राजनीति: बाढ़ संकट से निपटने में मदद की अंतरराष्ट्रीय अपील करेगा पाकिस्तान

पाकिस्तान सरकार ने देश में विनाशकारी बाढ़ की स्थिति से निपटने में मदद करने के लिए अंतरराष्ट्रीय अपील करने का फैसला किया है। जुलाई से लगातार बारिश में अब तक 830 लोगों की मौत हो चुकी है। मंगलवार को राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) द्वारा पाकिस्तान में बाढ़ आपातकाल पर एक तत्काल ब्रीफिंग के दौरान निर्णय लिया गया।

बाढ़ संकट से निपटने में मदद की अंतरराष्ट्रीय अपील करेगा पाकिस्तान
Pak to launch int

इस्लामाबाद, 24 अगस्त। पाकिस्तान सरकार ने देश में विनाशकारी बाढ़ की स्थिति से निपटने में मदद करने के लिए अंतरराष्ट्रीय अपील करने का फैसला किया है। जुलाई से लगातार बारिश में अब तक 830 लोगों की मौत हो चुकी है।

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार को राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) द्वारा पाकिस्तान में बाढ़ आपातकाल पर एक तत्काल ब्रीफिंग के दौरान यह निर्णय लिया गया।

असामान्य मानसून वर्षा के कारण हुई तबाही को कम करने के लिए सहायता के लिए बाहर से मदद लेने के अलावा, प्रधान मंत्री शहबाज शरीफ ने राष्ट्र से बाढ़ पीड़ित लोगों की मदद करने की भी अपील की।

शरीफ ने कहा, मौजूदा राहत अभियान में 80 अरब रूपए (पाकिस्तानी) की जरूरत है और नुकसान को दूर करने के साथ-साथ पीड़ितों के पुनर्वास के लिए भी सैकड़ों अरबों रुपये की जरूरत है।

शरीफ ने कहा कि, उनकी सरकार पहले से ही 37.2 बिलियन रूपए नकद राहत के रूप में वितरित कर रही है, जबकि 5 बिलियन की धनराशि बचाव प्रयासों में तेजी लाने के लिए एनडीएमए को तुरंत जारी की गई है।

उन्होंने कहा कि, बाढ़ पीड़ितों को 5,000 पाकिस्तानी रूपए नकद सहायता दी जा रही है।

एनडीएमए के अनुसार, बाढ़ में 1,348 लोग घायल भी हुए हैं, जिससे देश भर में हजारों लोग बेघर हो गए हैं। बलूचिस्तान में सबसे ज्यादा 232 मौतें हुई हैं, इसके बाद सिंध में 216 मौतें हुई हैं।

इस बीच, पाकिस्तान मौसम विज्ञान विभाग ने बुधवार से देश के विभिन्न हिस्सों में और बारिश की भविष्यवाणी की है। हालांकि, सप्ताहांत से मानसून की गतिविधि कम होने की संभावना है, डॉन न्यूज ने वेदरमैन के हवाले से बताया।

पाकिस्तान मौसम विज्ञान विभाग ने यात्रियों और पर्यटकों को पूवार्नुमान अवधि के दौरान सतर्क रहने की सलाह दी है। संबंधित अधिकारियों को सर्तक रहने और आवश्यक एहतियाती कदम उठाने की सलाह दी गई है।

Must Read: चीन के बेल्ट एंड रोड को अमेरिका की ओर से चुनौती

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :