चीनी टेक्नोलॉजी पर अमेरिका का वार: चीन के प्रभाव को समाप्त करने के लिए अमेरिका सीनेट में तैयार करवा रहा है कानून

विश्व में चीनी टेक्नोलॉजी पर कंट्रोल की तैयार शुरू हो रही है। महाशक्ति अमेरिका चीन के बढ़ते प्रभाव को कम करने के लिए सीनेट में कानून तैयार कर सकता है। ऐसी चर्चा चल रही है कि अमेरिका चीनी नाकेबंदी का सबसे बड़ा अभियान शुरू कर सकता है। इसके तहत विधेयक द्विदलीय व्यवस्था के तहत पास किया जाएगा।

चीन के प्रभाव को समाप्त करने के लिए अमेरिका सीनेट में तैयार करवा रहा है कानून

नई दिल्ली, एजेंसी। 
विश्व में चीनी टेक्नोलॉजी (Chinese Technology ) पर कंट्रोल की तैयार शुरू हो रही है। महाशक्ति अमेरिका चीन (China) के बढ़ते प्रभाव को कम करने के लिए सीनेट (Swnate) में कानून तैयार कर सकता है। ऐसी चर्चा चल रही है कि अमेरिका चीनी नाकेबंदी का सबसे बड़ा अभियान शुरू कर सकता है। इसके तहत विधेयक द्विदलीय व्यवस्था के तहत पास किया जाएगा। इसके जरिए यह संकेत देने की कोशिश की जाएगी कि Democratic और Republi दोनों ही पार्टियां चीन को अमेरिका के लिए खतरा मानती हैं।
यूएस इनोवेशन एंड कंपीटिशन एक्ट नाम का यह विधेयक कई सीनेट समितियों ने मिलकर बनाया जा रहा है। राष्ट्रपति जो बाइडेन (US President Joe Biden) इसके लिए समर्थन जाहिर कर चुके हैं, जो अमेरिकन मैन्यूफैक्चरिंग, टेक्नोलॉजी रिसर्च और डेवलपमेंट पर करीब 18 लाख करोड़ रुपए निवेश की मंजूरी देता है।  मई के आखिरी में इस बिल को 68-30 से प्रक्रियागत मंजूरी मिल गई है और उम्मीद की जा रही है कि बाकी मुद्दों के साथ इस बिल को मंजूरी मिल जाएगी।  American business community लंबे समय से आरोप लगाती रही है कि चीनी कंपनियां अनैैतिक कार्यों में लगी हैं। जैसे बौद्धिक संपदा अधिकार चोरी करना और मार्केट में जबरिया अपनी टेक्नोलॉजी को ट्रांसफर करना। यह बिल इस तरीके के अनैतिक काम करने वाली कंपनियों की सूची प्रकाशित करने का अधिकार देता है। साथ ही राष्ट्रपति ऐसे लोगों या संस्थाओं पर प्रतिबंध लगा सकते हैं। इस कानून के दायरे में उन विदेशी प्रतिष्ठानों पर भी प्रतिबंध लगाया जा सकेगा, जिन्होंने अमेरिका में साइबर हमले का समर्थन किया है या शामिल रहे हैं। यह अमेरिका में हेरफेर जैसे मुद्दे से निपटने के लिए टास्क फोर्स का गठन करेगा। साथ ही चीन में स्वत्रंत मीडिया को समर्थन देने के लिए भी फंड देगा।