जनप्रतिनिधियों पर नहीं, जनता पर सख्ती : मंत्री महोदय, कोरोना जात, धर्म या फिर हौहदा नहीं देखता, ये संक्रमण हो गया तो परिणाम आप जानते है, राजसमंद में उपचुनाव इसी की देन

सरकार के मंत्री, विधायक या फिर अन्य जनप्रतिधिगण लगातार कोरोना गाइड लाइन की अवेहलना कर रहे है। या फिर यूं कहां जाए कि जनता पर तो सख्ती और मंत्रियों के लिए नियम ताक में। 

मंत्री महोदय, कोरोना जात, धर्म या फिर हौहदा नहीं देखता, ये संक्रमण हो गया तो परिणाम आप जानते है, राजसमंद में उपचुनाव इसी की देन

जयपुर।
प्रदेश के मुख्यमंत्री लगातार कोरोना की दूसरी लहर को रोकने के लिए अधिकारियों की बैठक पर बैठक लें रहे हैं। हर दिन कोरोना संक्रमण की जानकारी अपडेट कर रहे है, स्वयं के साथ सीएम मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ अन्य गाइड लाइन की पालना कर रहें, बावजूद इसके गहलोत सरकार के मंत्री, विधायक या फिर अन्य जनप्रतिधिगण लगातार कोरोना गाइड लाइन की अवेहलना कर रहे है। या फिर यूं कहां जाए कि जनता पर तो सख्ती और मंत्रियों के लिए नियम ताक में। 


राजधानी में शुक्रवार को आराध्यदेव गोविंददेवजी मंदिर में दो दिवसीय पुष्प फाग के दूसरे दिन बाल व्यास श्रीकांत शर्मा ने फाल्गुनी भजनों की सुरीली प्रस्तुतियां दी। कार्यक्रम में परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास भी मंदिर पहुंचे। उन्होंने चंग पर थाप देते हुए फाग गाया और कलाकारों के साथ जमकर नृत्य किया। इस दौरान मंत्री खाचरियावास ने कोरोना गाइडलाइन की भी जमकर धज्जियां उड़ाई। मंत्री ने ना तो कार्यक्रम में मास्क लगाया और ना ही कोई सोशल डिस्टेंसिंग की पालना की।

कार्यक्रम में अजमेर, अजीतगढ़ और जयपुर के कलाकारों ने भजनों पर नृत्य की प्रस्तुति दी। मंदिर महंत अंजन कुमार गोस्वामी के सान्निध्य में देर शाम तक धमाल, घूमर, मयूर नृत्य और फूलों की होली का दौर चला। मंगलाचरण, गणेश स्तुति के बाद श्रीकांत शर्मा ने फाल्गुनी भजनों की झड़ी लगा दी। अजमेर से आए कलाकारों ने सारे ब्रज में धूम मचाया श्याम होली खेलने आया..., होली खेल रहे नंदलाल गोकुल की..., तभी दूंगी सांवरिया तोरी बंशी बजाय... भजनों पर मोर नृत्य और घूमर की प्रस्तुति दी। इस दौरान जयपुर मेयर मुनेश गुर्जर भी कार्यक्रम में शामिल हुई।