Sri Lanka New PM: श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री बने दिनेश गुणवर्धने, भारत से रहा है गहरा रिश्ता

श्रीलंका की अवाम को नया राष्ट्रपति मिलने के बाद आज नया प्रधानमंत्री भी मिल गया है। दिनेश गुणवर्धने श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री नियुक्त किए गए हैं। शुक्रवार यानि आज संसद में 72 साल के दिनेश गुणवर्धने ने पीएम पद की शपथ ली। गुणवर्धने एक ट्रेड यूनियन नेता और पिता फिलिप गुनावर्धने की तरह ही सेनानी भी रह चुके हैं।

श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री बने दिनेश गुणवर्धने, भारत से रहा है गहरा रिश्ता

नई दिल्ली | श्रीलंका की अवाम को नया राष्ट्रपति मिलने के बाद आज नया प्रधानमंत्री भी मिल गया है। दिनेश गुणवर्धने (Dinesh Gunawardena) श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री नियुक्त किए गए हैं। शुक्रवार यानि आज संसद में 72 साल के दिनेश गुणवर्धने ने पीएम पद की शपथ ली। गुणवर्धने एक ट्रेड यूनियन नेता और पिता फिलिप गुनावर्धने की तरह ही सेनानी भी रह चुके हैं।

22 वर्षों से अधिक समय तक रहे कैबिनेट मंत्री
दिनेश गुणावर्धने का जन्म 2 मार्च 1949 को हुआ था। वर्तमान में वह वामपंथी महाजन एकथ पेरामुना पार्टी के नेता हैं। वह 22 वर्षों से अधिक समय तक कैबिनेट मंत्री रहे हैं। गुणवर्धने पिछली गोटबाया-महिंदा सरकार में विदेश मामलों और शिक्षा मंत्री थे। श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री दिनेश गुनावर्धने के पिता फिलिप गुनावर्धने को श्रीलंका में समाजवाद के जनक के रूप में जाना जाता है। 

ये भी पढ़ें:- बारां में हादसा: मौसम का आनंद लेते हुए जलप्रपात पर नहा रहे थे जीजा-साला, अचानक गिरे नीचे और ...

भारत से रहा गहरा रिश्ता
श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने भारत के साथ बेहतर संबंधों के पक्षधर रहे हैं। इनका व्यक्तित्व भी उनके माता-पिता की तरह साफ-सुथरी छवि वाला रहा है। दिनेश गुणवर्धने के परिवार का भारत से घनिष्ठ संबंध रहा है। गुणवर्धने के पिता फिलिप गुणवर्धने ने भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी जिसके चलते उन्हें जेल भी जाना पड़ा था। 

ये भी पढ़ें:- CBSE 12th Result 2022: सीबीएसई 12वीं का परीक्षा परिणाम घोषित, इस बार भी लड़कियों ने लड़कों को पछाड़ा, ऐसे करें डाउनलोड

माता-पिता ने भारत में ली थी शरण
द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान श्रीलंका से भागने के बाद दिनेश गुणवर्धने के पिता फिलिप और मां कुसुमा ने भारत में शरण ली थी। ये आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे। इस दौरान 1943 में इन दोनों को ब्रिटिश खुफिया विभाग ने पकड़ लिया था और बॉम्बे की आर्थर रोड जेल में रखा था। जिसके सालभर बाद फिलिप और उनकी पत्नी को श्रीलंका डिपोर्ट कर दिया गया था।

Must Read: मेक्सिको में एक और पत्रकार की हत्या

पढें विश्व खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :