जसवंतपुरा: नदियों से अवैध बजरी खनन, नदियां हो रही छलनी

रात के समय नदियों से हो रहा बजरी खनन, अवैध बजरी को लेकर पुलिस प्रशासन मौन। 

नदियों से अवैध बजरी खनन, नदियां हो रही छलनी

जालोर। जालोर जिले के जसवंतपुरा कस्बे ले पास से होकर गुजर रही नदी व बिकनबास की नदी से रात के समय अवैध बजरी खनन हो रहा है। रात दस बजे के बाद बजरी माफिया ट्रैक्टरों से सुबह आठ बजे तक बेखौफ होकर बजरी खनन कर रहे है। पुलिस प्रशासन को जानकारी होने के बावजूद भी  उदासीन बने हुए है। बजरी माफियों को प्रशासन व पुलिस का बिलकुल भी डर नहीं है। यह वजह है कि नदियों से अवैध बजरी खनन हो रहा है। बजरी माफिया बजरी खनन कर लाखों रुपए कमा रहे है। इन्हे कोई रोकने टोकने वाला नहीं है। 
 
1500 रुपए प्रति ट्रोली बजरी

बजरी माफिया एक ट्रैक्टर ट्रोली के 1500 रुपए ले रहे है। बजरी माफियों को बिना पैसे खर्च किए आसानी से बजरी मिल रही है। जसवंतपुरा व बिकनवास नदी में रात के समय 10 से 20 ट्रैक्टरों के माध्यम से अवैध बजरी का खनन हो रहा है।

महिने की लाखों रुपए की बजरी बेच बेच रहे है

बजरी माफिया जसवंतपुरा, कलापुरा, बिकनवास, गोलाणा गजापुरा सहित आसपास के गांवों में एक ट्रैक्टर 1500 रुपए में बेच रहे है।  बजरी के ट्रैक्टर पुलिस थाने के सामने से होकर बेखोफ गुजर रहे है। इसके बावजूद भी पुलिस प्रशासन कार्रवाही नहीं कर रहा है।

किसानों के कृषि कुंए सूख रहे है

नदियों से बजरी खनन होने के कारण नदी के आस-पास के क्षेत्र के किसानों के कृषि कुंए सूख रहे है। नदियों में बजरी नहीं होने के कारण किसानों के कृषि कुंए रिचार्ज नहीं हो रहे है। बारिश में नदी आने के बाद भी कृषि कुंए सूखे ही रह जाते है। नदियों में बजरी के कारण ही किसानों के कृषि कुंए रिचार्ज होते है।

◆ एक खाली ट्रैक्टर पकड़ा

शुक्रवार को मैं खुद राउण्ड पर गया था। एक खाली ट्रैक्टर मिला था। उसे पकड़ा था। अगर नदी से बजरी खनन हो रहा है तो ऐसा होने नहीं देंगे। बजरी खनन को रोकेंगे।

मनीष सोनी, थानाधिकारी जसवंतपुरा

Must Read: Jalore के जसवंतपुरा ब्लॉक के सरकारी कर्मचारियों ने नवीन पेंशन योजना का किया विरोध, सभा में एकजुटता की अपील, निकाला कैंडल मार्च

पढें जालोर खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :