मुख्यमंत्री गहलोत ने की घोषणा: जहां 500 पढ़ने वाली बच्चियां होंगी, वहीं सरकारी कॉलेज

सीएम गहलोत ने यह बात रविवार को कोटा में जय मीनेष आदिवासी विश्वविद्यालय के शिलान्यास और जयपुर में प्रताप नगर स्थित आदिवासी मीना बालिका छात्रावास के लोकार्पण समारोह में वर्चुअली संवाद के दौरान की।

जहां 500 पढ़ने वाली बच्चियां होंगी, वहीं सरकारी कॉलेज

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रदेश में जिस भी जगह पढ़ने वाली बच्चियों की संख्या 500 होगी। वहां छात्राओं के लिए सरकारी कॉलेज खोला जाएगा। सीएम गहलोत ने यह बात रविवार को कोटा में जय मीनेष आदिवासी विश्वविद्यालय के शिलान्यास और जयपुर में प्रताप नगर स्थित आदिवासी मीना बालिका छात्रावास के लोकार्पण समारोह में वर्चुअली संवाद के दौरान की। प्रदेश में कोचिंग खोलने की बात पर बोलते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि शांति धारीवाल कई बार कोचिंग खोलने पर अपनी इच्छा जता चुके है। वो हमारे जेहन में है। जल्द ही पांच मंत्रियों की कमेटी उस पर भी कोई निर्णय करेगी। सीएम गहलोत ने कहा कि हमने महज ढाई साल में 123 खोले है। इनमें 32 कॉलेज लड़कियों के लिए खोले गए। ऐसा प्रदेश के इतिहास में कभी नहीं हुआ। बालिका शिक्षा पर हमारी सरकार का पूरा जोर है। हमारे प्रदेश के लड़कों के साथ लड़कियां पीछे नहीं रहनी चाहिए। जहां बालिकाएं शिक्षित होती है। वहां के विकास के आयाम अलग होते है। वे देश के विकास में भागीदार होते है।

राजीव गांधी कहते थे- शिक्षा के बगैर जीवन में अंधेरा है, जो शिक्षा पर जोर देगा, वही आगे बढ़ेगा
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वर्चुअल लोकार्पण समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को याद करते हुए कहा कि वे अक्सर कहा करते थे कि शिक्षा के बगैर जीवन में अंधेरा है। दुनिया जो आगे बढ़ी है। जो शिक्षा पर जोर देगा। वह समाज आगे बढ़ेगा। आज मीणा समाज ने शिक्षा के महत्व को समझा है। राजीव गांधी ने ही पहली बार महिलाओं को राजनीति में सरपंच, प्रधान, चेयरमेन बनने के लिए आरक्षण दिया था। इससे महिलाओं की भागीदारी राजनीति में होने लगी। पहले घुंघट लगाकर बैठती थी। साथ में पति भी बैठता था। अब यह दृश्य बदल गया है। हमने राजीव गांधी इंग्लिश मीडियम स्कूल खोले। मैं खुद हिंदी का समर्थक रहा हूं बचपन से। अगर आपको देश दुनियां में प्रतिस्पर्धा में भाग लेना है तो अंग्रेजी का ज्ञान भी होना चाहिए।

कोरोना काल में 400 से ज्यादा वीडियो कॉफ्रेंसिंग की, इंटरनेट की वजह से संभव
सीएम गहलोत ने संबोधन में कहा कि सीएम गहलोत ने कहा कि मैं डेढ़ साल से बाहर नहीं निकल रहा हूं। मैंने करीब 400 वीडियो कॉफ्रेंसिंग की है। इनमें 350 कोरेाना को लेकर और 50 मीटिंग्स राजकाज को लेकर की है। मैं अनुभव करता हूं कि इंटरनेट नहीं होता तो क्या होता। सीएम गहलोत ने कहा कि शिक्षा का अधिकार कांग्रेस सरकार की देन है। विश्वविद्यालय तक में गर्ल्स के लिए शिक्षा नि:शुल्क कर रखी है। करीब 1 लाख स्टूडेंट्स लाभ उठा रहे है। स्कूटी योजना में अब 13 हजार जरुरतमंद मेधावी छात्राओं व विकलांग बच्चों को स्कूटी दी जाएगी। ताकि वे कॉलेज जा सके। कई बार उनको मां बाप दूर पढ़ने के लिए भेजते नहीं है। बच्ची ड्रॉप आउट नहीं हो।

ये लोग मौजूद रहे
इस दौरान उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी व यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल सहित मीणा समाज के दिल्ली व इंदौर के समाजसेवी और कार्यक्रम के संयोजक विधायक लक्ष्मण मीणा मौजूद रहे। इसके अलावा मीणा समाज के कई नेता व अफसर भी मौजूद थे। वहीं, कार्यक्रम के समापन में मुख्यमंत्री ने जयपुर में प्रताप नगर स्थित हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं से उनके मन की बात सुनी। उनको प्रोत्साहित भी किया।

Must Read: राजस्थान-दिल्ली-एनसीआर समेत कई इलाकों में भारी बारिश

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :