श्रद्धांजलि: 81 वर्षीय वरिष्ठ शिक्षाविद् और साहित्यकार प्रेमपाल शर्मा नहीं रहे, साहित्यकारों में शोक

प्रेमपाल शर्मा ने खकरधज उपनाम से साहित्य एवं कविता लेखन के साथ ही देश के प्रमुख समाचार पत्रों के विशेष लेख लिखे। लेखन हेतु अखिल भारतीय साहित्य परिषद पाली, श्री विष्णुप्रसाद चतुर्वेदी विज्ञान लेखन समिति, साहित्य साधना समिति पाली सहित अनकों संस्थाओं ने उल्लेखनीय साहित्य सृजन के लिए उन्हें सम्मानित किया। 

81 वर्षीय वरिष्ठ शिक्षाविद् और साहित्यकार प्रेमपाल शर्मा नहीं रहे, साहित्यकारों में शोक

पाली | शहर के वरिष्ठ साहित्यकार, शिक्षाविद् एवं पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी प्रेमपाल शर्मा का निधन शनिवार सुबह हो गया। उनके पुत्र मनोज शर्मा एवं पौत्र यश शर्मा ने उनके नेत्रदान कर पुण्यार्थ कार्य किया जिससे दो जीवन प्रकृति के रंगों को देख व उनका आनन्द ले पाएंगे तथा अब जीवन कुछ आसान हो पाएगा।

उल्लेखनीय है कि प्रेमपाल शर्मा ने खकरधज उपनाम से साहित्य एवं कविता लेखन के साथ ही देश के प्रमुख समाचार पत्रों के विशेष लेख लिखे। लेखन हेतु अखिल भारतीय साहित्य परिषद पाली, श्री विष्णुप्रसाद चतुर्वेदी विज्ञान लेखन समिति, साहित्य साधना समिति पाली सहित अनकों संस्थाओं ने उल्लेखनीय साहित्य सृजन के लिए उन्हें सम्मानित किया।

शर्मा के निधन का समाचार सुनते ही साहित्य एवं शिक्षा जगत में शोक की लहर छा गयी। वरिष्ठ साहित्यकार पद्यश्री डा.अर्जुनसिंह शेखावत, सीताराम जोशी, अखिल भारतीय साहित्य परिषद जोधपुर प्रांत सह सचिव पवन पाण्डेय, गीतकार शिवहरि शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार ओम चतुर्वेदी, तोषचंद्र चौहान, दलपतसिंह राजपुरोहित, एन के राजा, मांगूसिंह दूदावत, देवराज शर्मा, कृष्णकुमार राजपुरोहित, राहुल राजपुरोहित, दिलीप कर्मचंदानी, प्रधानाचार्य बसंत कुमार परिहार, हेमंत दवे, देवेन्द्र प्रसाद डाबी, राकेश बाबू यादव , चंद्रेशपाल सिंह सहित साहित्य एवं शिक्षा जगत व्यक्तियों ने शोक व्यक्त किया।

Must Read: जयपुर-कोटा में आयकर विभाग की कार्रवाई, 150 करोड़ की अघोषित आय का खुलासा

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :