ये कैसा वीकेंड कर्फ्यू: कोरोना के चलते रविवार को राजस्थान में लागू है वीकेंड कर्फ्यू, लेकिन जालोर के रानीवाड़ा में शटर खोलकर बेची जा रही है शराब,पुलिस थाने की दीवार से सटे गोदाम से भी हो रही है अवैध शराब की बिक्री

सिरोही पुलिस पर अवैध शराब तस्करी का दाग अभी साफ तक नहीं हुआ, अब जालोर पुलिस की छवी भी इस अवैध शराब ब्रिकी को लेकर खराब हो रही है। शराब माफियाओं के हौंसलें तो देखों राजस्थान सरकार का वीकेंड कर्फ्यू, रविवार को सब कुछ बंद, बावजूद जालोर के रानीवाड़ा में दुकान खोलकर शराब बेची जा रही है।

कोरोना के चलते रविवार को राजस्थान में लागू है वीकेंड कर्फ्यू, लेकिन जालोर के रानीवाड़ा में शटर खोलकर बेची जा रही है शराब,पुलिस थाने की दीवार से सटे गोदाम से भी हो रही है अवैध शराब की बिक्री

रानीवाड़ा (जालोर)।
सिरोही पुलिस पर अवैध शराब तस्करी का दाग अभी साफ तक नहीं हुआ, अब जालोर पुलिस की छवी भी इस अवैध शराब ब्रिकी को लेकर खराब हो रही है। शराब माफियाओं के हौंसलें तो देखों राजस्थान सरकार का वीकेंड कर्फ्यू, रविवार को सब कुछ बंद, बावजूद जालोर के रानीवाड़ा में दुकान खोलकर शराब बेची जा रही है।  इतना ही नहीं, इससे भी चौंकाने वाली बात तो यह है कि शराब की ब्रिकी कहीं दूर दराज के गांव या कस्बे में नहीं , बल्कि रानीवाड़ा पुलिस  थाने से सटी शराब गोदाम से भी हो रही है। ऐसे में रानीवाड़ा पुलिस थानाधिकारी पर सवाल उठना लाजमी हो गया। क्या कहीं रानीवाड़ा थानाधिकारी की मिली भगत से तो ये शराब की अवैध बिक्री नहीं हो रही। कहीं मासिक बंधी का खेल तो नहीं और ना जाने ऐसे कितने ही सवाल रानीवाड़ा पुलिस पर उठ रहे है। इनके जवाब तो या तो थानाधिकारी ही दे सकते है। 

महाराणा प्रताप चौक पर रविवार को खुली मिली दुकान


रानीवाड़ा कस्बे में राज्य सरकार के नियम कायदे लागू नही होते, तभी तो प्रदेश में रविवार को वीकेंड कर्फ्यू के चलते बाजार बंद होने के बावजूद रानीवाड़ा कस्बे में शराब की दुकानें खुली रखकर ठेकेदार खुलेआम शराब की बिक्री कर रहे हैं। दरअसल, रानीवाड़ा कस्बे के महाराणा प्रताप चौक में सरकारी लाइसेंस प्राप्त एक शराब की दुकान स्थित हैं। जहां आज रविवार को हमारी टीम ने मौके पर पहुंचकर इस दुकान का स्टिंग ऑपरेशन किया। हमारी टीम जब यहां पहुंची तो इस दुकान पर बे रोकटोक शटर खुला रखकर शराब बेची जा रही थी। ग्राहक बिना किसी बाधा के यहां से खुलेआम शराब की खरीदी कर रहे थे। और ये सारा घटना क्रम हमारे कैमरे में कैद है। शराब की दुकान पर बैठे सेल्समैन से जब पूछा गया कि यह दुकान किसकी हैं तो उसने बताया कि यह दुकान गणेशाराम देवासी की हैं। टीम ने बोगस ग्राहक बनकर शराब की नई वेरायटी की मांग की जो इस दुकान में उपलब्ध नहीं थी, तो सेल्समैन ने कहा कि रानीवाड़ा कस्बे में उनकी कुल चार दुकानें हैं आपको जो वेरायटी चाहिए वो दूसरी दुकानों पर मिल जाएगी। तब हमारी टीम इसी ठेकेदार की तीन अन्य दुकानों पर भी पहुंची, जिसमें एक दुकान जाखड़ी रोड पर स्थित हैं और ये भी लाइसेंसी दुकान है। जब हमारी टीम जाखड़ी रोड पर पहुंची तो इस दुकान का मुख्य दरवाजा बन्द था लेकिन दुकान के पिछले दरवाजे से शराब की बिक्री जारी थी। हमारी टीम ने यहां पर भी स्टिंग कर पूरे नज़ारे को कैमरे में कैद किया।


एक तो वीकेंड कर्फ्यू में बेच रहे है शराब, दूसरा एमआरपी से अधिक

हमारी टीम ने यहां भी शराब की खरीदी करने के लिए सेल्समैन से पूछा तो उसने एक बियर जिसकी एमआरपी 275 रुपये लिखी हुई थी, लेकिन सेल्समैन ने 300 रुपए की मांग की। एमआरपी से अधिक मांग करने पर पूछा तो सेल्समैन बोला "आपको चाहिए तो लो यहां तो इसी रेट में मिलेगी।" यानी एमआरपी से अधिक की वसूली यहां खुलेआम की जा रही हैं। जाखड़ी रोड के बाद हमारी टीम जालोर रोड़ स्थित इसी ठेकेदार की एक अवैध दुकान पर पहुंची। यहां पर भी खुलेआम शराब की बिक्री चल रही थी। हालांकि दुकान का मुख्य दरवाजा बन्द था पर दुकान के साइड में लगी खिड़की से यहां भी बिक्री हो रही थी। यहां पर भी निर्धारित मूल्य से अधिक दामों पर शराब का बेचान किया जा रहा हैं। पर जिम्मेदार मूकदर्शक बनी बैठे हैं। 

रानीवाड़ा पुलिस थाने से सटा शराब गोदाम, अवैध​ बिक्री
रानीवाड़ा कस्बे में शराब विक्रेताओं से पुलिस की सांठगाठ का अंदाजा लगाने के लिए ये एक तस्वीर ही काफी हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि अब हम जिस जगह की बात करने जा रहे हैं। वो अवैध शराब की दुकान रानीवाड़ा पुलिस थाने की दीवार से सटी हुई दुकान हैं। इस जगह को ठेकेदार ने शराब के गोदाम के नाम रजिस्टर्ड करवाया हुआ हैं। यानी इस जगह पर ठेकेदार सिर्फ शराब का स्टॉक रख सकता हैं, यहां से एक बोतल भी बिक्री नहीं की जा सकती। बावजूद इसके यहां खुलेआम बिक्री चल रही हैं। यहां कार्यरत सेल्समैन ने हमारी टीम को बताया कि यहां से प्रतिदिन करीब एक लाख रुपये की शराब बेची जा रही हैं। यानी पुलिस थाने की दीवार के पीछे ही अवैध कारोबार का अड्डा संचालित हो रहा हैं और पुलिस इस पूरे मामले से बेखबर हो, ऐसा कभी हो ही नहीं सकता। 

हर दिन हो मॉनिटरिंग, तय हो बीट कांस्टेबल की जिम्मेदारी

पर क्या सिर्फ एक दिन की कार्रवाई से ये पूरा सिस्टम सही हो जाएगा? क्या आज कार्रवाई करने के बाद कल से नियमों की पालना सुनिश्चित हो जाएगी? नही कदापि नही। जब तक प्रतिदिन मोनिटरिंग नही होगी। और प्रत्येक बिट कांस्टेबल की जिम्मेदारी तय नही की जाएगी तब तक ये अवैध शराब बिक्री और एमआरपी से अधिक की वसूली ऐसे ही जारी रहेगी। जिस बिट क्षेत्र में अवैध शराब की बिक्री हो रही हैं उन बिट कांस्टेबलों पर अगर कड़ी कार्रवाई की जाए तो जिले में शराब कीएक बूंद भी अवैध तरीके से नही बेची जा सकती। पर ऐसा नही करने से सिर्फ एक दिन की औपचारिकता कर पुनः वही ढर्रा शुरू होता हैं जो कल तक चलता आ रहा था।

"मेरे ध्यान में नहीं, कार्रवाई करवाता हूँ"

इस पूरे स्टिंग के बाद जब हमने जालोर एसपी श्यामसिंह से टेलीफोन पर बातचीत की तो उन्होंने पूरे मामले से अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कहा कि ऐसी जानकारी मेरे पास नहीं हैं। आपने बताया हैं तो अभी कार्रवाई करवाता हूँ। हालांकि हमारा फोन कट होते ही एसपी ने रानीवाड़ा थाने में फोन कर थानाधिकारी को तुरन्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। 

Must Read: गुजरात की क्राइम ब्रांच ने बडग़ांव से तीन शातिर दबोचे

पढें जालोर खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :