Jaipur @ शौचालय का महत्व पर जागरूकता: विश्व शौचालय दिवस के उपलक्ष में ​निकाली जागरूकता रैली, शौचालय के महत्व पर सेमीनार 24 को

विश्व शौचालय दिवस के उपलक्ष में नगर निगम हैरिटेज और सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च सेंटर सी—फॉर के संयुक्त तत्वावधान में जागरूकता रैली निकाली गई। रैली को नगर निगम हैरिटेज की मेयर मुनेश गुर्जर और उपायुक्त आशीष कुमार ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

विश्व शौचालय दिवस के उपलक्ष में ​निकाली जागरूकता रैली, शौचालय के महत्व पर सेमीनार 24 को

जयपुर। 
विश्व शौचालय दिवस के उपलक्ष में नगर निगम हैरिटेज और सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च सेंटर सी—फॉर के संयुक्त तत्वावधान में जागरूकता रैली निकाली गई। रैली को नगर निगम हैरिटेज की मेयर मुनेश गुर्जर और उपायुक्त आशीष कुमार ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली के माध्यम से विभिन्न संगठनों की प्रति​निधियों ने लोगों को शौचालय का महत्व बताया। 
समारोह में मेयर मुनेश गुर्जर ने कहा कि हमें हमारे दैनिक जीवन में बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वच्छता पर जोर देना चाहिए। जयपुर हैरिटेज निगम खुले में शौच मुक्त बनाए रखने के लिए अथक प्रयास कर रहा है। इसके साथ ही निगम का प्रयास है कि शहरी कच्ची बस्तियों में बुजुर्गों, विकलंगों के साथ महिला व लड़िकयों के लिए शौचालय की समुचित व्यवस्था की जाए।

रैली के उद्घाटन समारोह में कार्यक्रम की उप निदेशक जूही जैन ने कहा कि आज सरकार के साथ ​विभिन्न समुदायों के लोगों को एक साथ मजबूर पार्टरनशीप करने की जरूरत है। इसमें जरूरी सेवाओं से वंचित लोगों की पहचान करने तक ही नहीं, बल्कि उनके लिए जरूरी सेवाओं को जोड़ने के साथ यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित ना रहें। सी—फॉर के स्टेट प्रोजेक्ट मैनेजर रवि किरण ने बताया कि रैली में 100 से अधिक समुदायों के प्रति​निधि शामिल थे। इनमें मुख्य रूप से सिंगल विंडो फोरम, सामुदायिक प्रबंधन कमेटी, सेल्फ हेल्प ग्रुप, 20 वार्डों की कच्ची बस्तियों की विकास समितियों के प्रतिनिधियों ने जागरूकता रैली में भाग लिया। रवि किरण ने बताया कि विश्व शौचालय दिवस पर हम सभी को स्वच्छता के लिए अपने प्रतिबद्धता को दौहराना चाहिए। हमारा मुख्य उद्देश्य यह है कि सभी समुदाय शौचालय का उपयोग करें। हमें विशेष तौर पर नि:शक्तजन, ट्रांसजेंडर और बुजुर्गों के लिए सेवाओं में सुधार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सी—फॉर का सिंगल फोरम विंडो और सामुदायिक प्रबंधन कमेटी नगर निगम के साथ मिलकर सभी 68 कच्ची बस्तियों में सेवाओं की पुख्या व्यवस्था करने का प्रयास करेगी।

निगम के उपायुक्त आशीष कुमार ने कहा कि सिंगल विंडो फोरम और समुदाय प्रबंधन कमेटी के सदस्य निगम की गरीब परिवारों तक पहुंचने में मदद करेंगे। इसके साथ ही उन लोगों को सुरक्षित प्रथाओं को अपनाने में भी जागरूक करेंगे। कुमार ने कहा कि ये सदस्य जरूरतमंदों की पहचान करने के साथ ही उनकी समस्यों के समाधान में भी निगम की सहायता करेंगे। इस दौरान ट्रांसजेंडर कल्याण बोर्ड की सदस्य पुष्पा माई ने भी संबोधित करते हुए ट्रांसमेन व ट्रांसवुमन की समस्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक शौचालयों में ट्रांसजेंडर को उत्पीड़न का शिकार होना पड़ता है। पुष्पा माई ने नगर निगम से मांग की है कि इस विश्व शौचालय दिवस के अवसर पर सार्वजनिक शौचालयों पर ट्रांसजेंडर साइन का भी उपयोग किया जाए। इस दौरान सिंगल विंडो फोरम की गोपी देवी ने कहा कि नि:शक्तजन और ​बुजुर्ग लोग पहले से ही सार्वजनिक शौचालयों में बहुत सी समस्याओं का सामना करते है। कोई भी शौचालय नि:शक्तजनों की सुविधार्थ तैयार नहीं है। उन्होंने निगम के इंजीनियरों को नि:शक्तजनों के समुदाय से बातचीत कर शौचालयों में बदलाव करने की जरूरत बताई। रैली में महिलाओं ने हाथों में जागरूकता संबंध नारे लिखी तख्तियां लेकर समाज को स्वच्छता का संदेश दिया। रैली में शामिल महिलाएं नगर निगम हैरिटेज के रवाना होकर शहर की कई बस्तियों में पहुंची। लोगों को शौचालय के महत्व में बारे में बतलाया। 

Must Read: शराब पर अब नहीं मिलेगा डिस्काउंट, नियम के उल्लंघन पर लाइसेंस रद्द

पढें लाइफ स्टाइल खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :