सिरोही एसपी पर कांस्टेबल के गंभीर आरोप: सिरोही पुलिस अधीक्षक की कार्यशैली पर विधायक, सांसद ने उठाए सवाल तो पुलिस के ही कांस्टेबल ने लगा दिया रिश्वत मांगने का आरोप

सिरोही जिले से अवैध शराब की तस्करी मामले में एक पुलिस कांस्टेबल ने सनसनीखेज खुलासा किया है। कांस्टेबल ने कैमरे के सामने आकर सिरोही एसपी हिम्मत अभिलाष टांक पर गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि शराब की तस्करी सिरोही में खुले रूप से होती है और उसी के तहत उसे भी शिकार बनाया गया है।

सिरोही पुलिस अधीक्षक की कार्यशैली पर विधायक, सांसद ने उठाए सवाल तो पुलिस के ही कांस्टेबल ने लगा दिया रिश्वत मांगने का आरोप

सिरोही।
सिरोही जिले से अवैध शराब की तस्करी मामले में एक पुलिस कांस्टेबल ने सनसनीखेज खुलासा किया है। कांस्टेबल ने कैमरे के सामने आकर सिरोही एसपी हिम्मत अभिलाष टांक पर गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि शराब की तस्करी सिरोही में खुले रूप से होती है और उसी के तहत उसे भी शिकार बनाया गया है। आबूरोड में सिपाही देवेंद्र कुमार ने आरोप लगाया कि एसपी हिम्मत अभिलाष टांक ने उससे डेढ़ लाख रुपए की मांग की, जब उसने डेढ़ लाख रुपए नहीं दिए तो उसे सस्पेंड कर लाइन भेज दिया गया। 
शराब तस्कर पर कार्रवाई की तो खफा हो गए एसपी साहब


कांस्टेबल देवेंद्र कुमार ने बताया कि वह आबूरोड में तैनात था उस दौरान उसने शराब तस्कर के विरुद्ध कार्रवाई की थी। इससे एसपी खफा हो गए, उसके कुछ दिन बाद उसे एक मामले में आरोपियों को पकड़ने के लिए चेन्नई भेजा, जहां आरोपी नहीं मिला तो वापस आते ही उस पर आरोपी से तीन लाख रुपए लेने का आरोप लगाया। साथ ही उससे सिपाही तेजाराम के मार्फत डेढ़ लाख रुपए की मांग रखी गई। देवेंद्र कुमार से स्पष्ट शब्दों में कहा गया कि पैसे नहीं दिए गए तो निलंबित कर दिया जाएगा। और उसके कुछ दिनों बाद ही 19 अप्रेल को उसे निलंबित कर दिया गया। कांस्टेबल देवेंद्र का आरोप है कि एसपी हिम्मत अभिलाष की ओर से उसके खिलाफ की गई निलंबन की कार्रवाई द्वेषतापूर्वक की गई है, उसका मानना हैं कि यदि उसने शराब तस्करी के विरुद्ध कार्रवाई नहीं की होती तो उसे निलम्बित नहीं होना पड़ता। कांस्टेबल देवेंद्र ने कहा कि शराब तस्करों के इशारे पर उसे निलंबित किया है, जबकि उसने किसी प्रकार की राशि नहीं ली थी। एसपी हिम्मत अभिलाष टांक पर एक पुलिस कांस्टेबल द्वारा इतने गम्भीर आरोप लगाने पर जब हमने खुद एसपी से बात करने की कोशिश की। लेकिन उन्होंने हमारा फोन ही नहीं उठाया।

कांस्टेबल ने जयपुर ACB में की शिकायत
निलंबन के बाद देवेंद्र ने जयपुर ACB में शिकायत की। 22 अप्रेल को देवेंद्र से ACB ने शिकायत ईमेल करने को कहा। ईमेल मिलते ही टीम जयपुर से सिरोही के लिए निकल गई। टीम 22 अप्रेल को सिरोही की एक निजी होटल में ठहरी। ACB ने सत्यापन किया था कि सिरोही में मिलीभगत से शराब तस्करी हो रही है, लेकिन कोई कार्रवाई किए बिना दूसरे दिन ACB टीम वापस लौट गई। अब जयपुर से आई टीम पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। परिवादी कांस्टेबल अब यह उम्मीद लगाए है कि उसे जल्द ही न्याय मिलेगा।

सिरोही में आबकारी की कार्रवाई ने खड़ा किया था सवाल
सिरोही जिले में रविवार को आबकारी पुलिस की 5 जिलों की टीम ने कार्रवाई करते हुए करीबन 1900 कर्टन अवैध शराब के जब्त किए, 11 लोगों को गिरफ्तार किया और 15 गाड़ियों को जब्त किया गया। आबकारी की कार्रवाई ने पुलिस की साख और कार्यशैली पर सवाल खड़ा कर दिया। चौंकाने वाली बात यह है कि कार्रवाई में स्थानीय पुलिस और आबकारी अधिकारियों को दूर रखा गया। सामने आया कि अधिकारियों को भी संदेह था कि बिना किसी सरकारी तंत्र के सपोर्ट के इतना बड़ा रैकेट चलाना संभव नहीं है।

विधायक ने किया ट्वीट, सिरोही पुलिस पर कार्रवाई कब 


सिरोही के पिंडवाडा विधायक समाराम गरासिया ने सिरोही में अवैध शराब तस्करी को लेकर सोशल मीडिया पर लगातार पोस्ट किए है। आबकारी की इस कार्रवाई से पहले जहां अवैध शराब तस्करी पर सवाल उठाए तो बाद में मुख्यमंत्री जी से तस्करी में मदद करने वाले पुलिस अधिकारियों पर कार्रवाई कब तक करने का सवाल किया। विधायक ने लिखा कि सिरोही में आखिर लाइन तो हुई लीकेज। अब लाइन चलाने वालों पर कार्रवाई कब।

सांसद बेनिवाल ने भी सोशल मीडिया पर उठाए सवाल


सांसद हनुमान बेनिवाल ने आबकारी की कार्रवाई के बाद सिरोही पुलिस अधीक्षक टांक पर सवाल उठाए। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि आबकारी विभाग के जिम्मेदारों व एसपी सिरोही की भूमिका की जांच राज्य सरकार को एडीजी रैंक के अधिकारी के निर्देशन में करवाने की जरूरत है जबकि जांच एडिशनल एसपी को दी गई ,आखिर एक एडिशनल एसपी,SP की भूमिका की जांच कैसे करेगा ? 
इतना ही नहीं, बेनिवाल ने तो एसपी टांक के बारे में यहां तक लिख दिया कि विगत वर्ष जब लॉकडाउन शुरू हुआ तब जो जालोर जिले के SP थे और चौथ वसूली करवाकर लोगो को गुजरात की सीमा से जालोर जिले में एंट्री करा रहे थे इस कारण उन्हें वहां से तब हटाया गया था और ऐसे व्यक्ति को ही फिर से सिरोही एसपी लगा दिया गया।

Must Read: BJP विधायक के नंबर से पीएम मोदी के खिलाफ मैसेज वायरल, मैसेज में व्यंग्यात्मक लहजे में मोदी की हग डिप्लोमैसी पर सवाल

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :