अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन का बयान: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा यूक्रेन से रूस का सैनिक पीछे हटाने के दावे पर भरोसा नहीं

यूक्रेन के पास रूसी सैनिकों की तैनाती के बाद एक बार तो हालात गर्म हो गए। हालांकि रूसी सैनिकों की वापसी की सूचना के बाद थोड़ी राहत महसूस की गई।  लेकिन अब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूस पर अविश्वास जताते हुए कहा कि रूसी सैनिकों के लौटने के वादे पर अभी भरोसा नहीं किया जा सकता। 

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा यूक्रेन से रूस का सैनिक पीछे हटाने के दावे पर भरोसा नहीं

नई दिल्ली, एजेंसी। 
यूक्रेन के पास रूसी सैनिकों की तैनाती के बाद एक बार तो हालात गर्म हो गए। हालांकि रूसी सैनिकों की वापसी की सूचना के बाद थोड़ी राहत महसूस की गई।
 लेकिन अब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने रूस पर अविश्वास जताते हुए कहा कि रूसी सैनिकों के लौटने के वादे पर अभी भरोसा नहीं किया जा सकता। 
अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा कि अमेरिकी अधिकारियों ने अभी तक रूस के उस दावे को कंफर्म नहीं किया जिसमें उसने रूसी सैनिकों के पीछे हटने की बात कही है। 
व्हाइट हाउस से संबोधित करते हुए राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा कि रूसी सेना की अब भी आक्रमण की स्थिति बनी हुई है। 
रूस की ओर से हमले की आशंका बनी हुई है, लेकिन हम डिप्लोमैटिक तरीके से इस हमले को रोकने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हालांकि बाइडेन ने यह भी स्पष्ट किया कि यूक्रेन में अमेरिकी सैनिकों को भेजने का कोई इरादा नहीं है। 
हमने संभावित हमले से बचने के लिए यूक्रेन को सैन्य उपकरण और प्रशिक्षण दिया हैं। 
राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा कि यूक्रेन रूस के लिए खतरा नहीं है। यूक्रेन में अमेरिका और नाटो के पास मिसाइलें नहीं है। हम रूस को अस्थिर नहीं करना चाहता, आप हमारे दुश्मन नहीं हैं।


हम नाटो देशों के साथ मजबूती से खड़े होने के लिए प्रतिबद्ध है। बाइडेन ने कहा कि अमेरिका नाटो के इलाके में मौजूद एक—एक इंच जमीन की रक्षा करेगा। अगर नाटो देश के साथ हमला होता है तो वह हमला हम सभी के खिलाफ होगा। 
उन्होंने कहा कि राष्ट्रों को संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का अधिकार है, हालांकि हम बुनियादी सिद्धांतों से समझौता किसी भी हालत में नहीं करेंगे। 
अमेरिका राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा कि हमें भरोसा है कि आप भी यूक्रेन के खिलाफ विनाशकारी युद्ध नहीं चाहते है। 
आपको बता दें कि पूर्वी यूरोप में सैन्य तनाव कम करने के लिए अमेरिका व रूस के डिप्लोमैथ्टक कोशिशें जारी हैं। 
अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने मंगलवार को ही रूस के सामने चिंताओं को जाहिर किया था। एंटनी ने रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव से बात की थी। 
दोनों विदेश मंत्रियों ने एक बार फिर डिप्लोमैटिक तरीके से समाधान की बात दोहराई है। अमेरिकी विदेश विभाग के  प्रवक्ता के मुताबिक सेक्रेटरी ब्लिंकन ने हमारी चिंताओं को जाहिर किया है। 
हमने सीमा पर डी एस्केलेशन की बात कही है। सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने रूस की सैनिकों की वापसी वाले ऐलान पर संदेह जताया था। 

Must Read: अमेरिका में मंकीपॉक्स के 15,433 मामले, सबसे ज्यादा न्यूयॉर्क में 2,910 केस

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :