Rajasthan @ परीक्षा में नेटबंदी: राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षाओं के दौरान नेटबंदी को लेकर भाजपा ने गहलोत सरकार पर लगाए आरोप, सरकार नाकामी छुपाने का कर रही है प्रयास

राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षाओं के दौरान इंटरनेट बंद करने के मामले में भाजपा ने गहलोत सरकार पर फेल होने के आरोप लगाए। नेटबंदी पर सरकार को आड़े हाथों लेते हुए भाजपा ने परीक्षा में सरकार का फेल होना बताया।

राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षाओं के दौरान नेटबंदी को लेकर भाजपा ने गहलोत सरकार पर लगाए आरोप, सरकार नाकामी छुपाने का कर रही है प्रयास

जयपुर।
राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षाओं के दौरान इंटरनेट बंद करने के मामले में भाजपा ने गहलोत सरकार पर फेल होने के आरोप लगाए। नेटबंदी पर सरकार को आड़े हाथों लेते हुए भाजपा ने परीक्षा में सरकार का फेल होना बताया। भाजपा के मुख्य प्रवक्त रामलाल शर्मा ने कहा कि राजस्थान में चाहे जो भी परीक्षा हो, गहलोत सरकार आमजन को परेशान करने के लिए मोबाइल नेट बंद कर देती है। लेकिन सरकार ये भूल जाती है कि नेट बंदी पेपर आउट या नकल को रोकने का एक मात्र उपाय नहीं है। पिछली प्रतियोगी परीक्षाओं में नेटबंदी होने के बावजूद पेपर आउट हुए, नकल गिरोह सामने आए। सरकार इस ओर ध्यान नहीं देती है कि वे केवल मोबाइल का इंटरनेट बंद कर रही है, जबकि ब्रॉडबैंड कनेक्शन और वाईफाई परीक्षा के दौरान भी चालू रहता है। अपराधी या नकल गिरोह कैसे भी अपराध कर लेगा। लेकिन मोबाइल इंटरनेट बंद करने से आम जनता के साथ व्यापारियों को बड़ा नुकसान होता है।


प्रदेश में करोड़ों रुपए का ऑनलाइन ट्रांजेक्शन्स प्रभावित
भाजपा मुख्य प्रवक्ता विधायक रामलाल शर्मा ने कहा कि नेटबंदी करने से राज्य में लाखों—करोड़ों रुपए का व्यापार प्रभावित हो रहा है। त्योहार के सीजन में व्यापारियों को एक दिन नेटबंद करने से ऑनलाइन ट्रांजेक्शन्स अटक रहे है। दिवाली से कुछ दिन पहले लोग खरीदारी कर रहे है तो इसमें बड़ी परेशानी हो रही है।
कमजोरियां छुपाने के लिए नेटबंदी
विधायक शर्मा ने कहा कि राजस्थान सरकार अपनी कमजोरियों और नाकामियों को छुपाने के लिए नेटबंदी जैसा कदम उठा रही है। एक परीक्षा में नकल गिरोह को पड़कने में विफल सरकार पूरे प्रदेश के लोगों को परेशान कर रही है। यह इंटरनेट सेवा बंद कर देना कतई जायज नहीं है। इतना ही नहीं राजस्थान में आए दिन इंटरनेट बंद कर दिया जाता है। सरकार ने इसे एक मात्र विकल्प बना लिया। आज हालात ऐसे हो गए कि जो भी परीक्षा हो, उसमें नेटबंद किया जाता है, लेकिन इसके बावजूद उसमें निष्पक्षता नहीं नजर आती। मुन्नाभाई और धांधलियां फिर भी सामने आ जाती है। पुलिस कार्रवाई कर परीक्षा में नकल गिरोह का लगातार पर्दाफाश कर रही है, ऐसे में यह कहा जा सकता है कि निष्पक्ष परीक्षा आयोजित करने में राजस्थान सरकार विफल हो गई। 

Must Read: आबू पर्वत भाजपा युवा मोर्चा नगर अध्यक्ष नरपत दान चारण ने राज्यपाल से की भेंट, लोगों की सुविधाओं के लिए दिया ज्ञापन

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :