झुंझुनूं रेप पीड़िता का शिक्षक को पत्र: समाज तो दूर परिजनों ने ही नहीं समझा रेप पीड़िता का दर्द, 11 साल की पीड़िता ने टीचर को पत्र लिखकर बताया माता—पिता ही मार रहे है ताना

एक 11 साल की दुष्कर्म पीड़िता बच्ची का दर्द समाज तो दूर उसके परिजन तक नहीं समझ पाए। समाज तो दूर उसके माता—पिता तक उसे ताना मार रहे है। इतना ही नहीं, पीड़िता के साथ मारपीट की जा रही है।

समाज तो दूर परिजनों ने ही नहीं समझा रेप पीड़िता का दर्द, 11 साल की पीड़िता ने टीचर को पत्र लिखकर बताया माता—पिता ही मार रहे है ताना

झुंझुनूं।
एक 11 साल की दुष्कर्म पीड़िता बच्ची का दर्द समाज तो दूर उसके परिजन तक नहीं समझ पाए। समाज तो दूर उसके माता—पिता तक उसे ताना मार रहे है। इतना ही नहीं, पीड़िता के साथ मारपीट की जा रही है। 
ऐसे में हालात यह हो गए कि 2 माह पूर्व रेप का शिकार बच्ची अब आत्म हत्या को विवश हो गई। हालांकि आत्महत्या से पहले बच्ची ने स्कूल की टीचर को पत्र सौंपा और अपने साथ हो रहे अत्याचारों को बताया। 
इधर, रेप पीड़िता का पत्र मिलने के बाद मामला शिक्षा अधिकारी से लेकर चाइल्ड हेल्प लाइन तक होता हुआ बाल सरंक्षण आयोग तक पहुंच गया। 
आयोग बच्ची को घर से ले गया और अब परिजनों के साथ उसकी काउंसलिंग की जाएगी। इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी राम काला ने सिंघाना थाना में रिपोर्ट दी है। 
रिपोर्ट के आधार पर छात्रा के माता—पिता के खिलाफ मारपीट और उसे प्रताड़ित करने का मामला दर्ज किया गया है।

स्कूल के हेडमास्टर केशव यादव ने किया था रेप
पुलिस के मुताबिक सिंघाना पुलिस थाना इलाके में सरकारी स्कूल के हेड मास्टर ने 5 अक्टूूबर को छात्रा से स्कूल में रेप किया था। 
इसके बाद पीड़िता को जान से मारने की धमकी दी। परेशान बच्ची ने स्कूल की किताब में बाल सरंक्षण समिति के नंबर देखकर मदद मांगी थी। 
इसके बाद झुंझुनूं एसपी के निर्देश पर मामला दर्ज करते हुए हेडमास्टर केशव को गिरफ्तार किया गया। पुलिस के मुताबिक आरोपी केशव यादव संपन्न परिवार से है और उसके पिता भी शिक्षक से रिटायर्ड है। 
वहीं पिछले साल दिसंबर में ही उसकी शादी हुई थी। उसकी पत्नी भी सरकारी टीचर है। पुलिस की प्रारंभिक में सामने आया था कि आरोपी केशव यादव बच्ची से रात को अश्लील बातें करता था। 
वह बच्ची को अश्लील फोटो तक भेजता था। आरोपी ने कुछ दिन पहले ही बच्ची को धमकाकर बुलाया और उसके मोबाइल को फॉर्मेट कर दिया। पुलिस ने पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज कर कार्रवाई की थी।

Must Read: राजस्थान में बिजली संकट के बीच कालीसिंध और कोटा तापीय विद्युत गृहों से 795 मेगावाट उत्पादन शुरू

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :