सुलगता सवाल: जब पंजीयन ही नहीं था, फिर कैसे विमंदित बालिका पुनर्वास गृह में नौ बच्चियों को आठ माह से रखा

सुलगता सवाल यह है कि आठ महीनों से यह पुनर्वास गृह बिना पंजीयन संचालित हो रहा था, फिर संबंधित विभाग के अफसर क्यों चैन की नींद सो रहे थे। सरकार उन्हें काम करने का पैसा दे रही हैं, फिर भी उन्होंने राजकार्य में लापरवाही बरती। जिला प्रशासन को उन अफसरों के खिलाफ सख्त कदम उठाने चाहिए।

जब पंजीयन ही नहीं था, फिर कैसे विमंदित बालिका पुनर्वास गृह में नौ बच्चियों को आठ माह से रखा
जालोर। दुष्कर्म की घटना के बाद विवादों में आया आहोर का स्नेहा मानसिक विमंदित बालिका पुनर्वास गृह आठ महीनेे से फर्जी तरीके से संचालित हो रहा था। माधोपुरा में चल रहे गृह का न तो सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग एवं ना ही बाल कल्याण समिति में रजिस्ट्रेशन है। एनजीओ के नाम पर आश्रम खोलते हुए अवैध तरीके से विमंदित नौ बालिकाओं को यहां पर रखा जा रहा था। संचालन जय भीम विकास सेवा संस्थान नाम के एनजीओ द्वारा किया जा रहा था, जो संचालक के पति का है। तीन दिन पहले इसमें काम करने वाली महिला के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आने के बाद पुलिस ने संचालिका अनिताराज मेघवाल व दुष्कर्म के आरोपी जैपाराम देवासी को गिरफ्तार कर लिया है। प्रशासन ने यहां रह रही नौ बालिकाओं को उनके घर भेज दिया है। पर सुलगता सवाल यह है कि आठ महीनों से यह पुनर्वास गृह बिना पंजीयन संचालित हो रहा था, फिर संबंधित विभाग के अफसर क्यों चैन की नींद सो रहे थे। सरकार उन्हें काम करने का पैसा दे रही हैं, फिर भी उन्होंने राजकार्य में लापरवाही बरती। जिला प्रशासन को उन अफसरों के खिलाफ सख्त कदम उठाने चाहिए।
जानकारों की नजर में अगर कोई एनजीओ दिव्यांग जन क्षेत्र में कार्य करना चाहता है तो परसन विद डिसएबिलिटी एक्ट (पीडब्ल्यूयूडीए) के तहत उसका रजिस्ट्रेशन जरूरी है। सात फरवरी 1996 से लागू यह एक्ट विकलांगों के शिक्षा, रोजगार, व्यवसाय, प्रशिक्षण, आरक्षण, अनुसंधान तथा देश की भागीदारी में उनकी वकालत करता है। नाबालिग बालिकाओं को रखा जाता है तो जेजे एक्ट के तहत रजिस्ट्रेशन बाल कल्याण समिति में होना जरूरी है। सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक सुभाषचंद्र मणि कहते हैं कि दिव्यांगजन क्षेत्र में कोई एनजीओ काम करता है तो पीडब्ल्यूडी एक्ट में रजिस्ट्रेशन अनिवार्य होता है। जालोर में दो संस्था का रजिस्ट्रेशन हमारे पास है। स्नेहा मानसिक विमंदित बालिका पुनर्वास गृह का कोई रजिस्ट्रेशन नहीं है। प्रशासन की ओर से जांच की जा रही है।
स्नेहा मानसिक विमंदित बालिका पुनर्वास गृह में कामकाज करने वाली महिला के साथ दुष्कर्म मामले में पुलिस ने मंगलवार को संचालिका समेत दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जूडिशियल कस्टडी में भेज दिया है। पीड़िता का पुलिस ने मंगलवार को मेडिकल करवाकर कोर्ट में बयान भी दर्ज करवा लिए। दो दिन पहले पुनर्वास गृह में काम करने वाली 27 वर्षीय पीड़िता ने संचालिका समेत पांच के खिलाफ एक महीने पहले रेप और रेप के लिए मजबूर करने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया था। आहोर पुलिस ने गृह संचालिका अनिता राज मेघवाल व आहोर निवासी जैपाराम देवासी को गिरफ्तार किया। जैपाराम का मेडिकल कारोबार है।
पीड़िता ने संचालिका अनिता राज की मिलीभगत से जैपाराम, राजेश कुमार व मुकेश कुमार के साथ एक अन्य के खिलाफ रेप का आरोप लगाया। एक महीने पहले राजेश कुमार नाम के व्यक्ति ने कोल्ड ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाते हुए उसके साथ रेप किया था। मुकेश कुमार पर भी आरोप लगाया, जिसे पुलिस विभाग से बताया है। पुलिस विभाग का कर्मचारी ऐसी वारदात में संलिप्त होने के कारण इस मामले में पुलिस पूरी गंभीरता बरत रही है। एसपी हर्षवर्धन अग्रवाला की मानें तों पुलिस ने गुरुवार को इस नाम वाले सभी पुलिसकर्मियों की शिनाख्त परेड करवाई, लेकिन पीड़िता ने किसी को नहीं पहचाना। पीड़िता का आरोप है कि एक महीने पहले आहोर निवासी जैपाराम देवासी संस्थान में आया। यहां पर जैपाराम ने महिला के साथ रेप किया था। यह सब संचालिका की जानकारी में हुआ था।
कलेक्टर निशांत जैन ने बाल कल्याण समिति की टीम, आहोर एसडीएम, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग और बाल अधिकारिता विभाग के अधिकारियों को मौके पर भेजा। बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष नैन सिंह शंखवाली, सदस्य रमेशकुमार, मोडसिंह काबावत, आहोर उपखंड अधिकारी विवेक व्यास, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक सुभाष चन्द्र मणि, बाल अधिकारिता विभाग की परिवीक्षा अधिकारी मौर कंवर आहोर के स्नेहा मानसिक विमंदित गृह पहुंचे। बालिकाओं से बात की। परिजनों को फोन पर सूचित किया। देर शाम तक सभी आवासित बालिकाओं को उनके परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया। बालिकाओं का पारिवारिक पुनर्वास करते समय बाल कल्याण समिति ने उनके परिजनों की भी काउंसलिंग की। इस गृह में 9 बालिकाएं थी, जो एक-एक पाली व सिरोही की थी। सात बालिकाएं जालोर की हैं।
पीड़िता ने रिपोर्ट में कई गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़िता ने आशंका जताई कि रात के समय संस्था में खुलेआम शराब को परोसा जाता था। फिर विमंदित बालिकाओं के साथ भी रेप किया जाता है। ऐसे में पुलिस भी इस मामले को लेकर गंभीरता से जांच कर रही है। एसपी हर्षवर्धन अग्रवाला का कहना है कि डीएसपी और बाल कल्याण समिति के पदाधिकारियों ने इस प्रकरण में जांच शुरू की है। प्रारंभिक पड़ताल में महिला से रेप की पुष्टि हुई है। बालिकाओं से रेप की पुष्टि नहीं हुई है। मामले में रेप के आरोपी और संचालिका को गिरफ्तार किया गया है। मामले में अभी जांच चल रही है। जांच के साथ अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। पुलिस विभाग का कोई कर्मचारी अब तक इसमें लिप्त नहीं पाया गया है।

Must Read: चूरू में अमानवीयता की हद पार, नंगा कर निजी अंग में डाला सरिया

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :