Afghanistan की पंजशीर घाटी में आतंक: अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी में भी तालिबानी नियंत्रण, तालिबानियों ने हवाई फायर कर मनाया जश्न

अफगान के पंजशीर घाटी में तालिबानियों और रेजिस्टेंस फोर्स के बीच भीषण जंग जारी है। तालिबान का कहना है कि अब पंजशीर पर भी उनका नियंत्रण हो गया। तालिबानियों ने पंजशीर पर जीत की खुशी में काबुल में हवाई फायरिंग तक की। तालिबानियों की फायरिंग के वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा हैं।

अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी में भी तालिबानी नियंत्रण, तालिबानियों ने हवाई फायर कर मनाया जश्न

नई दिल्ली, एजेंसी।
अफगान के पंजशीर घाटी में तालिबानियों और रेजिस्टेंस फोर्स के बीच भीषण जंग जारी है। तालिबान का कहना है कि अब पंजशीर पर भी उनका नियंत्रण हो गया। तालिबानियों ने पंजशीर पर जीत की खुशी में काबुल में हवाई फायरिंग तक की। तालिबानियों की फायरिंग के वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा हैं। इस बीच अफगानिस्तान के मुद्दे पर भारत के विदेश सचिव हर्ष वर्धन ने वॉशिंगटन में मीडिया से बातचीत में कहा है कि अफगानिस्तान के हालात पर अमेरिका और भारत नजर बनाए हुए हैं।  इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के पड़ोसी पाकिस्तान ने तालिबान का समर्थन किया है। ऐसे कई उदाहरण है, जिनमें यह साबित होता है कि पाकिस्तान ने तालिबान की मदद की है। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए पाकिस्तान(Pakistan) की भूमिका पर नजर रखनी होगी। उन्होंने कहा कि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों की अफगानिस्तान में बेरोकटोक आवाजाही और उनकी भूमिका चिंताजनक है। 
कश्मीर राग पर भारत का करारा जवाब
अफगानिस्तान में सरकार के ऐलान से पहले कश्मीर का राग अलापने वाले तालिबान को भारत ने जवाब दे दिया। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शुक्रवार को कहा था कि भारत में संविधान की पालना की जाती है। यहां मस्जिदों में दुआ करने वाले लोगों पर गोलियां और बम से हमला नहीं करते। न ही लड़कियों को स्कूल जाने से रोका जाता हैं और ना ही उनके सिर—पैर काटे जाते हैं। नकवी ने ये बात तालिबान के उस बयान के जवाब में कही थी, जिसमें कहा गया था कि कश्मीर (Kashmir)समेत दुनियाभर के मुसलमानों की आवाज उठाने का हक तालिबान को दिया है। नकवी ने तालिबान से सीधे तौर पर कहा है कि भारत के मुसलमानों(Muslims) को छोड़ दें, उनकी चिंता करने की जरूरत नहीं है। अफगानिस्तान (Afghanistan)की पूर्व सरकार और अमेरिका के हथियारों पर कब्जा करने के बाद तालिबान(Taliban) अब उनके सीक्रेट भी हासिल करना चाहता है। इसीलिए  अफगानिस्तान की अशरफ गनी सरकार के ई-मेल एक्सेस (e-mail access)करने की कोशिश कर रहा है। इसे देखते हुए गूगल ने गनी सरकार(Government of Ghani) के कई ई-मेल अकाउंट टेंपरेरी तौर पर ब्लॉक कर दिए हैं। गूगल ने कहा है कि अफगानिस्तान(Afghanistan) की स्थिति पर एक्सपर्ट से चर्चा जारी है और सरकारी ई-मेल अकाउंट्स(Government e-mail Accounts) की सुरक्षा को देखते हुए एक्शन ले रहे हैं।

Must Read: गांधी जी से जुड़ी चीजों की नीलामी की तैयारी, चश्मे के बाद  अब नीलाम होगी ये ऐतिहासिक चीजें

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :