विधायक का कारागृह निरीक्षण: सिरोही कारागृह में कोरोना पॉजिटिव कैदियों को 7 दिन से कोई चिकित्सक नहीं पहुंचा जांच करने, शिकायत पर पहुंचे विधायक

सिरोही। सिरोही जिला कारागृह में गत सात दिन में कोरोना पॉजिटिव कैदियों की चिकित्सकों द्वारा एक बार भी जांच न करने की कैदियों के परिजनों की शिकायत मिलने पर विधायक संयम लोढा पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष टांक के साथ जिला कारागृह पहुंचे। लोढा राज्य सरकार की ओर से गठित जिला कारागृह समिति के सदस्य भी है।

सिरोही कारागृह में कोरोना पॉजिटिव कैदियों को 7 दिन से कोई चिकित्सक नहीं पहुंचा जांच करने, शिकायत पर पहुंचे विधायक


सिरोही।
सिरोही जिला कारागृह में गत सात दिन में कोरोना पॉजिटिव कैदियों की चिकित्सकों द्वारा एक बार भी जांच न करने की कैदियों के परिजनों की शिकायत मिलने पर विधायक संयम लोढा पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष टांक के साथ जिला कारागृह पहुंचे। लोढा राज्य सरकार की ओर से गठित जिला कारागृह समिति के सदस्य भी है। जेलर विलशन शर्मा ने बताया कि जिस दिन कैदी कोरोना पॉजिटिव आये थे उस दिन ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विवेक कुमार जेल आये थे। उसके बाद कोई भी चिकित्सक इन कोरोना पॉजिटिव कैदियों की जांच करने नहीं पहुंचा एवं कैदियों के लिए दवाई भी जेल के बजट से क्रय की गई। उन्होने बताया कि पॉजिटिव  कैदियों को जेल में ही अलग रखा जा रहा है। इनके नियमित भोजन के अलावा उन्हें हल्दी का दूध भी दिया जा रहा है। 51 कैदी कोरोना पॉजिटिव पाये गए है, इतने कैदियों को जिला चिकित्सालय में सुरक्षा देना सम्भव नहीं है। पॉजिटिव पाये गये कैदियों में हत्या के आरोपी भी है। लोढा ने जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजेश कुमार को फोन किया और कोरोना पॉजिटिव कैदियो के संबंध में बात की। उनके रेवदर क्षेत्र में होने के कारण ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विवेक कुमार को मौके पर जिला कारागृह बुलाया। लोढा ने डॉ विवेक कुमार से पूछा कि इस तरह से इतनी बड़ी चूक कैसे हुई, सात दिन में किसी चिकित्सक ने इन पॉजिटिव कैदियों की जांच नहीं की, कैदियों को पॉजिटिव आए सात दिन हो गए है। इस मौके पर पुलिस उपाधीक्षक सिरोही मदनसिंह, सिरोही कोतवाली थाना अधिकारी अनिता रानी भी उपस्थित थे। पुलिस अधीक्षक हिम्मत अभिलाष टांक ने सुरक्षा संबंधी व्यवस्थाओं की जानकारी ली।


1 चिकित्सक की ड्यूटी लगाए जेल मेंःलोढा
विधायक संयम लोढा को जेलर विलशन शर्मा ने इस संबंध में गत पांच दिनों में मुख्य चिकित्सा अधिकारी को लिखे गये दो पत्र भी दिखाए। लोढा ने ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पाबंद किया कि एक चिकित्सक की अंशकालिक ड्यूटी जेल में लगाए और इन पॉजिटिव कैदियों का नियमित परीक्षण सुनिश्चित करें। लोढा ने जेलर से पूछा किसी पॉजिटिव कैदी के ऑक्सिजन की समस्या होने पर क्या व्यवस्था की गई है। जेलर ने बताया कि महिला बैरक में ऑक्सिजन सपोर्ट वाले कैदियों के लिए व्यवस्था की जा सकती है। अभी सभी महिला कैदी सुरक्षाकर्मियों के अभाव के कारण जोधपुर में शिफ्ट कर दी गई है। 

कैदियों को मरीज समझकर करे देखभाल
विधायक संयम लोढा ने मौके पर मौजूद ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ विवेक कुमार से कहां कि कैदियों को कैदी नहीं, मरीज समझकर देखभाल करें तभी हम अपने इंसानियत का फर्ज अच्छे से निभा पाएंगे। लोढा ने ब्लॉक सीएमएचओ से जेल में ऑक्सिजन सिलेण्डर व ऑक्सिजन कॉन्सन्ट्रेटर की व्यवस्था करने को कहां जिससे जरूरत पड़ने पर तत्काल ऑक्सिजन उपलब्ध करवाया जा सके।