वैक्सीनेशन और राज्यों की पहल: देश के 11 राज्यों की सरकारों ने 1 मई से निःशुल्क वैक्सीनेशन लगाने का किया ऐलान

11 राज्यों ने हर उम्र के लोगों को मुफ्त में वैक्सीन लगाने का ऐलान कर दिया है। वहीं दूसरी ओर अब वैक्सीनेशन को लेकर भी राजनीति शुरू हो गई। 

देश के 11 राज्यों की सरकारों ने 1 मई से निःशुल्क वैक्सीनेशन लगाने का किया ऐलान

नई दिल्ली। 
देश में कोरोना के खिलाफ चल रहे वैक्सीनेशन कोे 100वां दिन हो गए। इस दौरान करीबन 14 करोड़ 8 लाख से अधिक लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। इनमें 11 करोड़ 85 लाख लोग ऐसे हैं, जिन्हें एक डोज दी गई है। 2 करोड़ 22 लाख लोगों को दोनों डोज लग चुकी है। अब तक हेल्थ केयर वर्कर्स, फ्रंट लाइन वर्कर्स, 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को और अन्य गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों को मुफ्त में वैक्सीन लगाई जा रही थी, लेकिन 1 मई से केंद्र सरकार ने 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को भी वैक्सीन लगवाने की मंजूरी मिल गई है। हालांकि, इस बार केंद्र सरकार ने फैसला लिया है कि ये 18 से 45 साल के बीच के लोग या तो प्राइवेट हॉस्पिटल में वैक्सीन लगवाएं या फिर राज्य सरकार की ओर से की जा रही व्यवस्था के तहत वैक्सीनेशन कराएं। मतलब इन उम्र के लोगों को केंद्र सरकार की तरफ से फ्री वैक्सीन नहीं दी जाएगी। 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को पहले की तरह मुफ्त में वैक्सीन लगाना जारी रहेगा। इधर, केंद्र के इस निर्देश के बाद 11 राज्यों ने हर उम्र के लोगों को मुफ्त में वैक्सीन लगाने का ऐलान कर दिया है। वहीं दूसरी ओर अब वैक्सीनेशन को लेकर भी राजनीति शुरू हो गई। 
11 राज्यों में निः शुल्क लगाई जाएगी वैक्सीन
देश के 11 राज्यों में कोरोना की वैक्सीन निःशुल्क लगाई जाएगी। इनमें उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, दिल्ली, छत्तीशगढ़, पंजाब, असम, केरल, झारखण्ड, गोवा और सिक्किम शामिल है। यूपी की योगी आदित्य नाथ सरकार ने एक मई से 18 साल और उससे अधिक उम्र के लोगों को कोविड-19 का टीका फ्री लगाने का फैसला किया है। 22 करोड़ की आबादी वाले इस प्रदेश में अब तक 1.2 करोड़ लोगों को ही केवल वैक्सीन लगाई गई है। यहां अब तक 10 लाख 51 हजार 314 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 7 लाख 52 हजार 211 लोग ठीक हो गए हैं, जबकि 10 हजार 959 मरीजों की मौत हो चुकी है। मध्य प्रदेश के शिवराज सिंह सरकार ने 18 से अधिक उम्र के सभी लोगों को फ्री में वैक्सीन लगाने का ऐलान किया है। मध्य प्रदेश में अब तक 4 लाख 85 हजार 703 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। बिहार में वैक्सीनेशन प्रोग्राम पहले से ही मुफ्त में चल रहा है। मुफ्त वैक्सीनेशन की घोषणा बिहार विधानसभा चुनाव से पहले ही की जा चुकी थी। जब नीतीश मुख्यमंत्री बने तो कैबिनेट की पहली बैठक में ही उन्होंने मुफ्त में टीका देने पर मुहर लगा दी थी। दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि राज्य के सभी 2 करोड़ लोगों को मुफ्त में वैक्सीन लगाई जाएगी। दिल्ली उन राज्यों में से एक है जहां संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले हैं। कांग्रेस शासित राज्य छत्तीसगढ़ में भी फ्री वैक्सीनेशन का ऐलान हो चुका है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि राज्य में संक्रमण रोकने के लिए हर संभव कोशिश की जाएगी। पंजाब भी कांग्रेस शासित दूसरा राज्य है, जहां हर उम्र के लोगों के लिए मुफ्त वैक्सीनेशन का ऐलान किया गया है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि राज्य में वैक्सीनेशन प्रोग्राम काफी तेजी से होगा। केरल देश का दूसरा सबसे संक्रमित राज्य है। यहां अब तक 13 लाख 77 हजार 187 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। असम बीजेपी शासित राज्य में हाल ही में विधानसभा चुनाव हुए हैं। राज्य सरकार ने राज्य के सभी लोगों को मुफ्त में वैक्सीन लगाने का आदेश जारी किया है। झारखंड राज्य में अब तक 1 लाख 95 हजार 844 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 1 लाख 48 हजार 364 मरीज ठीक हो चुके हैं, जबकि 1,888 मरीजों की मौत हो चुकी है। गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य में सभी को मुफ्त में वैक्सीन लगाने का आदेश दिया है। सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने राज्य में हर उम्र के लोगों को मुफ्त में वैक्सीन लगाने का ऐलान किया है।