साइबर क्राइम पर एसओजी की कार्रवाई: जालोर के नागरिक सहकारी बैंक से 86 लाख रूपए की ऑनलाइन ठगी मामले में चितलवाना का मुकेश विश्नोई सहित 3 आरोपी गिरफ्तार

जालोर में नागरिक सहकारी बैंक से कम्प्यूटर नेटवर्क (सर्वर) को हैक कर 86.42 लाख  रुपए की ऑनलाइन ठगी के मामले में राजस्थान एसओजी की टीम को सफलता हाथ लगी है। टीम ने जालोर के चितलवाना निवासी एक आरोपी सहित 3 ठगों को गिरफ्तार कर लिया।

जालोर के नागरिक सहकारी बैंक से 86 लाख रूपए की ऑनलाइन ठगी मामले में चितलवाना का मुकेश विश्नोई सहित 3 आरोपी गिरफ्तार

जालोर। 
जालोर में नागरिक सहकारी बैंक से कम्प्यूटर नेटवर्क (सर्वर) को हैक कर 86.42 लाख  रुपए की ऑनलाइन ठगी के मामले में राजस्थान एसओजी की टीम को सफलता हाथ लगी है। टीम ने जालोर के चितलवाना निवासी एक आरोपी सहित 3 ठगों को गिरफ्तार कर लिया। राजस्थान एसओजी की टीम ने एक नाइजीरियाई सहित तीन शातिर ठगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने दिल्ली में बैठकर नागरिक सहकारी बैंक के 28 खातों से ऑनलाइन ट्रांजेक्शन कर अन्य खातों में रुपए निकाले। इस गैंग ने नागरिक सहकारी बैंक में अधिक राशि वाले खाताधारकों की पहचान की। फिर उनके खातों की ट्रांजेक्शन लिमिट को बढ़ाया। हैकर्स ने इन खाताधारकों के लिंक मोबाइल फोन नम्बरों की जगह खुद के मोबाइल फोन नम्बर डाल दिए, ताकि खाताधारकों को किसी भी लेनदेन की जानकारी न हो सके। आरोपियों ने बैंक के चार ऐसे खाते को चिह्नित किया, जिसमें रकम सबसे ज्यादा थीं। फर्जी कागजातों के आधार पर 28 नए खाते खुलवाये। इसके बाद महज दो घंटे में इन 28 खातों में करीब 86 लाख रुपये ऑनलाइन ट्रांसफर कर लिए। इसके बाद तुरंत इस रकम को कई तरीके से दूसरे खातों में ट्रांसफर कर लिया। 
जानकारी के मुताबिक ठग का पता चलने पर बैंक के सीनियर मैनेजर हरीश ओझा ने 28 अक्टूबर 2020 को केस दर्ज करवाया। यह केस एसओजी को ट्रांसफर कर दिया गया। एसओजी ने 7 माह बाद तीनों ठगों को पकड़ लिया। जालोर के बैंक में ठगी के 8 दिन पहले इसी गैंग ने उंझा गुजरात के कोऑपरेटिव बैंक से भी हैकिंग के मार्फत करीब 50 लाख रुपये निकाल लिए थे। 
लोगास का ओमारोडियन, चितलवाना का मुकेष और यूपी का राषिद गिरफ्त में
एसओजी एटीएस के एडीजी अशोक राठौड़ ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी राशिद (32) निवासी धंतिया, फतेहगंज बरेली उत्तर प्रदेश का है। दूसरा आरोपी मुकेश विश्नोई (32) निवासी चितलवाला जिला जालोर है। वहीं तीसरा आरोपी ओमारोडियन ब्राइट (27) लोगास, बाड़ागरी रोड स्टेट, ईडो नाइजीरिया है। डीआईजी शरत कविराज के सुपरविजन में पुलिस इंस्पेक्टर उम्मेद सिंह सोलंकी और मनीष गुप्ता के नेतृत्व में गठित एसओजी टीम ने गैंग को पकड़ने के लिए उत्तर प्रदेश, दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में रहकर अय्यूब हसन खां उर्फ अयूब खां (20) निवासी सीबी गंज, बरेली उत्तरप्रदेश को 30 नवंबर 2020 को पकड़ा था। पूछताछ में अयूब हसन ने बताया कि उसने अपने आधार कार्ड व पैन कार्ड में कांट छांट कर अपने पिता का नाम एवं पता बदल लिया और फर्जी दस्तावेजों से 20 मोबाइल सिम जारी करवाए। इनसे 20 बैंक खाते खुलवाए। अयूब ने पूछताछ में बताया कि गैंग के ही साथी बरेली निवासी राशीद ने वहां कई स्थानीय युवकों को रुपयों का लालच देकर सैकड़ों बैंक खाते खुलवाए। उसे नेपाल सीमा जिला सिद्धार्थ नगर यू०पी० से गिरफ्तार किया गया। इसके बाद गैंग के अन्य सदस्यों के नाम सामने आए। जिन्हें नामजद कर अब गिरफ्तार किया गया है।

Must Read: रूपहले पर्दे पर राजस्थान का वैभव दिखाने के लिए फिल्म मेकर्स को मिली रियायत

पढें जालोर खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :