एयरलाइन का निजीकरण: इटली सरकार बोली लगने के बाद एयरलाइन आईटीए की बिक्री पर फैसला लेगी

कार्यवाहक प्रधानमंत्री मारियो द्रागी को इस महीने के अंत तक तय करना है कि क्या एयरलाइन का निजीकरण किया जाना चाहिए, क्या निजीकरण को स्थगित किया जाना चाहिए या बिक्री पर दोबारा विचार करना चाहिए।

इटली सरकार बोली लगने के बाद एयरलाइन आईटीए की बिक्री पर फैसला लेगी
एयरलाइन आईटीए

रोम | इटली में राज्य के स्वामित्व वाली एयरलाइन आईटीए की संभावित खरीदारों के लिए बोली लगाने की अवधि सोमवार आधी रात को समाप्त हो रही है। इसके बाद सरकार बिक्री के संबंध में एक महत्वपूर्ण निर्णय लेगी।

डीपीए समाचार एजेंसी ने रविवार को एक रिपोर्ट में इतालवी दैनिक कोरिएरे डेला सेरा के हवाले से कहा, कार्यवाहक प्रधानमंत्री मारियो द्रागी को इस महीने के अंत तक तय करना है कि क्या एयरलाइन का निजीकरण किया जाना चाहिए, क्या निजीकरण को स्थगित किया जाना चाहिए या बिक्री पर दोबारा विचार करना चाहिए।

जर्मन फ्लैग कैरियर लुफ्थांसा और शिपिंग कंपनी एमएससी आईटीए में हिस्सेदारी लेना चाहते हैं।

राहुल गांधी के इनकार के बाद कई नाम सामने: कौन बनेगा कांग्रेस का अध्यक्ष, कई नामों पर विचार

अलीतालिया की उत्तराधिकारी कंपनी लुफ्थांसा और एमएससी आईटीए के 80 प्रतिशत से अधिक को खरीदने के लिए एक बोली शुरू कर रही हैं। इतालवी राज्य मौजूदा समय में आईटीए का एकमात्र मालिक है।

लुफ्थांसा/एमएससी बोली के अलावा, एक अन्य यूएस प्राइवेट इक्विटी फंड सर्टेयर्स द्वारा एयर फ्रांस-केएलएम और डेल्टा एयर लाइन्स के साथ किया जा रहा है।

महाकाल से जुड़े विज्ञापन पर बवाल: महाकाल से मंगवाई थाली ह्रितिक को भरी पड़ी!

अखबार की रिपोर्ट में कहा गया है कि आईटीए का मूल्य लगभग 850 मिलियन यूरो (853 मिलियन डॉलर) है।

दोनों कंपनियां एयरलाइन के 80 प्रतिशत से अधिक का अधिग्रहण करना चाहती थीं, जिसका अर्थ है कि 20 प्रतिशत इटली के वित्त मंत्रालय के कब्जे में रहेगा।

रिपोर्ट के अनुसार, सर्टेयर्स केवल आईटीए का 55 से 60 प्रतिशत लेना चाहता है।

--आईएएनएस

पीके/एसजीके

Must Read: भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने वाशिंगटन डीसी में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रबंध निदेशक जॉर्जीवा से की मुलाकात

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :