजस्थान में जुगाड़ की सरकार,बढ़ते अपराध को कम करने, सिरोही की घटना पर कार्रवाई करने और वैक्सीनेशन पर राजनीति ना करने का समय: पूनियां

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :