न्यूरोलॉजि​स्ट डॉ पनगड़िया का निधन: कोरोना बीमारी से जूझ रहे पद्मश्री डॉक्टर अशोक पनगड़िया का निधन, वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे पनगड़िया

पद्मश्री डॉ. अशोक पनगड़िया का आज शुक्रवार दोपहर करीब 3:50 बजे निधन हो गया। पनगड़िया पोस्ट काेविड बीमारी से जूझ रहे थे और लंबे समय से वे वेंटिलेटर पर थे। उनकी स्थिति ज्यादा खराब होने के बाद दोपहर करीब 2.30 बजे उन्हें जयपुर स्थित EHCC अस्पताल से उनके निवास पर वेंटिलेटर सपोर्ट पर ही लाया गया था,

कोरोना बीमारी से जूझ रहे पद्मश्री डॉक्टर अशोक पनगड़िया का निधन, वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे पनगड़िया

जयपुर।
प्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट और पद्मश्री डॉ. अशोक पनगड़िया (Dr. Ashok Pagadia) का आज शुक्रवार दोपहर करीब 3:50 बजे निधन हो गया। पनगड़िया पोस्ट काेविड बीमारी से जूझ रहे थे और लंबे समय से वे वेंटिलेटर पर थे। उनकी स्थिति ज्यादा खराब होने के बाद दोपहर करीब 2.30 बजे उन्हें जयपुर स्थित EHCC अस्पताल से उनके निवास पर वेंटिलेटर सपोर्ट पर ही लाया गया था, लेकिन करीब सवा घंटे बाद डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया। करीब 10 दिन पहले उनकी तबीयत वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के बाद बिगड़ गई थी। जानकारी के मुताबिक कोरोना के कारण उनके फेफड़े डेमेज हो चुके थे। 48 दिनों तक कोरोना से लड़ने के बाद आखिरकार डॉ. पनगड़िया जीवन की जंग हार गए। 24 अप्रेल को कोरोना लक्षण आने के बाद डॉ अशोक पनगड़िया ने निजी लैब में जांच करवाई थी, जहां कोरोना पॉजिटिव आने के बाद वे स्वयं वे 25 अप्रेल को जयपुर के RUHS अस्पताल में भर्ती हुए थे। बताया जा रहा है कि वहां उनकी तबीयत खराब होने के बाद जवाहर सर्किल जयपुर के पास स्थित EHCC अस्पताल शिफ्ट कर दिया था। बताया जा रहा है कि वह पिछले एक साल से घर से कहीं ज्यादा नहीं निकलते थे। पिछले साल जुलाई 2020 में उनके पुत्र की शादी के दौरान भी कार्यक्रम में महज 15 लोग ही शामिल हुए थे। उदयपुर में प्रस्तावित शादी समारोह को जयपुर में एक छोटे से आयोजन के तौर पर करवाया था। इसके अलावा डॉ. पनगड़िया ने पिछले एक साल (कोविड जब से शुरू हुआ) तब से मरीजों को देखना भी बंद कर दिया था, केवल ऑनलाइन ही मरीजों को परामर्श दिया करते थे।

2014 में पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित हुए थे पनगड़िया
न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. पनगड़िया को 1992 में राजस्थान सरकार की ओर से मेरिट अवॉर्ड मिला। वे SMS में न्यूरोलॉजी के विभागाध्यक्ष रहे। 2006 से 2010 तक प्रिंसिपल रहे। 2002 में उन्हें मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने डॉ. बीसी रॉय अवॉर्ड दिया। 2014 में उन्हें पद्मश्री से नवाजा गया। उनके 90 से ज्यादा पेपर जर्नल में छप चुके हैं। उनकी मेडिकल और सोशल सहभागिता के चलते उन्हें यूनेस्को अवॉर्ड भी मिल चुका है। उन्हें कई लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड भी प्राप्त हुए हैं।

सीएम ने व्यक्त किया शोक


वहीं डॉ पनगड़िया के निधन की सूचना के साथ ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित कई राजनेताओं ने शोक व्यक्त किया। सीएम अशोक गहलोत ने ट्वीर पर लिखा कि डॉ.अशोक पनगड़िया का निधन चिकित्सा जगत एवं प्रदेश के लिए बड़ी क्षति है। ईश्वर से प्रार्थना है शोकाकुल परिजनों एवं डॉ. पनगड़िया के मित्रों को यह आघात सहने की शक्ति प्रदान करें एवं दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें। सीएम के अलावा सांसद हनुमान बे​नीवाल, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा सहित कई नेताओं ने शोक संदेश लिखा ।

Must Read: एक्सीडेंट में घायल होने का बहाना बनाकर बुलाया, आते ही जान से मारने की नीयत से गाड़ी चढ़ाई ऊपर

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :