निष्पक्ष जांच की मांग: उप प्रधान के पुत्र पर महिला से मारपीट, छेड़छाड़ और ​अनैतिक कृत्यों का आरोप, जांच जिला महिला सेल से कराने की मांग, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

जालोर के जसवंतपुरा थाना इलाके के निकटवर्ती जीतपुरा निवासी एक महिला न्याय की उम्मीद में दर—दर भटक रही है। पीड़िता का आरोप है कि घर में घुसकर मारपीट, छेड़छाड़ और अनैतिक कृत्यों के बाद आरोपित पुलिस अधिकारियों से मिलीभगत कर जांच प्रभावित करने में जुटे हुए है।

उप प्रधान के पुत्र पर महिला से मारपीट, छेड़छाड़ और ​अनैतिक कृत्यों का आरोप, जांच जिला महिला सेल से कराने की मांग, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

जसवन्तपुरा।
जालोर के जसवंतपुरा थाना इलाके के निकटवर्ती जीतपुरा निवासी एक महिला न्याय की उम्मीद में दर—दर भटक रही है। पीड़िता का आरोप है कि घर में घुसकर मारपीट, छेड़छाड़ और अनैतिक कृत्यों के बाद आरोपित पुलिस अधिकारियों से मिलीभगत कर जांच प्रभावित करने में जुटे हुए है। ऐसे में पीड़ित परिवार मामले की जांच जिला स्तरीय महिला सेल द्वारा करवाने की मांग कर रहा है। पीड़ित परिवार ने इसके लिए उपखंड अधिकारी को गृहमंत्री के नाम ज्ञापन दिया है। 
जानकारी के मुताबिक जीतपुरा निवासी एक महिला ने जसवंतपुरा थाने में 20 मार्च को एक रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। रिपोर्ट में बताया गया था कि राण सिंह, पूरण सिंह, भंवर सिंह सहित दर्जनभर व्यक्ति धारदार हथियार,लाठियों के साथ पीड़िता के घर पर हमला बोलकर पुरुष और महिला सदस्यों के साथ मारपीट की। आरोपितों ने महिलाओं की लज्जा भंग करने की कोशिश की गई। इसके बाद पीड़िता की ओर से जसवंतपुरा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने गई तो थानाधिकारी मनीष सोनी ने आरोपितों का पक्ष लिया और रिपोर्ट फेंद दी। इसके बाद जिला पुलिस अधीक्षक और जालोर विधायक के निर्देशों के बाद परिवादी की रिपोर्ट दर्ज की गई, हालांकि परिवादी का अंदेशा है कि आरोपित पुलिस के साथ मिलकर मामले को रफा—दफा करने का प्रयास कर रहे है। ऐसे में मामले की जांच जिला स्तरीय महिला सेल से करवाई जाए। 
सीएलजी बैठक में आरोपी


कुछ दिनों पूर्व जसवन्तपुरा थाने में आयोजित सीएलजी बैठक के  दौरान भी मुल्जिमान पक्ष का एक व्यक्ति थाना परिसर में आयोजित बैठक की प्रथम पंक्ति में कुर्सी पर बैठकर थानाधिकारी और प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षक के सामने शांति व्यवस्था बनाने की बात कर रहा था। ऐसे में पुलिस की कार्यशैली पर संदेह होना भी लाजमी है।