अवैध शराब बरामद: पुलिस थाने से कुछ ही दूरी पर बिक रही थी अवैध शराब, एसडीएम ने की कार्रवाई, शराब बेचते एक को किया गिरफ्तार, दुकान से अवैध शराब की बरामद

पुलिस को जानकरी होने के बावजूद कार्रवाई नही कर रहे थे, तो एसडीएम ने कार्रवाई को दे दिया अंजाम

पुलिस थाने से कुछ ही दूरी पर बिक रही थी अवैध शराब, एसडीएम ने की कार्रवाई, शराब बेचते एक को किया गिरफ्तार, दुकान से अवैध शराब की बरामद

भीनमाल। आबकारी विभाग व पुलिस अधिकारियों के मिलीभगत के चलते पुलिस थाने से कुछ ही दूरी पर अवैध शराब बेचने का काम जोरो पर है। लेकिन थाने में इस बात की जानकारी होने के बावजूद पुलिस कार्रवाई नही कर रही है। थाने से कुछ ही दूरी पर स्थित गोकुल कॉम्प्लेक्स में एक जनरल स्टोर दुकान में अवैध शराब बिक रही थी। लेकिन किसी ने ध्यान ही नहीं दिया जबकि थाने से महज कुछ ही दूरी पर ही अवैध शराब बेचने का काम हो रहा था। ऐसे रात्रि में एसडीएम ओमप्रकाश के निर्देशन में पटवारी जोगेंद्र सिंह व आरआई चन्द्रप्रकाश को बोगस ग्राहक बनाकर जब दुकान पर भेजा तो सारी पोल खुल गयी। जनरल स्टोर से पटवारी ने शराब की बोतल मांगी तो दुकानदार को वही धरपकड़ कर लिया। इसके बाद पुलिस को मौके पर बुलाकर जनरल स्टोर से 62 पव्वे व 19 बियर की बोतल बरामद की। साथ ही शराब बेचने वाले बाबूलाल मेवाड़ा को गिरफ्तार किया गया। सूचना पर आबकारी निरीक्षक रविन्द्रप्रताप सिंह मौके पहुचे। इसके बाद  जनरल स्टोर जब्त अवैध शराब व आरोपी को आबकारी विभाग के हवाले के दिया। कार्रवाई में एएसआई बद्रीनारायण, जेठाराम ,हनुमान सिंह भाटी, सुरेंद्रसिंह मौजूद रहे। 

जनलर स्टोर में धड़ल्ले से बिक रही शराब 

वही, शहर समेत आस पास गांवो में शराब माफिया जनरल स्टोर में  में अवैध शराब की बिक्री का खेल धड़ल्ले से चल रहा है। आबकारी व पुलिस से सांठ गांठ करते हुए शराब ठेकेदार शहर में आस पास गांवो में अवैध रूप से शराब की बिकवाली करा रहा है। आलम ये है कि किराना और जनरल स्टोर तक में शराब बेचने का खेल चल रहा है। बताया जाता है कि इस मामले की शिकायत किये जाने के बाद भी न तो आबकारी विभाग अवैध शराब की बिकवाली पर कार्यवाही करता नज़र नही आ रहा है और न ही पुलिस इन पर अंकुश लगा पा रही है। जबकि आबकारी के नियमानुसार शराब की बिकवाली दुकान से ही होनी चाहिये लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। आबकारी विभाग के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए ठेकेदार अधिक से अधिक मुनाफा कमाने के लिये अपने कर्मचारियों के मार्फत गाँव – गाँव में देशी, अंग्रेजी शराब की बिकवाली कर रहे हैं।