मेरे दोस्तों की जान चली गई: किन्नरों से पीछा छुड़ाने के लिए ट्रेन से कूदे दो श्याम भक्त आए दूसरी ट्रेन की चपेट में, उड़ गए चिथड़े

सवाई माधोपुर से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। जिसमें किन्नरों के आतंक से परेशान दो लोगों ने चलती ट्रेन से छलांग लगा दी। इस घटना में दोनों युवकों की मौत हो गई।

किन्नरों से पीछा छुड़ाने के लिए ट्रेन से कूदे दो श्याम भक्त आए दूसरी ट्रेन की चपेट में, उड़ गए चिथड़े

सवाई माधोपुर | राजस्थान के सवाई माधोपुर से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। जिसमें किन्नरों के आतंक से परेशान दो लोगों ने चलती ट्रेन से छलांग लगा दी। इस घटना में दोनों युवकों की मौत हो गई। इस हादसे के बाद दोनों युवकों का तीसरा साथी सदमे में आ गया है। वहीं दूसरी ओर, किन्नरों द्वारा ट्रेन में हर दिन उत्पात मचाने की घटनाओं के बाद भी प्रशासन ने इस ओर आंख मूंद रखी है। इस घटना के बाद आरपीएफ और जीआरपी का कहना है कि, किन्नर जैसी कोई बात नहीं है। बिना टिकिट के किसी को भी अंदर नहीं आने दिया जाता। 

किन्नर ट्रेन में चढ़कर कर रहे थे पैसा वसूली
जानकारी के अनुसार, ये हादसा देर रात करीब दो बजे हुआ। जब तीन दोस्त ट्रेन से श्याम बाबा के दर्शन के लिए खाटू श्याम जी जा रहे थे। तीनों सवाई माधोपुर में चौधरी मौहल्ले के निवासी थे। तीनों ट्रेन में चढ़कर अपनी सीटों पर बैठ गए थे। तभी ट्रेन में कुछ किन्नर पैसे मांगने आ गए और किन्नरों ने यात्रियों को परेशान करना शुरु कर दिया। उनसे मारपीट और छीना छपटी शुरु कर दी।

ये भी पढ़ें:-  फ्लाईओवर से नीचे गिरा बाइक सवार: नागपुर में नशेड़ी कार चालक ने चार बाइक सवारों को कुचला, 2 की मौत, दो घायल

किन्नरों से पीछा छुड़ाने के लिए कूदे ट्रेन से
घटना में जान गंवाने वाले दो युवकों का नाम फूलचंद्र और महेश कुमार था जबकि, उनका तीसरा साथी अनिल है। तीसरे दोस्त ने पुलिस को बताया कि किन्नरों ने ट्रेन में आतंक मचा दिया। वे लोगों को पीट रहे थे और जबरन रुपए मांग रहे थे लोगों के सामान की छीना झपटी कर रहे थे। ऐसे में हम लोग भी डर गए और ट्रेन से बाहर जाने की तैयारी कर ली। फूलचंद और महेश आगे थे और उन्होंने उतरने के लिए जैसे ही ट्रेन से कूदे तो वे दूसरे ट्रेक पर आ रही ट्रेन की चपेट में आ गए। जिससे दोनों के चिथड़े उड़ गए। 

ये भी पढ़ें:- Covid 19 Updates: देश में कोरोना की मार लगातार जारी, आज सामने आए 5 हजार 554 नए मामले, राजस्थान में फिर बढ़ें संक्रमित

एक मृतक दोस्त की जल्द होने वाली थी शादी
हादसे का शिकार हुए दो दोस्तों के तीसरे दोस्त अनिल कहा कि, मेरे सामने ही मेरे दोस्तों की जान चली गई, मैं कुछ नहीं कर सका। उसने बताया कि मृतक फूलचंद के दो बच्चे हैं और वह नाई की दुकान चलाता था। जबकि, मृतक महेश की उम्र पच्चीस साल है और वह ठेला लगाता था। जल्द ही उसकी शादी होने वाली थी। वह परिवार का इकलौता बेटा था। घर में वहीं अकेला कमाने वाला था। हादसे के बाद दोनों युवकों के परिवार में कोहराम मचा हुआ है।

Must Read: सिरोही पुलिस अधीक्षक रहे हिम्मत अभिलाष टांक ही करवा रहे थे अवैध शराब तस्करी, विजिलेंस और एसओजी की जांच में खुलासा , firstbharat.in टांक की भूमिका पर पहले दिन से ही उठा रहा था सवाल

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :