भारत: अमीर दोस्तों के कल्याण को बढ़ावा दे रही केंद्र सरकार : आप

आम आदमी पार्टी जिसने सत्ता में आने के बाद राजधानी में मुफ्त बिजली और पानी देना शुरू किया, उसे इस परपंरा का शुरुआती बिंदु कहा जा सकता है। हालांकि, पहले भी कई सरकारें बिजली के बिल, पानी के बिल और कृषि ऋण माफ करती आई है, लेकिन आम आदमी पार्टी मुफ्तखोरी को जनता में निवेश का नाम देती है।

अमीर दोस्तों के कल्याण को बढ़ावा दे रही केंद्र सरकार : आप
AAP party Flag

नई दिल्ली | आज जिस बहुचर्चित मुद्दे ने कई राज्यों के आम नागरिकों का ध्यान खींचा है, वह है मुफ्त की रेवड़ी की राजनीति, जो कुछ मायनों में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से शुरू हुई और विधानसभा चुनावों के माध्यम से कई राज्यों में अपना रास्ता बना चुकी है।

एक तरफ मुफ्त सामग्री देने की राजनीति की आलोचना की जा रही है, तो वहीं दूसरी तरफ इसकी वकालत भी की जा रही है। इसकी वकालत करने वाले इसे कल्याणकारी राज्य का एक महत्वपूर्ण पहलू बताते हैं, तो वहीं इसकी आलोचना करने वाले इसे खराब अर्थव्यवस्था के लिए जिम्मेदार ठहराते हैं।

हालांकि, यह मुद्दा भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय की एक जनहित याचिका के माध्यम से शीर्ष अदालत तक पहुंच गया है, जो राजनीतिक दलों द्वारा मतदाताओं को मुफ्त में देने या वादा करने की घोषणा के खिलाफ है।

आम आदमी पार्टी जिसने सत्ता में आने के बाद राजधानी में मुफ्त बिजली और पानी देना शुरू किया, उसे इस परपंरा का शुरुआती बिंदु कहा जा सकता है। हालांकि, पहले भी कई सरकारें बिजली के बिल, पानी के बिल और कृषि ऋण माफ करती आई है, लेकिन आम आदमी पार्टी मुफ्तखोरी को जनता में निवेश का नाम देती है।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के यूरोपीय अध्ययन केंद्र के सहायक प्रोफेसर डॉ. शक्ति प्रसाद श्रीचंदन का कहना है कि भारत जैसे देश के लिए, जहां बहुत से लोग अभी भी गरीबी रेखा से नीचे हैं, कभी-कभी मुफ्त की आवश्यकता होती है। लेकिन यह एक स्थायी तरीके से और अर्थव्यवस्था पर दबाव डाले बिना होना चाहिए।

उन्होंने आईएएनएस को बताया, लेकिन आज हम देखते हैं कि वोट बटोरने के लिए मुफ्त को हथियार बनाकर सत्ता हासिल की जा रही है। जल्दी या बाद में, यह अर्थव्यवस्था को प्रभावित करेगा और अन्य समस्याएं पैदा करेगा।

मुफ्तखोरी की राजनीति के गंभीर परिणाम हो सकते हैं, जैसा कि हमने हाल ही में श्रीलंका के मामले में देखा है। अगर इस मुफ्तखोरी की राजनीति पैंतरे को नियंत्रित नहीं किया गया, तो आशंका है कि भारत का भी ऐसा ही हश्र हो सकता है।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने पिछले हफ्ते एक प्रेस वार्ता में कहा था कि भाजपा जनता के लिए कल्याणकारी योजनाओं को मुफ्त की रेवाड़ी कहती है, लेकिन हम इसे आम लोगों पर निवेश कहते हैं।

उन्होंने कहा कि देश में शासन के दो मॉडल अपनाए जा रहे हैं। एक है शासन का दोस्तवाद मॉडल, जहां सत्ता में बैठे लोग अपने दोस्तों की मदद करते हैं, सुपर अमीर दोस्तों के करोड़ों टैक्स माफ करते हैं और इसे विकास कहते हैं।

वहीं दूसरा मॉडल स्कूल खोलने का, जहां बच्चों को मुफ्त शिक्षा, नागरिकों को मुफ्त बिजली, महिलाओं के लिए मुफ्त बस यात्रा और बुजुर्गो को पेंशन आदि पर ईमानदार से काम किया जाता है।

ये भी पढ़ें:- Asia Cup 2022: 28 अगस्त को भारत के साथ मुकाबले से पहले पाक टीम को बड़ा झटका, तेज गेंदबाज शाहीन अफरीदी बाहर

हालांकि, अर्थव्यवस्था पर बेवजह बोझ डालने के लिए मुफ्तखोरी कल्चर की आलोचना की जा रही है, जो अंतत: देश में मुद्रास्फीति को बढ़ावा देगी।

दिल्ली विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान के प्रोफेसर हिमांशु रॉय ने कहा कि अगर नागरिकों को कुछ मुफ्त देना उत्पादक है तो यह ठीक है, लेकिन मुफ्त के नाम पर आप जो कर रही है वह अनुत्पादक है, जैसे महिलाओं को एक हजार रुपये देना, जो अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने वाला नहीं है, बल्कि महंगाई बढ़ाने वाला है।

रॉय ने आईएएनएस से कहा, जो कुछ भी उत्पादकता और रोजगार से जुड़ा हुआ है, वह स्वीकार्य है, लेकिन चुनाव जीतने के लिए करदाताओं के पैसे का एक छोटा सा हिस्सा जिसका उत्पादकता से कोई लेना-देना नहीं है, दुरुपयोग है।

केंद्र की नीति के बारे में बात करते हुए, रॉय ने कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम को सड़कों के निर्माण के लिए उत्पादकता से जोड़ा गया है जिससे रोजगार पैदा होगा और एक सड़क का निर्माण भी होगा।

उन्होंने कहा कि एक हद तक मुफ्त शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल देना ठीक है, क्योंकि यह सार्वजनिक उपभोग के लिए है। जब कुछ भी मुफ्त में उपलब्ध होता तो जाहिर तौर पर उसका दुरुपयोग बढ़ जाता, यह एक सार्वजनिक प्रवृत्ति है।

रॉय ने कहा कि इस संस्कृति का न केवल अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा, बल्कि देश में उच्च मुद्रास्फीति पैदा होगी।

इसके विपरीत दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 75वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर हर घर में मुफ्त अच्छी शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, 300 यूनिट बिजली और सभी को बेरोजगारी भत्ता देने की मांग की।

केजरीवाल ने कहा, कुछ लोग ऐसे भी हैं जो सरकारी सुविधाओं से मुफ्त शिक्षा, मुफ्त इलाज के प्रावधान को रेवड़ी या फ्रीबीज कहते हैं। सरकारी स्कूलों में मुफ्त शिक्षा और सरकारी अस्पतालों में मुफ्त इलाज के प्रावधानों के खिलाफ देश में माहौल बनाया जा रहा है।

ये भी पढ़ें:- सोनम कपूर के घर आया नन्हा सा बाल गोपाल, अनिल कपूर बने नाना

उन्होंने दावा किया कि स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में उन्हें मजबूत करने की योजना बनाने के बजाय मुफ्त सरकारी कल्याण सेवाओं को मुफ्त करार देकर उनके खिलाफ माहौल पैदा किया जा रहा है।

IANS

Must Read: उपराष्ट्रपति ने जजों को सार्वजनिक रूप से निशाना बनाने की हाल की प्रवृत्ति पर चिंता व्यक्त की

पढें भारत खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :