Rajasthan @ उपचुनाव उम्मीदवार की घोषणा: प्रदेश में वल्लभनगर और धरियावद सीट पर उपचुनाव के लिए उम्मीदवार की घोषणा,कांग्रेस ने दिवंगत विधायक की पत्नी को दिया टिकट

भाजपा की ओर से वल्लभनगर से हिम्मत सिंह झाला और धरियावद से खेत सिंह मीणा के नाम की घोषणा कर दी। इसके बाद कांग्रेस पार्टी ने भी दोनों उम्मीदवारों के नाम जारी कर दिए। कांग्रेस ने वल्लभनगर से पूर्व विधायक दिवंगत गजेंद्र सिंह शक्तावत की पत्नी प्रीति शक्तावत को टिकट दिया है,

प्रदेश में वल्लभनगर और धरियावद सीट पर उपचुनाव के लिए उम्मीदवार की घोषणा,कांग्रेस ने दिवंगत विधायक की पत्नी को दिया टिकट

जयपुर।
राजस्थान में दो सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए दोनों ही प्रमुख पार्टियों की ओर से उम्मीदवारों के नाम जारी कर दिए गए है। उम्मीदवारों के नामों की घोषणा होने के साथ ही उपचुनाव में मुकाबला टक्कर का हो गया। गुरुवार सुबह पहले जहां भाजपा की ओर से वल्लभनगर से हिम्मत सिंह झाला और धरियावद से खेत सिंह मीणा के नाम की घोषणा कर दी।

इसके बाद कांग्रेस पार्टी ने भी दोनों उम्मीदवारों के नाम जारी कर दिए। कांग्रेस ने वल्लभनगर से पूर्व विधायक दिवंगत गजेंद्र सिंह  शक्तावत की पत्नी प्रीति शक्तावत को टिकट दिया है, वहीं धरियावद से नगराज मीणा को मैदान में उतारा गया है। वल्लभनगर और धरियावद में 30 अक्टूबर को चुनाव होने है। भाजपा ने धरियावद में ​दिवंगत विधायक गौतम लाल मीणा के परिवार में से किसी को भी टिकट नहीं दिया। इस सीट से गौतम मीणा के परिवार से कन्हैयालाल मीणा टिकट के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। वहीं दूसरी ओर दिवंगत विधायक गौतम मीणा के परिवार से किसी को टिकट देना पार्टी में चर्चा का विषय बना हुआ है। जबकि बताया जा रहा है कि यहां से नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के समर्थक खेत सिंह मीणा को पार्टी ने टिकट दिया है।

हालांकि कांग्रेस पार्टी ने दिवंगत ​विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत की पत्नी प्रीति शक्तावत को टिकट देकर उनके भाई की दावेदारी साफ कर दी। इसी सीट से  गजेंद्र सिंह के भाई भी टिकट की दावेदारी कर रहे थे, लेकिन कांग्रेस ने सहानुभूति फैक्टर का फायदा लेने की उनकी पत्नी को टिकट दिया है। भाजपा पार्टी ने वल्लभ नगर से नया दांव चलते हुए हिम्मत सिंह झाला को टिकट दिया। बताया यह भी जा रहा है कि इस सीट पर भारी विवाद के बाद टिकट तय हुआ है। इस सीट से पूर्व विधायक रणधीर सिंह भींडर की पत्नी को टिकट देने की चर्चा थी। लेकिन यहा कटारिया के विरोध के चलते इन्हें टिकट नहीं दिया गया। अब रणधीर सिंह की पत्नी इस चुनाव में निर्दलीय मैदान में उतर गई। आप को बता दें कि  गजेंद्र सिंह शक्तावत को कोरोना हो गया था, और उनके निधन होेने पर सीट खाली हो गई। शक्तावत पायलट खेमे के माने जाते थे।

Must Read: राजस्थान लोक सेवा आयोग ने एसआई भर्ती परीक्षा 2021 का परिणाम किया जारी, अब होंगे साक्षात्कार

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :