भारत: राष्ट्रपति मुर्मू ने आईएएस अधिकारियों से वंचितों तक पहुंच बढ़ाने को कहा

वर्तमान में विभिन्न केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों में सहायक सचिवों के रूप में पदस्थ 2020 बैच के 175 आईएएस अधिकारियों के एक समूह ने गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति मुर्मू से मुलाकात की।

राष्ट्रपति मुर्मू ने आईएएस अधिकारियों से वंचितों तक पहुंच बढ़ाने को कहा
President Murmu asks IAS officers to reach out to underprivileged.
नई दिल्ली, 25 अगस्त (आईएएनएस)। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने गुरुवार को देश के आईएएस अधिकारियों से वंचितों तक पहुंचने और उनके जीवन स्तर में सुधार करने को कहा।

वर्तमान में विभिन्न केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों में सहायक सचिवों के रूप में पदस्थ 2020 बैच के 175 आईएएस अधिकारियों के एक समूह ने गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति मुर्मू से मुलाकात की।

अधिकारियों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि भारत को ज्ञान, आपूर्ति-श्रृंखला, नवाचार, प्रौद्योगिकी-विकास और विभिन्न अन्य क्षेत्रों के वैश्विक केंद्र के रूप में उभारने में सिविल सेवकों की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि भारत को सामाजिक रूप से समावेशी और पर्यावरणीय रूप से सतत विकास के क्षेत्रों में नेतृत्व की अपनी स्थिति को मजबूत करना होगा।

इस तथ्य की ओर इशारा करते हुए कि 2047 तक, 2020 बैच के अधिकारी सबसे वरिष्ठ निर्णय लेने वाले अधिकारी होंगे, राष्ट्रपति ने कहा कि जोश और गर्व के साथ काम करके, वे यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि 2047 का भारत अधिक समृद्ध, मजबूत और खुशहाल हो।

उन्होंने कहा, 2047 के भारत को आकार देने के लिए उन्हें आधुनिक ²ष्टिकोण और सेवा भावना के साथ काम करना होगा। मिशन कर्मयोगी सिविल सेवकों को उनके ²ष्टिकोण में अधिक आधुनिक, गतिशील और संवेदनशील बनाने की एक प्रमुख पहल है।

राष्ट्रपति ने कहा, बुनियादी ढांचे में जबरदस्त वृद्धि के साथ, देश के दूरदराज के हिस्सों तक पहुंचना आसान हो गया है। सिविल सेवकों से अपेक्षा की जाती है कि वे अपने क्षेत्र के अंतिम व्यक्ति या सबसे वंचित व्यक्ति तक पहुंचें और उनके जीवन स्तर में सुधार करें।

उन्होंने कहा, वे उन लोगों के लिए अवसरों के द्वार खोल सकते हैं जिन्हें कल्याणकारी योजनाओं या विकास कार्यक्रमों की जानकारी नहीं है। किसी भी कल्याणकारी पहल को वास्तव में तभी सफल माना जा सकता है, जब उसका लाभ हमारे समाज के सबसे निचले तबके के गरीबों, दलितों और अन्य लोगों तक पहुंचे।

राष्ट्रपति ने कहा कि लोक सेवकों को जन सेवा के प्रति समर्पण, कमजोर वर्गों के प्रति सहानुभूति और करुणा, सत्यनिष्ठा और आचरण के उच्चतम मानकों को बनाए रखने और निष्पक्षता और वस्तुनिष्ठता के सिद्धांतों का पालन करना चाहिए। उनसे उम्मीद की जाती है कि वे पंचायती राज संस्थाओं, प्रशासन, अनुसूचित क्षेत्रों और जनजातियों के संबंध में संवैधानिक प्रावधानों को लेकर खासतौर से सजग और सक्रिय रहें और इसके अलावा छठी अनुसूची में उल्लिखित पूर्वोत्तर के जनजातीय इलाकों में प्रशासन के प्रावधानों के प्रति भी जागरूक रहें।

राष्ट्रपति ने कहा कि लोक सेवकों में मानव विकास सूचकांक की ²ष्टि से अपने क्षेत्र को अव्वल बनाने का जोश होना चाहिए और उन्हें वंचितों के जीवन को पूरी तरह से बदलने में गर्व महसूस करना चाहिए। उन्हें उन लोगों के प्रति संवेदनशील होना चाहिए जिनकी सेवा करने के लिए वे कर्तव्यबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि वसुधैव कुटुम्बकम महान भारतीय लोकाचार का हिस्सा है, जिसका तात्पर्य है संपूर्ण विश्व एक बड़ा परिवार है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Must Read: प्रकाश झा की मट्टू की साइकिल का ट्रेलर हुआ रिलीज

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :