राजस्थान रॉयल्टी ठेकों की नीलामी : राजस्थान में 472 करोड़ रुपए आरक्षित राशि के 74 रॉयल्टी ठेकों की ई-ऑक्शन से नीलामी प्रक्रिया शुरु

अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस, पेट्रोलियम एवं ऊर्जा डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया है कि राज्य सरकार ने खनन पट्टों से निकलने वाले खनिज पर देय राजस्व की वसूली के लिए 74 रॉयल्टी ठेकाें की ई-प्लेटफार्म पर नीलामी प्रकिया शुरु कर दी है।

राजस्थान में 472 करोड़ रुपए आरक्षित राशि के 74 रॉयल्टी ठेकों की ई-ऑक्शन से नीलामी प्रक्रिया शुरु

जयपुर।
राज्य के माइंस एवं पेट्रोलियम विभाग ने राजस्व बढ़ाने के प्रयासों में तेजी लाना शुरु कर दिया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस, पेट्रोलियम एवं ऊर्जा डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया है कि राज्य सरकार ने खनन पट्टों से निकलने वाले खनिज पर देय राजस्व की वसूली के लिए 74 रॉयल्टी ठेकाें की ई-प्लेटफार्म पर नीलामी प्रकिया शुरु कर दी है।
एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि यह ठेके खनिजों के जारी खनन पट्टों आदि से निकाले जाने वाले खनिज पर वसूल किए जाने वाले रॉयल्टी कलेक्शन कॉन्ट्रेक्ट (आरसीसी), एक्सेस रॉयल्टी कलेक्शन कॉन्ट्रेक्ट (ईआरसीसी), जिला स्तरीय मिनरल फाउण्डेशन ट्रस्ट (डीएमएफटी), राज्य स्तरीय मिनरल एक्सप्लोरेशन ट्रस्ट (आरएसएमईटी) आदि के दिए जाएंगे।
उन्होंने बताया कि 472 करोड़ रुपए से अधिक की आरक्षित राशि के इन ठेकाें की ई-नीलामी सूचना जारी कर दी गई है।
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि विभाग ने ई-ऑक्शन की पारदर्शी व्यवस्था से राज्य के 74 रॉयल्टी ठेकों की ई-नीलामी के लिए विभागीय वेबसाइट पर विस्तृत जानकारी के साथ ही भारत सरकार द्वारा प्रधान खनिजों के नीलामी के ऑनलाईन एमएसटीसी पोर्टल पर ई-नीलामी की जानकारी उपलब्ध कराई गई है।
इससे देश-दुनियां में कहीं से भी कोई भी व्यक्ति इस ई-नीलामी प्रक्रिया में हिस्सा ले सकेगा। उन्होंने बताया कि ई-ऑक्शन में हिस्सा लेने वाले इच्छुक व्यक्तियों को भारत सरकार के पोर्टल पर पंजीयन कराना होगा वहीं पहले से पंजीकृत व्यक्ति, फर्म या कंपनी को दुबारा पंजीयन नहीं कराना होगा।
एसीएस डॉ. अग्रवाल ने बताया कि यह ठेके मुख्यतः  ग्रेनाइट, जिप्सम, मारबल, मेसेनरी स्टोन, क्वार्टज, फैल्सपार, सोपस्टोन, डोलोमाइट, सिलिका सेंड आदि की खानों से आरआरसी, ईआरआरसी, डीएमएफटी, आरएसएमईटी आदि के शुल्क, अधिशुल्क वसूली के लिए दिए जा रहे हैं।
ई-प्लेटफार्म पर पारदर्शी व्यवस्था से नीलामी से स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा होने के साथ ही राजस्व वृद्धि की भी संभावना हो जाती है। नीलामी के बाद ठेका किसी अन्य को हस्तांतरण, सबलेट तथा सरेण्डर नहीं किया जा सकेगा।
सिरोही सहित प्रदेश के 19 जिलों में ठेके
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि आरसीसी, ईआरसीसी, डीएमएफटी और आरएसएमईटी आदि के यह ठेकें 19 जिलों के खनि अभियंताओं के क्षेत्राधिकार के हैं। इनमें जयपुर, अजमेर, जोधपुर, बाड़मेर, उदयपुर, सिरोही, नागौर, भीलवाड़ा, पाली, भरतपुर, करौली, बूंदी, चित्तोडगढ़, दौसा, अलवर, डूंगरपुर, सीकर, राजसमंद, झालावाड क्षेत्राधिकार के खनन क्षेत्रों से संबंधित हैं।
माइंस निदेशक कुंज बिहारी पण्ड्या ने बताया कि रॉयल्टी ठेकों की नीलामी की विस्तृत जानकारी में ठेकों से संबंधित शर्तें, नियम, प्रक्रिया आदि विभागीय वेबसाइट पर भी देखी जा सकती है। उन्होंने बताया कि ठेकों की नीलामी प्रक्रिया को पारदर्शी और सुगम बनाने के लिए ही विभाग ने भारत सरकार के पोर्टल के माध्यम से नीलामी की व्यवस्था की है।
निदेशक पण्ड्या ने बताया कि दस करोड़ रुपए से अधिक की बिड राशि के ठेकों में ठेकेदार को स्वयं के खर्चें पर कम्प्यूटराइज्ड तुला यंत्र यानी की कम्प्यूटरीकृत तुलाई मशीन लगानी होगा। ई-नीलामी 19 से 22 अप्रेल और 10 मई को रखी गई है।

Must Read: पाली पहुंची 20 लाख लीटर पानी से भरी हुई वाटर ट्रेन, जोधपुर से पाली रोजाना पहुंचेगा 80 लाख लीटर जल

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :