युक्रेन बच्चों का सरकार को आभार: यूक्रेन में फंसे विद्यार्थियों और नागरिकों की सहायता के लिए ई पोर्टल लॉन्च, युक्रेन से आए बच्चों ने कहा "थैंक्स टू राजस्थान गवर्नमेंट"

यूक्रेन से आए राजस्थान के पांच विद्यार्थियों के जयपुर पहंचने पर मंगलवार को एयरपोर्ट पर उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री शकुंतला रावत की अगुवाई वाले प्रतिनिधिमंडल ने उन्हें रिसीव किया।

यूक्रेन में फंसे विद्यार्थियों और नागरिकों की सहायता के लिए ई पोर्टल लॉन्च, युक्रेन से आए बच्चों ने कहा "थैंक्स टू राजस्थान गवर्नमेंट"

जयपुर।
यूक्रेन से आए राजस्थान के पांच विद्यार्थियों के जयपुर पहंचने पर मंगलवार को एयरपोर्ट पर उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री शकुंतला रावत की अगुवाई वाले प्रतिनिधिमंडल ने उन्हें रिसीव किया। 
प्रतिनिधिमंडल में जनजाति क्षेत्रीय विकास राज्य मंत्री अर्जुन सिंह बामनिया और राजस्थान फाउंडेशन आयुक्त धीरज श्रीवास्तव के साथ ही राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे। 
उन्होंने बच्चों से चर्चा कर वहां के हालातों के बारे में जानकारी ली और भरोसा दिलाया कि वहां फंसे राजस्थान के हर एक व्यक्ति की मदद की जाएगी। 
यह विद्यार्थी मंगलवार को प्रात: बुखारेस्ट से मुंबई पहुंचें थे। जयपुर जिले के अहमद सईद नईम, विनीता चौधरी और  जीतेंद्र गौरा, धौलपुर जिले के शिवपाल सिंह और सीकर जिले की सोनिया चौधरी जयपुर एयरपोर्ट पहुंचे।


उन्होंने राज्य सरकार द्वारा उन्हें सकुशल घर पंहुचाने हेतु की गई व्यवस्थाओं के लिए राज्य सरकार का धन्यवाद दिया। विनीता चौधरी ने कहा कि रोमानिया से मुंबई पहुंचने पर राजस्थान सरकार के प्रतिनिधियों ने हमें रिसीव किया और ठहरने और खाने की व्यवस्था की। 
इसके साथ ही, मुंबई से जयपुर के लिए फ्लाइट के टिकट भी बुक कराकर जयपुर पहुंचाया है और घर तक छोड़ने की भी व्यवस्था की है। 
इसके बाद उन्होंने भावुक होकर कहा कि "थैंक्स टू राजस्थान गवर्नमेंट"। विद्यार्थियों को लेने आए परिजनों ने भी राज्य सरकार को इस संकट की घड़ी में साथ देने के लिए शुक्रिया कहा। 
वहीं, एक परिजन के भावुक होने पर रावत ने उन्हें ढांढस बंधाया और आगे भी हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया।

नागरिकों की सहायता के लिए ई पोर्टल लॉन्च
वहीं दूसरी ओर यूक्रेन में रहने वाले राज्य के विद्यार्थियों सहित अन्य नागरिकों की मदद और उन्हें सुरक्षित रूप से भारत लाने के लिए राज्य सरकार सतत रूप से प्रयासरत हैं।
इनसे संबंधित समस्त सूचनाओं की जानकारी प्राप्त करने के लिए राज्य सरकार द्वारा ई-सूचना पोर्टल लॉन्च किया है। इसे  https://home.rajasthan.gov.in और https://rajasthan.gov.in के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है।
राजस्थान के विद्यार्थी तथा अन्य नागरिक यूक्रेन में रहते हैं और वे भारत लौटना चाहते हैं, तो उनके परिजन इस पोर्टल के ई-इंटीमेशन लिंक पर अपनी समूची जानकारी भरकर इसे अपलोड करें। 
उन्होंने परिजनों से भयभीत नहीं होने की अपील की है और कहा है कि केंद्र और राज्य सरकार के अलावा राजस्थान फाउंडेशन इनकी मदद के लिए लगातार प्रयासरत है।
राज्य सरकार द्वारा राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त धीरज श्रीवास्तव को विदेश मंत्रालय और यूक्रेन दूतावास से समन्वय रखने के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। 
इस संबंध में सीएम हेल्पलाइन नंबर 181, टेलीफोन नंबर 0141-2229091/2229111 तथा मोबाइल 8306009838 पर संपर्क किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त rajfound-rj@nic.in पर ईमेल किया जा सकता है।

राजस्थान के 31 विद्यार्थी पहुंचे दिल्ली एयरपोर्ट
यूक्रेन में फंसे हुए भारतीयों को लेकर दिल्ली पहुंची इंडिगो एयरलाइंस की दो फ्लाइट्स में राजस्थान के 31 बच्चे दिल्ली पहुंचे। एयरपोर्ट पर राजस्थान के इन बच्चों का  दिल्ली में राजस्थान की प्रमुख आवासीय आयुक्त शुभ्रा सिंह, अतिरिक्त आवासीय आयुक्त विमल शर्मा एवं आवास सहायक रिंकू मीणा ने फूल मालाएं पहनाकर स्वागत किया।
शुभ्रा सिंह ने बताया कि आज दिल्ली एयरपोर्ट पर यूक्रेन से पहुंचे इन 31 बच्चों में से 21 बच्चों को रात्रि में राजस्थान हाउस में ठहराने की सारी व्यवस्थाएं की गई है।
इनमें से उदयपुर क्षेत्र के बच्चे कल सुबह दिल्ली एयरपोर्ट से हवाई मार्ग द्वारा उदयपुर भेजा जाएगा। तथा शेष को टैक्सियों तथा ट्रेन के माध्यम से उनके गंतव्य स्थानों पर भेजा जाएगा।
उन्होंने बताया कि यूक्रेन में फंसे हुए इन विद्यार्थियों को सकुशल वापस लौटाने के लिए तथा एयरपोर्ट से इनके घरों तक सुरक्षित पहुंचाने हेतु राज्य सरकार ने सारी व्यवस्थाएं राजकीय खर्चे पर सुनिश्चित की है।
हमें उम्मीद है कि जल्द ही इन बच्चों को राहत मिलेगी तथा सरकारी स्तर पर जो कुछ भी सहायता इन बच्चों को दी जा सकती है वह सभी प्रदान करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं।

Must Read: उत्तर कोरिया ने नए वायरस के प्रति सतर्क रहने का किया आग्रह

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :