Jodhpur गांधी बधिर महाविद्यालय शुभारंभ: Chief Minister ने जोधपुर गांधी बधिर महाविद्यालय का उद्घाटन कर दिव्यांगजनों को पूर्ण सहयोग देने का दिया आश्वासन

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि विश्व के कुल विशेष योग्यजनों में से 80 प्रतिशत भारत में हैं। ऐसे में हम सभी का दायित्व है कि दिव्यांगों को सही जीवन जीने एवं उनकी क्षमताओं का पूर्ण उपयोग करने में सहयोग करें। इसी उद्देश्य से राजस्थान सरकार ने विशेष योग्यजनों एवं दिव्यांगों के कल्याण से जुड़ी योजनाएं बनाने में कोई कमी...

Chief Minister  ने जोधपुर गांधी बधिर महाविद्यालय का उद्घाटन कर दिव्यांगजनों को पूर्ण सहयोग देने का दिया आश्वासन

जयपुर।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि विश्व के कुल विशेष योग्यजनों में से 80 प्रतिशत भारत में हैं। ऐसे में हम सभी का दायित्व है कि दिव्यांगों को सही जीवन जीने एवं उनकी क्षमताओं का पूर्ण उपयोग करने में सहयोग करें।
इसी उद्देश्य से राजस्थान सरकार ने विशेष योग्यजनों एवं दिव्यांगों के कल्याण से जुड़ी योजनाएं बनाने में कोई कमी नहीं रखी है। प्रदेश के सभी सरकारी कार्यालयों में विशेष योग्यजन फ्रेण्डली सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। 
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शनिवार को सीएम निवास से वीडियों कॉन्फ्रेंस के माध्यम से जोधपुर स्थित गांधी बधिर महाविद्यालय के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे। सीएम ने बजट में इसे महाविद्यालय में क्रमोन्नत करने की घोषणा की थी। 
इस दौरान सीएम ने कहा कि संवेदनशीलता के बिना सेवा का कार्य संभव नहीं है। एक संवेदनशील व्यक्ति गरीबों, दीन-दुखियों एवं बेसहारा लोगों की भलाई के बारे में सोचता है। 
गहलोत के 3 कार्यकाल, 3 बार कमोन्नत 
सीएम गहलोत कहा कि मुख्यमंत्री के रूप में मेरे पहले कार्यकाल में वर्ष 2002 में इस मूक बधिर विद्यालय को सैकण्डरी स्कूल का दर्जा मिला। 
इसके बाद 2010 में दूसरे कार्यकाल में यह सीनियर सैकण्डरी स्कूल बना और मेरे तीसरे कार्यकाल में आज इसका महाविद्यालय के रूप में उद्घाटन करना सौभाग्य की बात है।
सीएम ने कहा कि मूक बधिर बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से स्थापित इस विद्यालय का कॉलेज तक का यह सफर दान-दाताओं एवं सेवाभावी लोगों की मदद से ही संभव हो पाया है।

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौर में ‘कोई भूखा नहीं सोए’ के राज्य सरकार के संकल्प को पूरा करने में जन प्रतिनिधियों, प्रबुद्धजनों, फ्रंटलाइन वर्कर्स, स्वयं सेवी संस्थाओं, दान-दाताओं एवं आमजन का अभूतपूर्व सहयोग मिला। 
राज्य सरकार ने अस्पतालों में दवाएं तथा चिकित्सा उपकरण उपलब्ध कराने के साथ ही, गरीब एवं बेसहारा लोगों की आर्थिक मदद करते हुए कोरोना के खिलाफ लड़ाई में बेहतरीन प्रबंधन किया। 
गहलोत ने कहा कि अभी कोरोना की तीसरी लहर चल रही है। देश में पिछले कुछ दिनों में संक्रमितों की संख्या लाखों में पहुंच गई है, फिर भी बड़े पैमाने पर हुए कोविड-19 वैक्सीनेशन के कारण संक्रमितों की स्थिति गंभीर नहीं है। 
मास्क लगाना और वैक्सीन ही कोरोना से बचाव के बेहतरीन उपाय हैं। सभी लोगों से वैक्सीन के दोनों डोज लगवाने की अपील की।
विशेष योग्यजनों का आरक्षण 5 प्रतिशत बढ़ाया
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि बजट में मुख्यमंत्री द्वारा जयपुर एवं जोधपुर में मूक बधिर महाविद्यालय खोलने की घोषणा से मूक बधिर बच्चों को 12वीं से आगे की पढ़ाई में आसानी होगी। 
राज्य सरकार ने पिछले तीन साल में विशेष योग्यजनों के कल्याण के लिए विभिन्न योजनाएं एवं कार्यक्रम लागू किए हैं। भर्तियों में विशेष योग्यजनों का आरक्षण बढ़ाकर 5 प्रतिशत किया गया है। 
इसके अलावा विशेष योग्यजनों को स्कूटी वितरण भी शुरू किया गया है। महाविद्यालय संचालन समिति के मुख्य सलाहकार एवं पूर्व न्यायाधीश एलएन माथुर ने कहा कि विभिन्न उच्च शिक्षण संस्थानों की स्थापना के माध्यम से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पिछले दो दशक में जोधपुर में शिक्षा क्रांति लाए हैं। 
इस महाविद्यालय में सांकेतिक भाषा के जानकार विशेष शिक्षकों, हियरिंग एड एवं स्मार्ट बोर्ड की मदद से मूक बधिर बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान की जाएगी।
 जोधपुर बधिर कल्याण समिति के अध्यक्ष किशन लाल गर्ग एवं समिति के संयोजक सोहन लाल जैसलमेरिया ने गांधी बधिर विद्यालय को महाविद्यालय बनाने की बजट घोषणा के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। 

Must Read: महंगाई की मार के बीच आम जनता को फिर झटका, अब पीएनजी के दामों में बढ़ोतरी

पढें लाइफ स्टाइल खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :