माउंट आबू प्रशासन का दोहरा रवैया: रसूखदारों के बन रहे नए आलीशान होटल और रिसोर्ट, वहीं आमजन को अपना घर रिपेयरिंग की नही मिल रही परमिशन

ओरिया ग्राम पंचायत के अचलगढ़ क्षेत्र में बने एक आलीशान रिसोर्ट अचल रिसोर्ट में अवैध निर्माण लम्बे समय से चल रहा हैं। इस रिसोर्ट में नए रूम्स बनाने के साथ साथ यहां स्विमिंग पूल बनाने का भी निर्माण कार्य चल रहा हैं। जिसके लिए बिना टोकन निर्माण सामग्री लाने का जुगाड़ भी इस रिसोर्ट संचालक ने अनोखे तरीके से ईजाद कर लिया है

रसूखदारों के बन रहे नए आलीशान होटल और रिसोर्ट, वहीं आमजन को अपना घर रिपेयरिंग की नही मिल रही परमिशन
अचल रिसोर्ट में चल रहा अवैध निर्माण कार्य

गणपतसिंह मांडोली 9929420786

सिरोही। वैसे कहने को माउंट आबू में नए निर्माण पर पूर्णतयाः प्रतिबंध लगा हुआ हैं। पर आप अगर वास्तविक धरातल पर जाकर ग्राउंड जीरो की हकीकत देखेंगे तो आपको माउंट आबू में जगह जगह निर्माण कार्य चलते आसानी से दिखाई दे जाएंगे। लेकिन सबसे बड़ी बात ये कि इनमें से एक भी  नवनिर्माण या रिपेयरिंग का कार्य गरीब के आशियाने का आपको दिखाई नही देगा। माउंट आबू में चल रहे निर्माण कार्यों में ज्यादातर या यूं कहें करीब करीब सभी निर्माण कार्य किसी न किसी रसूखदार के ही चल रहा हैं। इनमें से कुछ कार्य रिपेयरिंग की परमिशन की आड़ में अवैध नवनिर्माण के चल रहे हैं तो ज्यादातर बिना स्वीकृति के ही अवैध तरीके से नवनिर्माण किए जा रहे हैं। पर माउंट आबू प्रशासन हैं कि बस मूकदर्शक बना हुआ बैठा हुआ हैं। अब ये प्रशासन मूकदर्शक क्यों बना हुआ हैं? इसकी रामकहानी तो प्रशासन में बैठे जिम्मेदार ही बता सकते हैं। पर माउंट आबू के निवासियों की माने तो उपखंड कार्यालय में लम्बे समय से प्रतिनियुक्ति पर जमे एक अधिकारी की मेहरबानी के चलते ही ये सारे अवैध निर्माण माउंट आबू में दिन रात अनवरत रूप से जारी हैं। 

अचलगढ़ के "अचल रिसोर्ट" में अवैध निर्माण कार्य अभी भी जारी

ओरिया ग्राम पंचायत के अचलगढ़ क्षेत्र में बने एक आलीशान रिसोर्ट "अचल रिसोर्ट" में अवैध निर्माण लम्बे समय से चल रहा हैं। इस रिसोर्ट में नए रूम्स बनाने के साथ साथ यहां स्विमिंग पूल बनाने का भी निर्माण कार्य चल रहा हैं। जिसके लिए बिना टोकन निर्माण सामग्री लाने का जुगाड़ भी इस रिसोर्ट संचालक ने अनोखे तरीके से ईजाद कर लिया हैं। कभी पानी के टैंकर में भरकर बजरी लाई जा रही हैं, तो आटे के कट्टो के नीचे छुपाकर सीमेंट के कट्टे लाए जा रहे हैं। और ये काम पिछले कई वर्षों से जारी हैं पर उपखण्ड प्रशासन बस खानापूर्ति के लिए कभी कभार अवैध तरीके से लाई जा रही निर्माण सामग्री की गाड़ी पकड़ कर इतिश्री कर देता हैं पर रिसोर्ट में चल रहे अवैध निर्माण कार्य को ध्वस्त करने की कार्रवाई आज तक नही की गई। ऐसे में ये सहज ही माना जा सकता हैं कि इस अवैध निर्माण कार्य मे प्रशासन की संलिप्तता कितनी अधिक हैं। अचल रिसोर्ट में इस अवैध निर्माण के साथ साथ चट्टानों को तोड़ने का भी काम लगातार चल रहा हैं। पर वो मारवाड़ी में एक कहावत हैं ना कि "रुपया थारी तीखी धार, नमे मुंशी अनै थानेदार" बस यही कहावत यहां चरितार्थ हो रही हैं।

◆ दो टोल नाके पार करके कैसे पहुंच जाते हैं अवैध निर्माण सामग्री के ट्रक? 

माउंट आबू शहर में प्रवेश से लेकर अचलगढ़ क्षेत्र के इस अचल रिसोर्ट तक पहुंचने के लिए दो जगहों पर टोल नाके लगे हुए हैं। जहां पर निर्माण सामग्री से भरे वाहनों की कड़ी जांच और अगर उस निर्माण सामग्री को लाने के लिए उपखण्ड प्रशासन द्वारा जारी टोकन साथ में होता हैं, तभी उस वाहन को अंदर प्रवेश दिया जाता हैं, वरना उस वाहन को जब्त करने की कार्रवाई की जानी चाहिए। इसके बावजूद इस रिसोर्ट में पहुंचने वाली सामग्री बिना किसी जांच बिना किसी टोकन से निर्बाध रूप से यहां पहुंच रही हैं। जिसका ताज़ा उदाहरण आपने कुछ दिन पहले आमजन की शिकायत के बाद अचलगढ़ क्षेत्र में पकड़ा गया ट्रक वो ट्रक था, जो दोनो टोल नाके पार करके करीब करीब अपने गंतव्य तक पहुंच गया था। ये ट्रक दोनो टोल नाको से कैसे पार हो गया? अधिकारियों से जवाब देते ही नही बन रहा। हालांकि लोकलाज के चलते नाके पर तैनात एक कर्मचारी को निलंबित जरूर किया गया। पर इस कार्य मे एक अदना सा कर्मचारी ही सबकुछ गोलमाल कर दें ये बात हर किसी को हज़म नही सकती। इस कार्य में असली गुनहगार कोई बड़ा ही हैं, जिस तक पहुंचना जरूरी हैं। वरना माउंट आबू के प्राकृतिक सौंदर्य को बिगड़ने में अब ज्यादा वक्त शेष नही हैं।

आम नागरिक अगर एक ईंट भी लगा दें तो प्रशासन पहुंच जाता हैं जेसीबी लेकर, पर अचल रिसोर्ट में चल रहे निर्माण पर कार्रवाई क्यो नही? 

माउंट आबू क्षेत्र में अगर किसी गरीब या आम आदमी के घर में एक ईंट भी नए निर्माण के रूप में लग जाए तो पूरा उपखण्ड प्रशासनिक अमला उस जगह जेसीबी मशीन लेकर पहुंच जाता हैं। और उस नई लगी ईंट को तोड़कर मीडिया की सुर्खियां बटोरने में लग जाता हैं। पर पिछले कई वर्षों से चल रहे लगातार अवैध तरीके से अचल रिसोर्ट में हुए कई निर्माण कार्य माउंट आबू प्रशासन को नज़र ही नही आ रहा हैं। इसे क्या समझा जाए? जब कुछ दिन पहले आमजन की शिकायत पर जब अवैध निर्माण सामग्री से भरा ट्रक पकड़ा गया। उससे पूछताछ में ये भी पता भी चला कि ये निर्माण सामग्री कहाँ ले जाई जा रही थी। इसके साथ ही कल पकड़े गए ट्रक में अवैध तरीके से आटे के नीचे छुपाकर ले जाए जा रहे सीमेंट के कट्टो से भरा ट्रक पकड़ा गया, उस ट्रक ड्राइवर ने तो सबके सामने ही अचल रिसोर्ट ले जाने की बात कही थी, तो फिर उसके बावजूद भी माउंट आबू प्रशासन  ने अवैध तरीके से चल रहे इस रिसोर्ट के निर्माण कार्य को ध्वस्त करने की कार्रवाई क्यों नही की? ये सवाल आज हर कोई पूछ रहा हैं। पर प्रशासन के पास इसका कोई जवाब नही हैं।

Must Read: मोदी सरकार के तीनों ही विधेयक क्रांतिकारी हैं, किसान को मिलेगी तरक्की, मजबूती और ताकत: डाॅ. सतीश पूनियां

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :