Sirohi @ 24 घंटे में हत्या का खुलासा: तंत्र—मंत्र का झांसा देकर जीजा—साले ने रुपए के लालच में पत्थर से वारकर की थी रिटायर्ड शिक्षक की हत्या, रेवदर सीओ के नेतृत्व में 24 घंटे में ही वारदात का खुलासा

जिले के रेवदर कस्बे के रानेला के जंगलों में करजाल सरहद के नजदीक रिटायर्ड​ शिक्षक की हत्या मामले में पुलिस ने महज 24 घंटों में वारदात का खुलासा कर दिया। सिरोही पुलिस अधीक्षक धर्में​द्र सिंह यादव ने बताया कि रिटायर्ड​ शिक्षक का शव मिलने की सूचना पर पहुंची पुलिस टीम ने सराहनीय कार्य करते हुए महज 6 घंटे में हत्या के....

तंत्र—मंत्र का झांसा देकर जीजा—साले ने रुपए के लालच में पत्थर से वारकर की थी रिटायर्ड शिक्षक की हत्या, रेवदर सीओ के नेतृत्व में 24 घंटे में ही वारदात का खुलासा

सिरोही। 
जिले के रेवदर कस्बे के रानेला के जंगलों में करजाल सरहद के नजदीक रिटायर्ड​ शिक्षक की हत्या मामले में पुलिस ने महज 24 घंटों में वारदात का खुलासा कर दिया। सिरोही पुलिस अधीक्षक धर्में​द्र सिंह यादव ने बताया कि रिटायर्ड​ शिक्षक का शव मिलने की सूचना पर पहुंची पुलिस टीम ने सराहनीय कार्य करते हुए महज 6 घंटे में हत्या के एक आरोपी को हिरासत में ले लिया और अगले कुछ घंटों में दूसरे आरोपी को हिरासत लेकर पूछताछ की। दोनों आरोपियों ने रुपए के लालच में हत्या करना कबूल कर लिया। पुलिस ने आरोपी निचलागढ़ निवासी 26 वर्षीय हीराराम गरासिया और इसका साला 22 वर्षीय अजाराम गरासिया को गिरफ्तार कर लिया। अब आरोपियों को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा।

पर्ची पर मिले नंबर से हुई पहचान
रेवदर डिप्टी नरेंद्र सिंह देवड़ा ने बताया कि बुधवार सुबह करीबन साढ़े नौ बजे रानेला के जंगलों में शव मिलने की सूचना पुलिस को मिली थी। इस पर अनादरा पुलिस थानाधिकारी एसआई गीता सिंह सहित पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंच गया। इसके बाद जांच शुरू की गई। जांच में वारदात स्थल पर एक पर्ची पर मोबाइल नंबर मिले। इन नंबर के साथ मोटर साइकिल के आधार पर शव की पहचान बने सिंह (65) पुत्र भूर सिंह निवासी सादलवा थाना पिंडवाड़ा के तौर पर हो पाई।
बने सिंह के फोन से आरोपी की कई दफा बातचीत
पुलिस की प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि आरोपी हिराराम गरासिया पिछले तीन से चार माह से बने सिंह के संपर्क में था। बने सिंह अपने रिश्ते में एक भतीजे से परेशान थे। इसके चलते वह तंत्र मंत्र कर उसका इलाज कराना चाहते थे। आरोपी हिराराम ने मृतक बने सिंह को तंत्र मंत्र का झांसा देकर उसकी परेशानी दूर करने का दावा किया। आरोपी हिराराम ने बने सिंह से तंत्र मंत्र के लिए एक दफा पांच हजार रुपए ले लिए थे। इसके बाद लालच में आकर बड़ी रकम वसूलने की साजिश रची। रेवदर सीओ नरेंद्र सिंह देवड़ा ने बताया कि बने सिंह के मोबाइल नंबर की कॉल ट्रेस करवाई गई। बने सिंह के नंबर से हिराराम के नंबर पर कई बार फोन करना सामने आया। इस पर सीओ देवड़ा ने बने सिंह की लोकेशन निकलवाई और रेवदर पुलिस थाने के सिपाई को लोकेशन पर भेज कर हिराराम को फोन किया। बातचीत में हिराराम ने वारदात के संबंध में जानकारी होना नहीं बताया। इस पर पुलिस ने उसे फोन बंद नहीं करने की सलाह दी। इसके कुछ देर बाद ही उसने अपना फोन बंद कर लिया। पुलिस को शक होने पर उसे हिरासत में लिया गया। 

यूं दिया वारदात को अंजाम:—
तंत्र मंत्र से परेशानी दूर करने के 3 लाख रुपए 
पुलिस की हिरासत में आया हिराराम ने प्रारंभिक पूछताछ में बताया कि तंत्र मंत्र से बने सिंह की परेशानी को दूर करने के लिए 3 लाख रुपए में सौदा तय हुआ था। इस पर बने सिंह राजी हो गए। रुपए के लालच में आकर पहले बने सिंह से लूट की साजिश बनाई, लेकिन लूट के बाद पकड़े जाने के डर से उसे मारने की साजिश की। हिराराम ने इस वारदात में अपने साले अजाराम गरासिया को शामिल किया। 
दिनभर हिराराम के साथ फोन पर बताया मंडार में 
पुलिस की जांच में सामने आया है बने सिंह मंगलवार सुबह दस से साढे दस बजे के बीच घर से निकल गए थे। इसके बाद वे करीबन 12 बजे हिराराम और अजाराम से मिले। शाम आठ बजे तक तीनों साथ में थे। लेकिन बने सिंह फोन आने पर मंडार बता रहे थे। रात 8 बजे उनकी बात पत्नी से हुई थी। इसके बाद हिराराम उन्हें रानेला के जंगलों में अंदर की ओर ले गए। करजाल सरहद के नजदीक सुनसान इलाका देखकर दोनों आरोपियों ने वारदात को अंजाम दिया।

आंखों में डाली मिर्च और पत्थर से किए कई वार
पुलिस के मुताबिक हिराराम और बने सिंह एक मोटर साइकिल पर तो दूसरी बाइक अजाराम के पास थी। हिराराम बाइक चला रहा था। सुनसान जंगल में पहुंचने के बाद हिराराम ने बाथरूम करने के बहाने बाइक रोक दी। इसी दौरान अजाराम ने बने सिंह की आंख में मिर्च पाउडर डालकर हमला कर दिया। इसके बाद आरोपियों ने पत्थर से बने सिंह के सिर और चेहरे पर कई वार किए और अधराम—अचेत कर उसकी जेब से मोबाइल, रुपए और बाइक के दस्तावेज लेकर फरार हो गए। आरोपी हिराराम ने पूछताछ में बताया कि बने सिंह को अधमरा कर उसकी जेब से 3 लाख रुपए, उसका मोबाइल और बाइक के दस्तावेज निकालकर ले गए। रास्ते में रुपयों का बंटवारा किया और भाग गए। 
30 किलोमीटर पैदल चला आरोपी अजाराम 
पुलिस के मुताबिक हिराराम के हिरासत में आने के बाद पूछताछ की गई तो उसने अपने साले अजाराम गरासिया का वारदात में शामिल होना बताया। पुलिस ने उसकी लोकेशन निकाली तो वह अपने रिश्तेदार के घर भैरूगढ़ जा रहा था। रात भर में वह करीबन 30 किलोमीटर पैदल चला। पुलिस टीम ने जाल बिछाकर उसका पीछा किया। आज सुबह गुरुवार को भटाणा और भैरूगढ़ के बीच उसे हिरासत में ले लिया। 

पुलिस टीम का सराहनीय कार्य 

बुजुर्ग व्यक्ति का शव मिलने की सूचना पर अनादरा पुलिस थानाधिकारी सहित जाब्ता मौके पर पहुंच गया था। इसके बाद वारदात स्थल पर मिले साक्ष्यों के आधार पर आगे से आगे कड़ी जोड़ते हुए पुलिस टीम ने महज 24 घंटों के दौरान वारदात का खुलासा कर दिया। दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर अब कोर्ट में पेश किया जाएगा जहां उनका रिमांड लेकर तफ्तीश की जाएगी।

नरेंद्र सिंह देवड़ा, डिप्टी, रेवदर

Must Read: खामोश हुईं बीजेपी की प्रखर 'किरण', राजसमंद विधायक किरण माहेश्वरी के निधन पर यह बोले PM मोदी, बिड़ला समेत देश के दिग्गज नेता

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :