Rajasthan @ रीट परीक्षा में नकल गिरोह: राजस्थान रीट परीक्षा को लेकर शिक्षा मंत्री ने जालोर—सिरोही के 4 कार्मिकों सहित 13 कर्मचारियों को किया निलंबित,जांच में दोषी पाए जाने पर किए जाएंगे बर्खास्त

राजस्थान में रीट भर्ती परीक्षा 2021 में नकल गिरोह को लेकर आ रही  खबरों के मुताबिक आज शिक्षा मंत्री ने बड़ा कदम उठाया है। प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने जालोर, सिरोही सहित कई जिलों से 13 कर्मचारियों को निलंबित करने के आदेश जारी किए है।

राजस्थान रीट परीक्षा को लेकर शिक्षा मंत्री ने जालोर—सिरोही के 4 कार्मिकों सहित 13 कर्मचारियों को किया निलंबित,जांच में दोषी पाए जाने पर किए जाएंगे बर्खास्त

जयपुर। 
राजस्थान में रीट भर्ती परीक्षा 2021 में नकल गिरोह को लेकर आ रही  खबरों के मुताबिक आज शिक्षा मंत्री ने बड़ा कदम उठाया है। प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने जालोर, सिरोही सहित कई जिलों से 13 कर्मचारियों को निलंबित करने के आदेश जारी किए है। इतना ही नहीं, डोटासरा ने सोशल मीडिया पर ट्वीट कर लिखा कि अगर एसओजी की जांच में दोषी पाए गए तो इनको सरकारी सेवा से बर्खास्त किया जाएगा। डोटासरा ने ट्वीटर पर लिखा कि रीट परीक्षा में अब तक प्राप्त जानकारी के आधार पर शिक्षा विभाग के 13 कर्मचारियों की संदिग्ध भूमिका की सूचना मिली थी, इस पर एक्शन लेते हुए सभी 13 कर्मचारियों को निलम्बित कर दिया गया है। अब आगे पुलिस जांच रिपोर्ट में दोष सिद्ध होने के उपरांत इनकी सरकारी सेवा से बर्खास्तगी होगी।


सवाई माधोपुर के डीईओ भी निलंबित
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने मंगलवार को सवाई माधोपुर जिला शिक्षा अधिकारी राधेश्याम मीणा को भी निलंबित कर दिया। रीट में उनकी भूमिका संदेहास्पद पाई गई थी। डोटासरा ने कहा कि रीट के दौरान कुछ स्थानों पर पेपर लीक होने का मामला सामने आया है।  ऐसे में फिलहाल पुलिस और एसओजी की टीम आरोपियों से पूछताछ कर उनके साथियों की तलाश कर रही है। गौरतलब है कि राजस्थान में 26 सितंबर को 31 हजार पदों के लिए रीट परीक्षा आयोजित की गई थी। इस परीक्षा में 25 लाख अभ्यार्थी शामिल हुए थे, लेकिन कुछ स्थानों पर शिक्षक और पुलिस के कर्मचारियों द्वारा ही पेपर लीक करने का मामला सामने आया था। इसके बाद प्रदेशभर में सरकार के खिलाफ विरोध देखने को मिला।

सिरोही के मनोहर और जालोर के तीन कार्मिक निलंबित
शिक्षा मंत्री के आदेशानुसार सिरोही जिले के बगसीन की राजकीय उच्च माध्​यमिक विद्यालय में पदस्थापित कर्मचारी मनोहर को निलंबित कर दिया गया। जबकि जालोर के जसवंतपुरा, चित्तलवाना और कालेटी भीनमाल स्थित स्कूलों के शिक्षक मनोहर लाल, सुरेश कुमार और प्रकाश चौधरी को भी निलंबित कर दिया। इसके अलावा बाड़मेर, नागौर, डूंगरपुर, राजसमंद, भरतपुर और बूंदी जिले में भी कर्मचारियों को निलंबित किया गया है।

 

Must Read: भाजपा युवा मोर्चा की कार्यसमिति की बैठक में संगठन को मजबूती देने की अपील, आमजन को जागरूक करने का आह्वान

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :