ACB Trap: एक लाख की रिश्वत लेते घूसखोर महिला पटवारी को एसीबी ने किया ट्रेप

जालोर एसीबी की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए प्रदेश के मुख्या के गृह नगर में एक भ्रष्ट महिला पटवारी को एक लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया हैं। आपको बता दें इस पूरी कार्रवाई को अंजाम देने के लिए जालोर एसीबी की टीम ने जाल बिछाकर जोधपुर स्थित चौपासनी हाउसिंग बोर्ड स्थित भ्रष्ट महिला पटवारी को गिरफ्तार किया...

एक लाख की रिश्वत लेते घूसखोर महिला पटवारी को एसीबी ने किया ट्रेप
  • गणपतसिंह मांडोली 9929420786

जोधपुर। प्रदेश को भ्रष्टाचार से मुक्त करने के लिए प्रदेश सरकार पूरी तरह से कटिबद्ध नज़र आ रही है। तभी तो प्रदेश का भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो प्रतिदिन ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों पर नकेल कसते हुए एक के बाद एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम दे रहे हैं। गुरुवार को भी इसी कड़ी में एसीबी की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए प्रदेश के मुख्या के गृह नगर में एक भ्रष्ट महिला पटवारी को एक लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया हैं। आपको बता दें इस पूरी कार्रवाई को अंजाम देने के लिए जालोर एसीबी की टीम ने जाल बिछाकर जोधपुर स्थित चौपासनी हाउसिंग बोर्ड स्थित भ्रष्ट महिला पटवारी के निजी आवास पर इस पूरी कार्रवाई को अंजाम दिया हैं। जालोर एसीबी के पुलिस निरीक्षक राजेन्द्रसिंह ने बताया कि ट्रेप की गई महिला पटवारी सीमा रामावत जोधपुर जिले व तहसील के केरू गांव में पटवारी के पद पर कार्यरत हैं। जिसने परिवादी सुरेशकुमार से एग्रीमेंट के जरिए खरीदी गई पत्थर की एक खान की मौका रिपोर्ट बनाने की एवज में दो लाख रुपये रिश्वत की मांग की गई थी।  जिसकी शिकायत मिलने पर एसीबी की टीम ने इसका सत्यापन करवाया गया। सत्यापन सही पाए जाने और आज रिश्वत की राशि में से एक लाख रुपये देने का तय होने पर जालोर एसीबी के सीआई राजेन्द्रसिंह व उनकी टीम ने जाल बिछाकर इस घूसखोर महिला पटवारी को रंगे हाथ गिरफ्तार किया हैं। आपको बता दें परिवादी से एक लाख रुपये की रिश्वत लेने के बाद परिवादी ने जैसे ही एसीबी टीम को इशारा किया, उधर भ्रष्ट महिला पटवारी को भी इसकी भनक लग गई और एसीबी की टीम को अपने नज़दीक आते देख अरोपिया ने रिश्वत की राशि अपने मकान के प्रथम तल से पड़ोसी के मकान की तरफ नीचे फैंक दिया। जिसे एसीबी की टीम ने पड़ोसी के मकान पर लगी नेट से उक्त राशि बरामद की, वही अरोपिया के हाथों को धुलवाकर रंगे हाथ गिरफ्तार करने की कार्रवाई की।

Must Read: ओमप्रकाश टाइगर की हकीकत : यह चौथा मामला जिसमें मारपीट से मौत, फिर भी अफसर मेहरबान क्यों है

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :