नदियां बह रही सड़कों पर: राजस्थान में आसमान से बरसी आफत! कई बस्तियां जमग्न, सड़कों पर दौड़ी नावें, खेत बन गए तालाब, फसलें चौपट

राजस्थान के झालावाड़ जिले में दो दिन से आसमान से आफत बरस रही है। जिले के लगभग सभी बांध लबालब हो गए है। नदियां उफान मान रही हैं। अब तो खेत भी तालाब बन गए है और किसानों की फसलें चौपट हो गई है।

राजस्थान में आसमान से बरसी आफत! कई बस्तियां जमग्न, सड़कों पर दौड़ी नावें, खेत बन गए तालाब, फसलें चौपट

झालावाड़ | राजस्थान के झालावाड़ जिले में दो दिन से आसमान से आफत बरस रही है। जिले के लगभग सभी बांध लबालब हो गए है। नदियां उफान मान रही हैं। अब तो खेत भी तालाब बन गए है और किसानों की फसलें चौपट हो गई है। पानी के लिए बारिश का इंतजार कर रहे लोगों को अब इतना पानी मिल गया है कि, उनके घर और दुकानों में रखा सामान भी तैरने लगा है। सड़कों पर नावें दौड़ने लगी हैं। टोंक, कोटा, जयपुर समत काई जिलों में जोरदार बारिश हो रही है। झालावाड़ जिले में बीते 48 घंटों से मूसलाधार बारिश आसमानी आफत बनकर बरस रही है। मनोहरथाना, धनवाड़ा, पिड़ावा और गंगधार क्षेत्र में भी निचली बस्तियां जलमग्न हो गई हैं। लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए स्थानीय प्रशासन लगातार काम कर रहा है। रेस्क्यू टीमें पानी में फंसे लोगों को निकाले के लिए जुटी हुई हैं।

ये भी पढ़ें:-  Watch Video: अतिभारी बारिश से जलमग्न हुआ राजस्थान का टोंक जिला! मकानों-दुकानों में घुसा पानी, बाढ़ के हालात

नदियां बह रही सड़कों पर
झालावाड़ जिले से गुजर रही कालीसिंध, परवन, छापी तथा उजाड़ नदिया अपना रौद्र रूप दिखा रही हैं। जिला मुख्यालय सहित झालरापाटन, पिड़ावा, मनोहरथाना, गंगधार आवर, पगारिया क्षेत्र में मानसूनी बादल अब कहर बरपा रहे हैं। भारी बारिश के चलते नदियां सड़कों पर बह रही है। जिससे कई मार्गों का आवागमन अवरुद्ध हो गया है। कोटा और झालावाड़ बपावर मार्ग नदियों के उफान के कारण बंद है। 

ये भी पढ़ें:-  19 साल की विवाहिता नींद में चलकर पहुंची रेलवे ट्रैक पर, कटकर मौत, तीन महीने पहले ही हुई थी शादी

बांधों पर चादर, गेट खोल निकाल रहे पानी
झालावाड़ में हो रही झमाझम ने पूरा जन जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। बांधों पर चादर चल रही है। जिसके चलते बांधों के गेट खोलकर पानी की निकासी की जा रही है। ये पानी निचले इलाकों में पहुंचकर कहर बरपा रहा है। जिले के पिड़ावा उपखंड स्थित चवली बांध पर भी चादर चल रही है। कालीसिंध बांध के कुल 15 गेटों को 83 मीटर तक खोल दिया गया है। छापी बांध के 10 गेट, भीम सागर बांध के सभी गेट और राजगढ़ बांध के 7 गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है। 

ये भी पढ़ें:- राजस्थान के 10 जिलों में अति भारी बारिश की चेतावनी, गांधी सागर बांध के 8 गेट, कोटा बैराज 10 गेट खोले

Must Read: अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान ताउ ते का असर, सिरोही में बारिश ने बदला मौसम का मिजाज, कल तेज बारिश की संभावना

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :