फिर गरमाया माहौल!: जालोर में दलित छात्र की मौत मामले में आज करणी सेना प्रदर्शन की तैयारी में, अतिरिक्त पुलिसबल तैनात

करणी सेना के साथ ही 36 कौम के लोग भी मलकेश्वर मठ में जुटने जा रहे हैं। करणी सेना और 36 कौम के लोग पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं। 36 कौम का कहना है कि यह सिर्फ एक हादसा है, इसे दलित मामला बताकर तूल दिया जा रहा है।

जालोर में दलित छात्र की मौत मामले में आज करणी सेना प्रदर्शन की तैयारी में, अतिरिक्त पुलिसबल तैनात

जालोर | राजस्थान के जालोर जिले में टीचर की पिटाई से हुई दलित बच्चे की मौत का मामला एक बार फिर से उबाल मारता दिख रहा है। इस मामले को लेकर जालोर मुख्यालय पर आज मंगलवार को करणी सेना प्रदर्शन करने की तैयारी कर रही है। जिसके बाद से जिले में एक बार फिर से माहौल गरमा गया है। जिसे देखते हुए पुलिस भी एक्शन में आ गई है और सुरक्षा बंदोबस्त बढ़ा दिए गए हैं।

दोपहर बाद करणी सेना का प्रदर्शन
जानकारी के अनुसार, आज दोपहर बाद करणी सेना जालोर मुख्यालय पर प्रदर्शन करने की तैयारी कर रही है। जिसके बाद पुलिस ने मलकेश्वर मठ के आसपास और मृतक छात्र इंद्र मेघवाल के घर के आसपास अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया है। 

ये भी पढ़ें:- मां ‘पन्नाधाय’ की प्रतिमा से सुसज्जित होगा 'पन्नाधाय पार्क', आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे अनावरण

मलकेश्वर मठ में जुट रहे करणी सेना और 36 कौम के लोग
जानकारी के अनुसार, करणी सेना के साथ ही 36 कौम के लोग भी मलकेश्वर मठ में जुटने जा रहे हैं। करणी सेना और 36 कौम के लोग पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं। 36 कौम का कहना है कि यह सिर्फ एक हादसा है, इसे दलित मामला बताकर तूल दिया जा रहा है। बता दें कि, इस बाबत 36 कौम ने पहले ही सरकार को ज्ञापन भी सौंप था।

जारी है मामले की जांच पड़ताल
आपको बता दें कि जालोर में दलित छात्र की मौत मामले में पहले ही एक पुलिस कांस्टेबल को सस्पेंड किया जा चुका और आरोपी शिक्षक छैल सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम जांच पड़ताल में जुटी हुई है जो अपनी रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय को सौपेंगी। जिसके बाद इसे राज्य सरकार को सौपा जाएगा। 

ये भी पढ़ें:- सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड: मास्टरमाइंड सचिन बिश्नोई चढ़ा पुलिस के हत्थे, अजरबैजान में गिरफ्तार

ये है पूरा मामला
आपको बता दें कि, जालौर जिले के सायला थाना क्षेत्र के सुराणा गांव में एक टीचर की पिटाई से दलित छात्र की मौत हो गई थी। गांव के सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल में पढ़ने वाले दलित छात्र ने स्कूल में पानी की मटकी से पानी पी लिया था जिसके बाद टीचर ने उसकी बेरहमी से पिटाई कर दी। इसके बाद बच्चे ने इलाज के दौरान दम तोड़ा। उसे इलाज के लिए उदयपुर और अहमदाबाद में भर्ती कराया गया था, लेकिन बचाया नहीं जा सका। स्कूल टीचर से दलित छात्र की मौत के बाद सियासत गरमा गई। ऐसे में महौल खराब नहीं हो इसके लिए प्रशासन ने जिले में इंटरनेट सेवाएं बंद करा दी थी। वहीं, राजस्थान सरकार ने छात्र के परिजनों को 5 लाख रुपये देने की घोषणा भी की थी। 

Must Read: सिरोही कारागृह में कोरोना पॉजिटिव कैदियों को 7 दिन से कोई चिकित्सक नहीं पहुंचा जांच करने, शिकायत पर पहुंचे विधायक

पढें राजस्थान खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :