50 देशों के 1500 प्रतिनिधि होंगे शामिल: प्रधानमंत्री मोदी ने ग्रेटर नोएडा में किया डेयरी समिट का उद्घाटन, कहा- पशुओं की हो रही बायोमीट्रिक पहचान

- भारत डेयरी उत्पादों का दुनिया में सबसे बड़ा उत्पादक बना - पशुओं की हो रही बायोमीट्रिक पहचान

प्रधानमंत्री मोदी ने ग्रेटर नोएडा में किया डेयरी समिट का उद्घाटन, कहा- पशुओं की हो रही बायोमीट्रिक पहचान

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट में अंतरराष्ट्रीय डेयरी संघ विश्व डेयरी सम्मेलन (आईडीएफ डब्ल्यूडीएस) 2022 का उद्घाटन किया और पीएम मोदी ने डेयरी सेक्टर को करोड़ों लोगों की आजीविका का प्रमुख साधन बताया। ये आयोजन चार दिनों तक चलेगा। आपको बता दें कि, देश के कई राज्यों में अभी लंपी वायरस फैला हुआ है जिसके चलते रोजाना हजारों गौवंश मौत का शिकार हो रही है। ऐसे में पशुओं से जुडे इस समिट का महत्व और भी बढ़ जाता है।

ये भी पढ़ें:- आखिर सच क्या है?: केजरीवाल के गुजरात दौरे के बीच आप नेता का दावा, बड़े नेताओं के इशारे पर हमारे कार्यालय पर रेड की कार्रवाई

सम्मेलन में 50 देशों के 1500 प्रतिनिधि होंगे शामिल
भारत में ‘वर्ल्ड डेयरी समिट’ का आयोजन 48 सालों के बाद हो रहा है। इस सम्मेलन में 50 देशों के 1500 प्रतिनिधि शामिल हो रहे हैं। सोमवार को इस कार्यक्रम में पीएम मोदी के साथ मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल रहे।

भारत डेयरी उत्पादों का दुनिया में सबसे बड़ा उत्पादक बना
पीए मोदी ने विश्व डेयरी सम्मेलन का शुभारंभ करते हुए कहा कि, भारत के डेयरी क्षेत्र को बड़े पैमाने पर उत्पादन के बजाय बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए मान्यता प्राप्त है। ‘डेयरी सेक्टर का सामर्थ्य ना सिर्फ ग्रामीण अर्थव्यवस्था को गति देता है बल्कि ये दुनिया भर में करोड़ों लोगों की आजीविका का भी प्रमुख साधन है। आज डेयरी क्षेत्र से 8 करोड़ परिवारों को रोजगार मिल रहा है। छोटे पैमाने के डेयरी किसानों के सामूहिक प्रयासों से भारत दुनिया में डेयरी उत्पादों का सबसे बड़ा उत्पादक बन गया है।

ये भी पढ़ें:- 9वीं क्लास की छात्रा है लड़की : दोस्त के साथ थी नाबालिग लड़की, तभी वहां आए युवकों ने कर दिया गैंगरेप, वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

पशुओं की हो रही बायोमीट्रिक पहचान
पीएम मोदी ने कहा कि भारत, डेयरी पशुओं का सबसे बड़ा डेटाबेस तैयार कर रहा है। डेयरी सेक्टर से जुड़े हर पशु की टैगिंग हो रही है और आधुनिक तकनीक की मदद से पशुओं की बायोमीट्रिक पहचान की जा रही हैं। इसे पशु आधार नाम दिया गया है। आज भारत में डेयरी सहकारी का एक ऐसा विशाल नेटवर्क है जिसकी मिसाल पूरी दुनिया में मिलना मुश्किल है।

Must Read: राजस्थान में चिंतन शिविर के बीच पंजाब में कांग्रेस को महाझटका, सुनील जाखड़ ने कांग्रेस से तोड़ा नाता

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :