जिला प्रमुख चुनाव: कांग्रेस का जोड़-तोड़ से तीन जिलों में कब्जा, भाजपा को एक पर ही संतोष

कांग्रेस का जोड़-तोड़ से तीन जिलों में कब्जा, भाजपा को एक पर ही संतोष

जयपुर। प्रदेश के चार जिलों में गुरुवार को हुए जिला प्रमुख के चुनावों में कांग्रेस को दो जिलों में बहुमत था, लेकिन जोड़-तोड़ कर तीन जिलों में जिला प्रमुख की सीट कब्जा ली गई। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पुत्र और बारां-झालावाड़ सांसद दुष्यंत सिंह के क्षेत्र बारां में गहलोत सरकार में खान मंत्री प्रमोद जैन भाया की पत्नी उर्मिला जैन भाया क्रॉस वोटिंग से जिला प्रमुख का चुनाव जीत गईं। यहां भाजपा को बहुमत मिला था। कोटा में बीजेपी के मुकेश मेघवाल, करौली में कांग्रेस की शिमला देवी निर्विरोध तथा श्रीगंगानगर में कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव कुलदीप इंदौरा प्रमुख बने है।

चार जिलों में जिला प्रमुख के चुनाव में दो जगह बहुमत होने के बावजूद भाजपा केवल एक जगह ही जिला प्रमुख बना सकी है। पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के पुत्र और बारां-झालावाड़ सांसद दुष्यंत सिंह के क्षेत्र बारां में भाजपा बहुमत होते हुए भी जिला प्रमुख नहीं बना सकी। यहां खान मंत्री प्रमोद जैन भाया की पत्नी उर्मिला जैन भाया क्रॉस वोटिंग से जिला प्रमुख चुनाव का जीत गईं। बारां में 25 जिला परिषद सदस्यों में से कांग्रेस के 12 और बीजेपी के 13 सदस्य थे। बीजेपी के एक जिला परिषद सदस्य ने कांग्रेस के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की।

श्रीगंगानगर जिले में किसान आंदोलन के मुद्दे का भाजपा को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। नहरी क्षेत्र में कांग्रेस को एकतरफा जीत मिली है। श्रीगंगानगर जिले में कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव कुलदीप इंदौरा जिला प्रमुख का चुनाव जीते हैं। यहां 31 में से कांग्रेस के पास 25 जिला परिषद सदस्य थे। ऐसे में कुलदीप इंदौरा का जिला प्रमुख बनना तय माना जा रहा था।

कोटा में यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल और कई दिग्गज कांग्रेस नेता जिला प्रमुख चुनावों में बीजेपी खेमे में सेंध नहीं लगा सके। कोटा में बीजेपी के मुकेश मेघवाल जिला प्रमुख का चुनाव जीत गए। उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार गीता मेघवाल को हराया। कोटा जिला परिषद में 23 वार्ड में से 13 पर भाजपा और 10 पर कांग्रेस के जिला परिषद सदस्य जीते थे।

करौली में भाजपा को जिला प्रमुख के लिए उम्मीदवार ही नहीं मिला। कांग्रेस की शिमला देवी निर्विरोध जिला प्रमुख का चुनाव जीत गईं। करौली जिला प्रमुख की सीट एससी महिला के लिए आरक्षित थी। भाजपा से एससी का कोई जिला परिषद सदस्य नहीं जीता, इसलिए कांग्रेस को एकतरफा जीत मिल गई। करौली में जिला परिषद के 27 वार्डों में 15 पर कांग्रेस के जिला परिषद सदस्य हैं। यहां भाजपा के 7, बसपा का 1 और 4 निर्दलीय जिला परिषद सदस्य जीते हैं। जिला प्रमुख शिमला देवी पंचायतीराज मंत्री रमेश मीणा के क्षेत्र सपोटरा से आती हैं।

Must Read: पिंडवाडा के अम्बेश्वर फली की आबादी में आया भालू, वन विभाग की टीम ने किया सुरक्षित रेस्क्यू

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :