राज्यपाल से विधायक लोढा की मुलाकात : राज्यपाल के माउंट आबू प्रवास के दौरान आबू रोड मानपुर हवाई पट्टी पर विधायक ने सिरोही को हवाई सेवा से जोड़ने की मांग की

सिरोही विधायक संयम लोढा ने राज्यपाल कलराज मिश्र को आबूरोड मानपुर हवाई पट्टी पर अगुवानी के दौरान ज्ञापन देकर सिरोही जिले के विकास में भारत सरकार में अपने संपर्को का उपयोग कर सहयोग करने का आग्रह किया।

राज्यपाल के माउंट आबू प्रवास के दौरान आबू रोड मानपुर हवाई पट्टी पर विधायक ने सिरोही को हवाई सेवा से जोड़ने की मांग की

सिरोही।
सिरोही विधायक संयम लोढा (Sirohi MLA Sanyam Lodha) ने राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra )को आबूरोड मानपुर हवाई पट्टी पर अगुवानी के दौरान ज्ञापन देकर सिरोही जिले के विकास में भारत सरकार में अपने संपर्को का उपयोग कर सहयोग करने का आग्रह किया। लोढा ने कहां कि स्वयं मिश्र भारत सरकार के केबिनेट मंत्री रहे है और प्रधानमंत्री से सीधा सम्पर्क है। केन्द्र सरकार द्वारा सिरोही जिले में काफी कुछ कार्य करने की आवश्यकता है। विधायक संयम लोढा ने राज्यपाल कलराज मिश्र को सौंपे ज्ञापन में बताया कि सिरोही जिला मुख्यालय पर बडी हवाई पट्टी बनी हुई हैं लेकिन वर्षो से हवाई सेवा प्रारम्भ नहीं होने से यहां के प्रवासी जो दक्षिण भारत के बड़े शहरों में व्यापार व उद्योग धन्धे चला रहे हैं वे अपनी जन्म भूमि में नियमित नहीं आ पाते हैं। हवाई सेवा शुरू होने पर वे अहमदाबाद-मुंबई-बगलुर-पुना-चैन्नई-विजयवाड़ा से आसानी से आ पाएंगे। भारत सरकार से सिरोही को हवाई सेवा से जोड़ने का आग्रह किया। लोढा ने ज्ञापन में बताया कि सिरोही से जालोर 70 किमी का सड़क मार्ग है जो नेशनल हाईवे से नहीं जुडा हैं। भारत सरकार लिंक रोड बनाकर जिलों को नेशनल हाईवे जोड़ने पर काम कर रही हैं इसलिए जालोर जिले को नेशनल हाईवे सिरोही-पाली-जयपुर-दिल्ली मार्ग व सिरोही-आबुरोड़-अहमदाबाद मार्ग से जोडा जा सकता हैं। दक्षिण भारत से आने वाले प्रवासियों को भी सुदृढ़ सड़क मार्ग उपलब्ध करवाने के लिए यह 70 किमी के सडक़ मार्ग को नेशनल हाईवे मार्ग घोषित कर इसे फोरलेन बनाया जावें। ताकि जालोर भी फोरलेन हाईवे से जुड़ सकें। सिरेाही में केन्द्रीय विद्यालय भी अभी तक स्वीकृत नहीं हुआ हैं। इससे भी जिले के टेलेन्टेड विद्यार्थी इससे वंचित हैं। लोढा ने बताया कि सिरोही जिले में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए एक सरकारी उद्योग या उपक्रम भारत सरकार अपनी ओर से खोले ताकि यहां पर जो खनिज व कृषि जिन्स, (वरियाली, रायडा, जीरा ) तथा टमाटर , दाड़म की जो खेती हैं उसका सही भाव किसानों को मिल सकें।

सिरोही को रेलसेवा से जोड़ने का आग्रह
विधायक संयम लोढा ने राज्यपाल को सौपे ज्ञापन में बताया कि आजादी के 75 साल बाद भी सिरोही जिला मुख्यालय रेल सेवा से भी नहीं जुड़ पाया हैं। भारत सरकार का नीतिगत निर्णय है कि हर जिला मुख्यालय रेलवे से जुडे। इसके लिए जालोर-सिरोही-उदयपुर नई रेल लाईन बिछाने के लिए सर्वे हो चुका हैं लेकिन काम शुरू करने के लिए बजट आवंटन नहीं होने से काम आगे नहीं बढ़ रहा हैं। राजस्थान के केवल दो जिले टोंक व सिरोही ही रेल से जुडने से वंचित रहे हैं।

पिण्डवाडा स्टेशन एक्सप्रेस ट्रेने रोकने का आग्रह
लोढा ने बताया कि सिरोही जिला मुख्यालय का वर्तमान में रेलवे स्टेशन पिण्डवाड़ा हैं जहां पर अभी सभी एक्सप्रेस ट्रेन नहीं रूकने से यात्रियों को 70 किमी दुर जाना पड़ता हैं। पिण्डवाड़ा रेलवे स्टेशन पर सभी एक्सप्रेस ट्रेन का ठहराव रेलवे घोषित करें उसके लिए आपके स्तर से रेल मंत्रालय को आग्रह करावें। वहीं रेवदर विधान सभा क्षेत्र में जनता की आमदनी खेती पर आधारित हैं इसलिए खेती की नई तकनीक को बढ़ावा देने के लिए सरकार रेवदर मॉडल कॉलेज में कृषि् महाविद्यालय की स्थापना करें।

माउण्ट आबू पर्यटन विकास का तैयार हो मास्टर प्लान
विधायक लोढा ने बताया कि माउण्ट आबू देश का ही नहीं विश्व का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल हैं । इसको बढ़ावा देने के लिए यहां पर आधारभूत सुविधाओं का विस्तार भारत सरकार करें उसके लिए ’माउण्ट आबू पर्यटन विकास’ का मास्टर प्लान भारत सरकार तैयार करावे ताकि उससे भी स्थानीय जनता को रोजगार मिल सकें ओर पर्यटकों का आवागमन भी बढ़ सकें।

माउण्ट आबू से गुलाबगंज अधुरी सडक़ निर्माण का आग्रह
विधायक संयम लोढा ने ज्ञापन में बताया कि बरसात में माउण्ट आबू-आबुरोड सडक़ मार्ग पर चट्टाने गिरने से सडक़ मार्ग अवरूद्ध हो जाती हैं और आबू का सम्पर्क देश से कट जाता है इसलिए इसका एक वैकल्पिक सडक मार्ग माउण्ट आबू से गुलाबगंज तक 22 किमी. का है जो 17 किलो मीटर डामर सड़क बनी हुई हैं एवं मात्र 5 किमी का काम बाकी हैैं। इस मार्ग से सिरोही जिला मुख्यालय मात्र 50 किमी दुर है जबकि अभी माउण्ट आबू-आबुरोड़ सडक़ से सिरोही जिला मुख्यालय 100 किमी दूर है। इसलिए माउण्ट आबू से गुलाबगंज अधुरी सडक़ निर्माण को पूरा करवाया जावे ताकि आबूपर्वत दोनों तरफ से नेशनल हाईवे सडक़ मार्ग से जुड सकें। यह सडक़ बनने से समय-डीजल व पेट्रोल की भारी बचत होगी।

Must Read: कर्नाटक के मुख्यमंत्री येड्डियुरप्पा ने दिया इस्तीफा, आज सरकार के पुरे हुए 2 साल

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :