Sirohi सिन्द्रथ में नाबालिग अपहरण मामला: वाह री... सिरोही पुलिस, तंत्र विद्या के नाम पर सवा लाख रुपए की ठगी और नाबालिग किशोरी के अपहरण के मामले सिर्फ एक ही धारा 363!

सिरोही के सिन्द्रथ इलाके का मशहूर भोपा या तांत्रिक बाबा और उसके दो बेटों ने एक गरीब परिवार को डराधमका कर सवा लाख रुपए के साथ नाबालिग बेटी तक को भगाकर ले गए।

वाह री... सिरोही पुलिस, तंत्र विद्या के नाम पर सवा लाख रुपए की ठगी और नाबालिग किशोरी के अपहरण के मामले सिर्फ एक ही धारा 363!

सिरोही। 
सिरोही पुलिस के किस्से भी बड़े अजीब हैं, कभी पुलिस के कप्तान अवैध शराब तस्करी में सं​लिप्त पाए जाते हैं तो कभी थानाधिकारी तस्करों को भगाने के साथ लाखों रुपए का सौदा करने के मामले में पाए जाती है। 
लेकिन अब तो सिरोही पुलिस एक तांत्रिक बाबा या भोपा को बचाने के चक्कर में मामले को ही दबाने का प्रयास कर गई। 
सिरोही के सिन्द्रथ इलाके का मशहूर भोपा या तांत्रिक बाबा और उसके दो बेटों ने एक गरीब परिवार को डराधमका कर सवा लाख रुपए के साथ नाबालिग बेटी तक को भगाकर ले गए। 
इस पूरे मामले में सिरोही के स्वरूपगंज थाना पुलिस ने केवल 363 धारा में मामला दर्ज कर इति श्री कर ली। 
बहरहाल पीड़ित परिवार ने पुलिस अधीक्षक सिरोही के पास बेटी को बचाने के साथ ही मामले में निष्पक्ष न्याय की गुहार लगाई है। 
जानकारी के मुताबिक आज पीड़ित परिवार की ओर से पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर मांग की है कि उसकी बच्ची को आरोपियों के चंगुल से बचाया जाए और तांत्रिक बाबा व उसके दोनों बेटों के खिलाफ सख्त कार्रवाई  की जाए।

3—4 माह से तांत्रिक बाबा मोती लाल भोपा के चक्कर में फंसा है परिवार
पुलिस अधीक्षक को दिए ज्ञापन के मुताबिक पीड़ित परिवार पिछले कुछ समय से आर्थिक तंगी से गुजर रहा था। 
इसी दौरान पीड़ित परिवार की जान पहचान तांत्रिक मोतीलाल भोपा से हो गई। मोती भोपा ने पीड़ित परिवार को तंत्र मंत्र से आर्थिक तंगी दूर करने का झांसा दिया। 
मोती के दो बेटों ने भी इस परिवार को बातों में फंसा कर भूत प्रेत का डर दिखाया और इससे बचाने के लिए सवा लाख रुपए उधार मंगवा लिए। रुपयों को कपड़े में लपेट कर दे दिया, जिसमें कोयला निकला। 
तांत्रिक बाबा मोती लाल, उसके बेटे जगदीश और गोकुल ने मिलकर इस परिवार को शिकार बना लिया। पीड़ित परिवार ने आरोप लगाया है कि बाबा के दोनों बेटे उस के घर से 1.11 लाख रुपए के साथ उसकी नाबालिग 17 वर्षीय बच्ची तक को भगाकर ले गए। 
मोती भोपा ने पीड़ित परिवार के घर में सोना निकलने की बात का झांसा दिया और कहा कि कुछ समय बाद तेरे घर में सोना निकलेगा और तेरी गरीबी दूर हो जाएगी।

पुलिस ने दर्ज किया केवल 363 अपहरण का मामला
आश्चर्य तो इस बात का है कि मोती भोपा उसके दोनों बेटों ने गरीब परिवार को तंत्र विद्या के नाम पर रुपए लूटे और बच्ची तक को भगाकर ले गए। 
इसके बावजूद स्वरूपगंज पुलिस ने केवल आईपीसी की 363 धारा में मामला दर्ज कर इतिश्री कर ली। 
ऐसे में सवाल तो यह उठ रहा है कि अपहरण के साथ उस तांत्रिक बाबा के खिलाफ मुकदमा  दर्ज नहीं होना चाहिए था क्या! 
आखिर क्यों पुलिस ने भोपा को इस मामले में नामजद आरोपी नहीं बनाया, जबकि पीड़ित परिवार उसके खिलाफ भी रिपोर्ट दे रहा था!

Must Read: राज्य पशु ऊंटों के बचाव हेतु राज्य स्तर पर आंदोलन का आगाज

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :