कोरोना पर सीएम का मंथन: गांवों में पांव पसार रहा है कोरोना, वार्ड पंच से लेकर पंचायत के सदस्यों के साथ ग्रामीणों को किया जाएगा जागरूक:सीएम

अब कोरोना गांवों में घुस गया है, यह विस्फोटक है। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना पर कंट्रोल के उपायों पर सोमवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लाइव हुए। सीएम गहलोत ने कहा कि अभी बातें कम, काम ज्यादा करने का समय है।

गांवों में पांव पसार रहा है कोरोना, वार्ड पंच से लेकर पंचायत के सदस्यों के साथ ग्रामीणों को किया जाएगा जागरूक:सीएम

जयपुर।
ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना पर कंट्रोल के उपायों पर सोमवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लाइव हुए। सीएम गहलोत ने कहा कि अभी बातें कम, काम ज्यादा करने का समय है। पहली लहर में हम सबको साथ लेकर चले थे। दूसरी वेब अचानक आई, उसने देश को हिलाकर रख दिया, हाहाकार मच गया। पिछली बार दवा ऑक्सीजन, वेंटीलेटर खाली पड़े रहे। इस बार एक-एक बेड की सिफारिश आती है, डॉक्टर कहते हैं कि किसे हटाकर दें। अब कोरोना गांवों में घुस गया है, यह विस्फोटक है। 
सीएम ने कहा कि इटली ने 60 साल से ऊपर वालों का तो इलाज ही बंद कर दिया था, हमारे यहां तो परंपराएं हैं कि गहने बेचकर भी इलाज करवाते हैं। हम पीएम, गृह मंत्री के सपंर्क में हैं। 15 ऑक्सीजन प्लांट को बढ़ाने की मांग की है। 70 जगह शहरों में ऑक्सीजन प्लांट लगवाए जा रहे हैं। कोरोना पर कंट्रोल के उपायों पर करीब 3 घंटे वीसी चली। सीएम, मंत्री, विपक्ष के नेता, अफसर, जनप्रतिनिधियों ने अपनी बातें रखीं। सीएम ने कहा कि हमें मदद करने से पहले यह नहीं देखना है कि वह किस पार्टी का है, हमें हर मरीज की मदद करनी है। पार्टी, जाति, धर्म से ऊपर उठकर हमें मदद करनी है। अगर 15 दिन बाद भी विस्फोटक हालत बन जाती है तो इसे रोकना मुश्किल होगा। बजट काम नहीं आएगा, अनुशासन काम आएगा।
कोरोना से मौत सुनकर रात में नींद नहीं आतीःसीएम
गहलोत ने कहा कि वैक्सीन ही हमें बचा पाएगी। मुझे और डोटासरा को साथ ही कोरोना हुआ है, हमें वैक्सीन लगी हुई थी इसलिए आपके सामने बात कर रहे हैं। ऐसे-ऐसे किस्से आ रहे हैं कि रात को नींद नहीं आती, 36 साल के युवा जा रहे हैं। कई युवा चार घंटे में ही दम तोड़ रहे हैं, हम इसकी भी स्टडी करवा रहे हैं। सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि जब तक कोरोना की चेन नहीं टूटेगी, तब तक हम कितनी ही वीसी कर लें, कोई फायदा नहीं होने वाला। पिछली बार गांव वालों ने पहरे दिए थे। क्वारैंटाइन व्यक्ति बाहर न निकलें। इस बार तो कोरोना गांव तक पहुंच चुका है, गांव के लोग सतर्क रहें। इधर, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि अभी लॉकडाउन को प्रभावी बनाने का काम करना होगा। कोरोना रोकने का लॉकडाउन ही रामबाण है। कोरोना रोकने में पंचायतीराज जनप्रतिनिधियों का बड़ा योगदान है। मैं खुद पॉजिटिव आने के बाद दो दिन उदास रहा लेकिन अब कोई दिक्कत नहीं है।
गांव में आज भी मास्क लगाने की परिपाटी नहीं
नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि गांवों में आज भी मास्क लगाने की परिपाटी नहीं है। गांवों में कोरोना ज्यादा फैल रहा है। कटारिया ने कहा, यह किसी पार्टी, जाति की बीमारी नहीं है, हम मरीज को सही जगह पहुंचाएं। बाहर से आने वालों को सख्ती से क्वारैन्टाइन किया जाए। उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि कोरोना से लड़ाई में हम मजबूती से सीएम के साथ खड़े हैं। हम आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति करते हैं, करते रहेंगे। लेकिन कोरोना से जंग में हम मुख्यमंत्री और सरकार के साथ खड़े हैं। इस वक्त पंच और सरपंचों की जिम्मेदारी बढ़ गई है। पंच सरपंच गांवों में कोविड प्रोटोकॉल की पालना करवाएं। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि कोरोना के खिलाफ हम सबको मिलकर लड़ाई लड़नी है। इस लड़ाई में हम सरकार के साथ हैं। लोग कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें। सावधानी बरतें। हम सब डॉक्टर, नर्सिंगकर्मी, पुलिस सहित कोरोना वॉरियर का सम्मान करें। हम मिलकर लड़ेंगे, कोरोना हारेगा और राजस्थान जीतेगा।

Must Read: मोदी कैबिनेट का विस्तार तो किया इससे पहले पीएम ने 12 मंंत्रियों की कर दी छुट्टी, रविशंकर, हर्षवर्धन और जावडेकर जैसे दिग्गजों ने सौंपा इस्तीफा

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :