Police सीआईडी के 2 जवान बर्खास्त: Barmer का कांस्टेबल नौकरी लगाने के नाम पर करता था ठगी तो Sriganganagar का हेड कांस्टेबल का अनैतिक आचरण, दोनों बर्खास्त

राजस्थान पुलिस में सीआईडी में कार्यरत दो जवानों के अनैतिक आचरण और अपराधों में लिप्त पाए जाने पर उन्हें राज्य सेवा से बर्खास्त कर दिया गया। पुलिस महानिदेशक इंटेलिजेंस उमेश मिश्रा के मुताबिक राज्य विशेष शाखा में कार्यरत हेड कांस्टेबल प्रवीण गोदारा उर्फ प्रवीण बिश्नोई और कांस्टेबल मोतीलाल व्यास को सेवा से बर्खास्त किया

Barmer  का कांस्टेबल नौकरी लगाने के नाम पर करता था ठगी तो Sriganganagar का हेड कांस्टेबल का अनैतिक आचरण, दोनों बर्खास्त

जयपुर।
राजस्थान पुलिस में सीआईडी में कार्यरत दो जवानों के अनैतिक आचरण और अपराधों में लिप्त पाए जाने पर उन्हें राज्य सेवा से बर्खास्त कर दिया गया। 
पुलिस महानिदेशक इंटेलिजेंस उमेश मिश्रा के मुताबिक राज्य विशेष शाखा में कार्यरत हेड कांस्टेबल प्रवीण गोदारा उर्फ प्रवीण बिश्नोई और कांस्टेबल मोतीलाल व्यास को सेवा से बर्खास्त किया गया है। 
मिश्रा ने बताया कि किसी भी पुलिसकर्मियों के खिलाफ गंभीर प्रकृति के मुकदमे दर्ज होना पुलिस विभाग जैसे अनुशासित बल की स्वच्छ छवि के विपरीत है। 
ऐसे में राज्य विशेष शाखा जैसी संवेदनशील शाखा की छवि धूमिल करने के आरोप में दोनों जवानों को सेवा से मुक्त करते हुए बर्खास्त कर दिया। 
श्रीगंगानगर निवासी हेड कांस्टेबल को अनैतिक आचरण 
डीजीपी इंटेलिजेंस उमेश मिश्रा ने बताया कि राज्य विशेष शाखा के हेड कॉन्स्टेबल प्रवीण गोदारा को अनैतिक आचरण पर बर्खास्त किया गया है। 
प्रवीण के खिलाफ 15 अक्टूबर 2019 को एक आपराधिक मुकदमा दर्ज हुआ। इसमें आरोप प्रमाणित पाए जाने पर 9 दिसंबर 2019 को गिरफ्तार किया गया। 
इसके बाद 10 दिसंबर 2019 को श्रीगंगानगर जिले के चुनावढ़ थाने की महिला पुलिसकर्मी को अश्लील मैसेज भेजे। धमकी भरे मैसेज भेजे जाने का मुकदमा भी दर्ज हो गया। 
हेड कांस्टेबल ने महिला पुलिसकर्मी के रिश्तेदारों तक को धमकियां दी। इसके बाद निलंबित किया गया। इस निलंबित काल में भी आरोपी साल 2020 में 234 तो 2021 में 300 दिन अनुपस्थित रहा। 
बिना बताए अनुपस्थित रहने पर 9 रिकॉल नोटिस तक जारी किए गए, 5 नोटिस तो ​तामिल तक किए। ऐसे अपराधिक और अनैतिक आचरण वाले हेड कांस्टेबल के खिलाफ बर्खास्त करने के आदेश जारी किए गए। 

बाड़मेर के कांस्टेबल से बेरोजगारों से ठगे 73 लाख रुपए
वहीं दूसरी ओर बाड़मेर के कांस्टेबल मोतीलाल व्यास ने सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर बेरोजगार युवाओं के साथ लाखों रुपए की ठगी की। 
मोतीलाल व्यास के खिलाफ 12 मुकदमे दर्ज हैं। इनमें 4 आपराधिक व 7 एन आई एक्ट के तहत दर्ज हुए। 
इनमें कुल 73 लाख 40 हजार की धोखाधड़ी के आरोप प्रमाणित पाए जाने पर दिसम्बर 2019 को सेवा से निकाल दिया गया था। 
अपील अभ्यावेदन प्रस्तुत कर लिखित में सभी परिवादियों को भुगतान कर राजीनामा करने और भविष्य में इस प्रकार का कृत्य नहीं करने का आश्वासन देने के आधार पर सितम्बर, 2020 को पुनः सेवा में बहाल कर किया गया। 
इसके बाद आरोपी कांस्टेबल मोतीलाल के विरुद्ध थाना विधायक पुरी जयपुर दक्षिण में 21 लाख रुपए हड़पने व बाड़मेर जिले के कोतवाली थाने में 3.75 लाख हड़पने का मुकदमा दर्ज हुआ। 
इसमें 5 दिसंबर 2021 को कोतवाली पुलिस ने आरोपी कांस्टेबल को गिरफ्तार कर ₹6.41 लाख बरामद किए। जयपुर दक्षिण जिले की विधायक पुरी थाना पुलिस ने भी आरोपी कांस्टेबल को 8 दिसंबर 2021 को गिरफ्तार किया। 
इसे कोर्ट में पेश कर 11 दिसंबर को न्यायिक अभिरक्षा में भिजवाया गया। 
इसके अतिरिक्त आरोपी कांस्टेबल मोतीलाल व्यास के विरुद्ध वर्तमान में 7 प्रकरण विचाराधीन है। इनमें 2 आपराधिक प्रकरण, तीन परिवाद रुपए हड़पने संबंधित तथा दो एन आई एक्ट (चेक बाउंस) के मामले में स्थाई वारंट संबंधित न्यायालय में पेंडिंग है।

Must Read: Rajasthan में 17 जनवरी से 5 फरवरी तक स्कूल स्तर पर ही होगी बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षाएं

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :