जोधपुर रिश्वत मांगने का मामला दर्ज: सिरोही में खान स्वीकृति पर मांगी 1 लाख की रिश्वत, जोधपुर खान विभाग के ​अतिरिक्त निदेशक और एएओ के खिलाफ एसीबी में मुकदमा दर्ज

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जोधपुर की ओर से खान एवं ​भू विज्ञान विभाग जोधपुर के अतिरिक्त निदेशक और सहायक प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ रिश्वत मांगने का मामला दर्ज किया है। आरोप है कि इन दोनों अधिकारियों ने सिरोही में ग्रेनाइट की खान की स्वीकृति जारी करने के एवज में 1 लाख रुपए की राशि बतौर रिश्वत मांगी थी। 

सिरोही में खान स्वीकृति पर मांगी 1 लाख की रिश्वत, जोधपुर खान विभाग के ​अतिरिक्त निदेशक और एएओ के खिलाफ एसीबी में मुकदमा दर्ज

जोधपुर। 
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जोधपुर की ओर से खान एवं ​भू विज्ञान विभाग जोधपुर के अतिरिक्त निदेशक और सहायक प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ रिश्वत मांगने का मामला दर्ज किया है। 
आरोप है कि इन दोनों अधिकारियों ने सिरोही में ग्रेनाइट की खान की स्वीकृति जारी करने के एवज में 1 लाख रुपए की राशि बतौर रिश्वत मांगी थी। 
इसके बाद परिवादी की ओर से एसीबी में रिश्वत की शिकायत की गई। इसको लेकर एसीबी जालोर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महावीर सिंह राणावत ने रिश्वत मांगने का सत्यापन किया। 
इसके ​चलते अब इन दोनों के खिलाफ रिश्वत मांगने का मामला दर्ज किया गया है। 
एसीबी जोधपुर के उप महानिरीक्षक कैलाश चंद्र बिश्नोई ने बताया कि खान विभाग का अतिरिक्त निदेशक मोहनलाल भाटी और विभाग की सहायक प्रशासनिक अधिकारी राजेश्वरी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। 
परिवादी ने शिकायत की थी कि उसने सिरोही के सनपुर स्थित ग्रेनाइट खान की स्वीकृति के लिए मोहन लाल भाटी और राजेश्वरी 1 लाख रुपए की राशि मांग रहे है। 
इस पर परिवादी के कहने पर मामला 80 हजार रुपए में तय किया। दोनों कर्मचारियों के द्वारा रिश्वत की राशि मांगने का सत्यापन जालोर एसीबी टीम द्वारा किया गया। 
इसके बाद जयपुर एसीबी मुख्यालय की ओर से दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम धारा 7 के तहत 120, 120 बी में मुकदमा दर्ज किया गया। 
इस मामले की जांच जोधपुर एसीबी के स्पेशन यूनिट के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दुर्गे सिंह राजपुरोहित को दी गई है। 

Must Read: गहलोत सरकार के मंत्रियों-नेताओं पर गुर्जर समाज का फूटा गुस्सा, अशोक चांदना की तरफ फैंके जूते-चप्पल

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :