Chhatra Sangh Chunav 2022: राजस्थान यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष बने निर्मल चौधरी, ABVP और NSUI हुई पस्त, जानें और किसने मारी बाज

राजस्थान यूनिवर्सिटी को निर्दलीय प्रत्याशी निर्मल चौधरी के रूप में नया अध्यक्ष मिल गया। इस बार फिर से एबीवीपी और एनएसयूआई दोनों के ही उम्मीदवार अध्यक्ष पद तक पहुंचने से वंचित रह गए।

राजस्थान यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष बने निर्मल चौधरी, ABVP और NSUI हुई पस्त, जानें और किसने मारी बाज

जयपुर |  Rajasthan Chhatra Sangh Chunav 2022: राजस्थान में कई दिनों से चल रहा छात्रसंघ चुनाव 2022 का घमासान आज शांत हो गया और मतगणना पूर्ण होने के बाद राजस्थान यूनिवर्सिटी को निर्दलीय प्रत्याशी निर्मल चौधरी के रूप में नया अध्यक्ष मिल गया। निर्मल चौधरी को 4043 वोट मिले । इस बार फिर से एबीवीपी और एनएसयूआई दोनों के ही उम्मीदवार अध्यक्ष पद तक पहुंचने से वंचित रह गए। छात्रों ने दोनों संगठनों को दरकिनार करते हुए लगातार पांचवीं बार निर्दलीय को चुना है। बता दें कि, एनएसयूआई से टिकट नहीं मिलने के बाद निर्मल चौधरी ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन भरा था।

निहारिका जोरवाल रही दूसरे स्थान पर
वहीं, मंत्री मुरारीलाल मीणा की बेटी और एनएसयूआई की बागी प्रत्याशी निहारिका जोरवाल दूसरे नंबर पर रही हैं। निहारिका को 2500 वोट मिले। इसी के साथ एनएसयूआई की कैंडिडेट रितु बराला तीसरे और एबीवीपी के नरेंद्र यादव चौथे स्थान पर रहे हैं।

कई मत्रियों और विधायकों की प्रतिष्ठा थी दांव पर
छात्रसंघ चुनाव में इस बार कई मत्रियों और विधायकों की प्रतिष्ठा दांव पर थी। नये अध्यक्ष बने निर्मल चौधरी को  एनएसयूआई के पूर्व अध्यक्ष के साथ ही कुछ कांग्रेस के विधायकों का भी समर्थन मिला। इसके अलावा नागौर जिले होने से निर्मल को सांसद हनुमान बेनीवाल से भी काफी कुछ सपोर्ट मिला। 

ये भी पढ़ें:- Sonali Phogat Murder Case: सोनाली को ड्रग्स देने वाले दोनों आरोपी भेजे गए 10 दिन की पुलिस हिरासत में

इस बार आधे से भी कम रहा मतदान का प्रतिशत
राजस्थान यूनिवर्सिटी में छात्रसंघ चुनावों के लिए शुक्रवार को मतदान हुआ था। इस बार वोटिंग का प्रतिशत काफी कम रहा। यूनिवर्सिटी में अपेक्स के लिए कुल 20 हजार 770 वोटर्स थे, जिनमें से आधे वोटर्स 10 हजार 50 ने ही मतदान किया। जिससे मतदान का प्रतिशत 48.39 फीसदी रहा। 

पांचवीं बार लगातार निर्दलीय को मिली जीत
राजस्थान यूनिवर्सिटी के परिणामों ने सबको चौंका दिया। निर्दलीय प्रत्याशी निर्मल के सामने एबीवीपी, एनएसयूआई के अलावा एक राज्य मंत्री की बेटी भी पस्त नजर आई। निर्मल चौधरी सर्वसमाज को साथ लेकर चले। निर्मल को छात्र राजनीति में लाने का श्रेय लाडनूं विधायक मुकेश भाखर को जाता हैं। भाखर ही निर्मल के राजनीतिक गुरू बताए जाते हैं। 

ये भी पढ़ें:- ये सबकुछ होने वाला है खास: श्रीराम जी की नगरी अयोध्या में इस बार ‘दीपोत्सव’ तोड़ेगा पिछले सभी रिकॉर्ड

जानें नये अध्यक्ष निर्मल चौधरी के बारे में
राजस्थान यूनिवर्सिटी के नये अध्यक्ष निर्मल चौधरी नागैर के छोटे से गांव धामणिया के रहने वाले हैं। साधारण परिवार में जन्म लेने वाले निर्मल के पिता दयालराम चौधरी सरकारी अध्यापक हैं और मां रूपादेवी साधारण ग्रहणी है। निर्मल समय मिलने पर अपनी मां के साथ खेती-बाड़ी के काम में हाथ बंटाते हैं। 

Must Read: राजस्थान में बदलने वाला है मौसम का मिजाज, यहां अंधड़ के साथ बारिश की संभावना

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :