ईडी ने फेल कर दी सभी योजना: पार्थ चटर्जी और अर्पिता के बीच चल रही प्लानिंग के खुले कई राज

ममता सरकार के मंत्री पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी के बीच अब कई राज खुलने लगे हैं। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा पार्थ चटर्जी और उनकी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के बीच चल रही योजना को लेकर खुलासा किया है।

पार्थ चटर्जी और अर्पिता के बीच चल रही प्लानिंग के खुले कई राज

कोलकाता | ममता सरकार के मंत्री पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी के बीच अब कई राज खुलने लगे हैं। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा पार्थ चटर्जी और उनकी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के बीच चल रही योजना को लेकर खुलासा किया है। ईडी ने जांच में पाया है कि अर्पिता और पार्थ चटर्जी संयुक्त रूप से संपत्तियों को खरीद रहे थे। अगर कोई गलत गतिविधियों में शामिल रहा है, तो हम में से कोई भी हस्तक्षेप नहीं करेगा चाहे वो कितना भी कठोर फैसला क्यों न वहीं दूसरी ओर, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने इस मामले में कहा है कि, अगर कोई गलत गतिविधियों में शामिल रहा है, तो हम में से कोई भी हस्तक्षेप नहीं करेगा चाहे वो कितना भी कठोर फैसला क्यों न झेले। हम उनका समर्थन नहीं करेंगे।झेले। हम उनका समर्थन नहीं करेंगेरू पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और ज्डब् नेता ममता बनर्जी

ये भी पढ़ें:-  खुशखबर : राज्य कर्मचारियों को साल में दो बार पदोन्नति के मौके की सौगात!

दोनों के बीच मोबाइल पर होता था संपर्क
ईडी को छापेमारी में उनके आवास से संपत्ति के ज्वाइंट सेल डीड मिली है। संयुक्त नाम से सेल डीड से यह पता चलता है कि दोनों संयुक्त रूप से संपत्तियों को खरीद रहे थे। ईडी को पार्थ चटर्जी के आवास से अर्पिता मुखर्जी की संपत्ति के दस्तावेज भी मिले हैं। इसके अलावा दोनों की संयुक्त संपत्ति से जुड़े कागजात भी ईडी के हाथ लगे हैं। पार्थ चटर्जी हमेशा अर्पिता से संपर्क में रहता था और अर्पिता के साथ उसकी मोबाइल के जरिए बातचीत चलती रहती थी। 

अर्पिता मुखर्जी से जुड़ी कंपनियों में पैसा लगाने की थी योजना
अर्पिता मुखर्जी ने ईडी की पूछताछ में स्वीकार किया कि ये नकदी पार्थ चटर्जी की है। जांच में खुलासा हुआ कि, अगर ईडी अर्पिता मुखर्जी के घर छापामारी नहीं करती तो यहां मिली नकद राशि को एक-दो दिन में घर से बाहर ले जाने का पूरा प्लान था। जांच सामने आया है कि, पार्थ अर्पिता मुखर्जी से जुड़ी कंपनियों में भी पैसा लगाने जा रहा था। 

Must Read: भीड़ जुटाने को लेकर भाजपा-कांग्रेस एकमत, पब्लिक हेल्थ प्राथमिकता में नहीं

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :