राज्यसभा चुनाव : अखिलेश का संकट बढ़ाएंगे राज्यसभा चुनाव, जयंत, शिवपाल और आजम समीकरण सपा के लिए चुनौती

- अखिलेश यादव से खफा नेता वोटिंग होने पर खिला सकते हैं गुल  - जयंत, आलोक रंजन और अबू हसन आजमी को राज्यसभा भेजेगी सपा?    

अखिलेश का संकट बढ़ाएंगे राज्यसभा चुनाव, जयंत, शिवपाल और आजम समीकरण सपा के लिए चुनौती

लखनऊ | विधानसभा और विधान परिषद के चुनावों में मिली करारी शिकस्त के बाद राज्यसभा की 11 सीटों के लिए 10 जून को होने वाले चुनाव भी समाजवादी पार्टी (सपा) के मुखिया अखिलेश यादव के लिए समस्या बन गए हैं. राज्यसभा की इन 11 सीटों में से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को सात और सपा को तीन सीटें मिलना तय हैं. जबकि 11वीं सीट के लिए भाजपा और सपा के बीच में संघर्ष होगा. ऐसा होने पर सपा में अखिलेश यादव की वर्किंग से खफा पार्टी के तमाम नेता कोई  ना कोई गुल खिला सकते हैं.

ये भी पढ़ें:- Kashmiri Pandit Murder: कश्मीरी पंडित राहुल की हत्या के बाद घाटी में बवाल, गुस्साए लोगों का उग्र प्रदर्शन, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले - Video

इन नाराज विधायकों को एकजुट रखना और राज्यसभा जाने की मंशा रखने वाले पार्टी नेताओं को भी पार्टी में बनाए रखना अखिलेश यादव के लिए एक बड़ी चुनौती है. कहा जा रहा है कि यह चुनाव अखिलेश यादव के लिए एक बड़ा और बड़ा इम्तहान हैं. 

इस कथन में सच्चाई है. वरिष्ठ पत्रकार गिरीश पांडेय के अनुसार, शिवपाल यादव व आजम खां प्रकरण को लेकर सपा में पहले से ही खींचतान चल रही है. बसपा मुखिया मायावती भी आजम खान को लेकर अखिलेश यादव को राजनीतिक बबुआ साबित करने में जुटी हैं. विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से सपा में शिवापाल और आजम खान की नाराजगी एक बड़ा मुददा बनी हुई है. शिवपाल यादव तो सपा द्वारा आजम खां की अनदेखी करने के सवाल पर अखिलेश ही नहीं मुलायम सिंह यादव को घेर चुके हैं.

ये भी पढ़ें:-  Congress Chintan Shivir: उदयपुर में आज से कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर, कई बड़े बदलावों के संकेत

हालांकि अखिलेश यादव को कई बार यह कहा है कि उनकी पार्टी आजम खां के साथ है. लेकिन आजम खां व शिवपाल के साथ उनके समर्थक विधायक सपा मुखिया के इस कथन से संतुष्ट नहीं हैं और वह राज्यसभा चुनावों में 11वीं सीट के लिए होने वाली वोटिंग में इधर-उधर हो सकते हैं. इस संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है. ऐसे में सपा खेमे के लिए अपने उन विधायकों का एकजुट रख पाना बड़ी चुनौती होगी.   

ये भी पढ़ें:- Alert: राजस्थान में आसमान से बरस रही आग! रेत पर सिक रहे पापड़, तीन दिन रहना होगा बचकर

अखिलेश यादव की दूसरी चुनौती राज्यसभा जाने की मंशा रखने वाले नेताओं की बड़ी संख्या है. अखिलेश यादव की जिन तीन सीटों में जीत होनी है, उनमें एक सीट वह अपने सहयोगी राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के मुखिया जयंत चौधरी को देंगे. रालोद सपा का गठबंधन काफी समय से चला आ रहा है. इसके अलावा यूपी के मुख्य सचिव रह चुके पूर्व नौकरशाह आलोक रंजन को अखिलेश यादव प्रत्याशी बनाना चाहते हैं. आलोक रंजन ने इस बार के विधानसभा चुनाव में सपा का घोषणा पत्र तैयार कराने में अहम भूमिका निभाई थी.

ये भी पढ़ें:- CM Ashok Gehlot : राजस्थान में माहौल बिगाड़ने वालों पर अब होगी सख्त कार्रवाई, सीएम गहलोत के निर्देश

तीसरी सीट पर महाराष्ट्र से सपा नेता अबू हसन आजमी को प्रत्याशी बनाए जाने की चर्चा है. इसके अलावा सपा के सहयोगी ओम प्रकाश राजभर भी अपने बेटे को राज्यसभा भेजने की मंशा रखते हैं. अखिलेश यादव के एक नजदीकी नेता के अनुसार आजम खान भी अपने के हितैषी के लिए टिकट चाहते हैं. इनके अलावा भी सपा के कई नेता  राज्यसभा के लिए अपनी दावेदारी जता रहे हैं. सपा और उसके सहयोगी दल रालोद व सुभासपा के विधायकों की तादाद 125 है. इनके बूते वह चार सीट निकाल सकती है. परन्तु सपा के जो हालत वर्तमान में है, उसमें अखिलेश यादव यह लक्ष्य हासिल कर पाएंगे इसे लेकर सपा नेता अभी कोई दावा नहीं कर रहे हैं. 

ये भी पढ़ें:- Rajasthan Board Result 2022: राजस्थान बोर्ड 5वीं और 8वीं के विद्यार्थियों के लिए बड़ी खबर! जल्द घोषित होंगे परीक्षा परिणाम, इस तारीख....

Must Read: यूक्रेन में ट्रेन स्टेशन पर हमला, 25 हुई मरने वालों की संख्या

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :