अग्निवीर भर्ती रैली: हरीश रावत ने सतपाल महाराज को दी बधाई, कहा - अग्निपथ योजना के नाम से तैयार हो रही प्राइवेट आर्मी

उन्होंने कहा कि उन्हें डर है कि कुछ सालों के बाद सरकार अड़ानी से न कह दें इन अग्निवीरों को ख्याल रखना जब जरुरत होगी तो अग्निवीरों को उनसे उधार ली जाएगी। वहीं, हरीश रावत ने सतपाल महाराज के अग्निवीर मामले में बयान पर कहा कि पहली बार उन्होंने सूझबूझ वाली बात कही है। इसमें भी सतपाल महाराज ने आधी सूझबूझ दिखाई है।

हरीश रावत ने सतपाल महाराज को दी बधाई, कहा - अग्निपथ योजना के नाम से तैयार हो रही प्राइवेट आर्मी
Harish Rawat congratulates Satpal Maharaj.

हल्द्वानी / देहरादून, 23 अगस्त। उत्तराखंड में अग्निपथ योजना के तहत अग्निवीर भर्ती रैली जारी है, लेकिन इस भर्ती रैली को लेकर सियासत भी तेज हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अग्निवीरों की भर्ती को लेकर सरकार पर जमकर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि अग्निपथ योजना के नाम से प्राइवेट आर्मी के लिए रिक्रूट तैयार किए जा रहे हैं। आखिर अग्निवीर योजना हमारी सेना का विकल्प कैसे हो सकता है? उन्होंने कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज को बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने अग्निवीर भर्ती पर सवाल उठाए हैं, लेकिन असली बधाई की पात्र तब होंगे, जब खुद सतपाल महाराज कहेंगे कि अग्निपथ योजना बेकार है।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का कहना है कि यह अग्निपथ नहीं बल्कि बबार्दी का पथ है। अग्निपथ योजना उत्तराखंड की पहचान मिटाने का बड़ा षड़यंत्र है। अगले दस साल बाद कुमाऊं रेजीमेंट, गढ़वाल रेजीमेंट और गोरखा रेजीमेंट हमारी बहादुरी के इतिहास के साथ जुड़ी हुई हैं। जो इतिहास की बातें हो जाएंगी। यह रेजीमेंट अग्निपथ में सभी समाहित हो जाएंगी।

उन्होंने कहा कि उन्हें डर है कि कुछ सालों के बाद सरकार अड़ानी से न कह दें इन अग्निवीरों को ख्याल रखना जब जरुरत होगी तो अग्निवीरों को उनसे उधार ली जाएगी। वहीं, हरीश रावत ने सतपाल महाराज के अग्निवीर मामले में बयान पर कहा कि पहली बार उन्होंने सूझबूझ वाली बात कही है। इसमें भी सतपाल महाराज ने आधी सूझबूझ दिखाई है।

युवाओं ने लगाया था अनियमितता का आरोप:

दरअसल, कोटद्वार सेना भर्ती में भाग लेने पहुंचे युवाओं ने अनियमितता का आरोप लगाया है। युवाओं का कहना है कि भर्ती मानक की ऊंचाई 163 सेंटीमीटर रखी गई थी, जबकि 165 सेंटीमीटर से ज्यादा हाईट वालों को ही भर्ती में ले रहे हैं।

साथ ही एक बार में 300 अभ्यर्थियों को दौड़ाया जा रहा है। जिसमें से केवल 8 से 10 अभ्यर्थी को ही लिया जा रहा है। जबकि, कोरोनाकाल के बाद उत्तराखंड में सेना की भर्ती हो रही है। भर्ती में मानकों की अनदेखी की जा रही है।

सतपाल महाराज अग्निवीर भर्ती में गड़बड़ी का लिया संज्ञान:

बता दें कि पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने अग्निवीर भर्ती को लेकर कुछ सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि युवाओं के भविष्य से जुड़ा विषय होने की वजह से इसकी जांच होना जरूरी है। कई विसंगतियों के कारण उत्तराखंड के बच्चे निराश होकर अपने घर वापस लौट रहे हैं।

सतपाल महाराज ने कहा पहले ही पहाड़ी क्षेत्र के युवाओं के लिए शरीर की ऊंचाई को लेकर रिलेक्सेशन दिया गया है, लेकिन भर्ती प्रक्रिया में उसे अमल में नहीं लाया जा रहा है। उन्होंने केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट से फोन पर वार्ता करते हुए तीन बिंदुओं पर अपनी आपत्ति दर्ज कराई है।

कांग्रेस ने सतपाल महाराज के उठाए सवाल को बताया सही:

वहीं, कांग्रेस ने भी सतपाल महाराज के अग्निवीर भर्ती को लेकर सवाल उठाए जाने को वाजिब बताया है। साथ ही सरकार पर इस योजना को लेकर जमकर निशाना साधा है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा का कहना है कि सतपाल महाराज ने अग्निवीर भर्ती को लेकर वाजिब सवाल उठाए हैं। भर्ती में नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पहले ही अग्निवीर योजना ने उत्तराखंड का मूड खराब कर दिया है। क्योंकि, हमारे प्रदेश में गढ़वाल और कुमाऊं रेजीमेंट का घर है।

यहां से प्रत्येक परिवार का कोई ना कोई व्यक्ति सेना में तैनात है, लेकिन इस योजना से अपने पिता की तरह देश की सेवा करने के इच्छुक नौजवानों का सपना टूटा है। जिसे उत्तराखंड से लगाव होगा, वो निश्चित ही अग्निपथ योजना का विरोध करेगा। उन्होंने कहा कि इस योजना से देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से तबाह होने वाली है। राष्ट्र प्रेमी होने के नाते देश की सीमाएं खतरे में भी पड़ती नजर आ रही है।

यूकेएसएसएससी पेपर लीक मामले की सीबीआई जांच की मांग:

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग पेपर लीक मामले में बीजेपी सरकार को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने कहा कि हाकम सिंह उत्तराखंड की संस्कृति की पहचान बन चुका है। जनता को ऐसा लग रहा है कि सरकार एसटीएफ को निष्पक्ष रूप से जांच नहीं करने देगी।

लिहाजा, मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी जाए या हाईकोर्ट की सिटिंग जज की एक बेंच एसआईटी का गठन करें। जो इस मामले की जांच करें। जब तक इस मामले की निष्पक्ष जांच नहीं हो जाती या मामले से व्यक्ति गिरफ्तार नहीं हो जाता, तब तक इस जांच को जुड़ा अंतिम निष्पक्ष रूप से पूर्ण कराना सीएम पुष्कर सिंह धामी का कर्तव्य है।

वहीं, हरीश रावत ने कहा कि महंगाई और भ्रष्टाचार के खिलाफ 4 सितंबर को केंद्र सरकार के खिलाफ दिल्ली में एक बड़ा प्रदर्शन किया जाएगा। जिसमें देशभर के लाखों कांग्रेसी कार्यकर्ता इकट्ठा होंगे और केंद्र सरकार के खिलाफ हल्लाबोल करेंगे।

उत्तराखंड से भी लगभग 15,000 कांग्रेसी कार्यकर्ता इस प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे। हरीश रावत ने कहा कि जल्द ही राहुल गांधी के नेतृत्व में कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक भारत जोड़ो यात्रा निकाली जाएगी। जिसकी तैयारियां पूरी कर ली गई है।

Must Read: यूपी में ग्राम प्रधान ने दलित व्यक्ति को जूतों से पीटा

पढें उत्तर प्रदेश खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :