Mount Abu के कांग्रेस बोर्ड में हलचल: Rajasthan में कांग्रेस सरकार, माउंट आबू में कांग्रेस का बोर्ड बावजूद इसके Congress councilor ने नगर पालिका अधिकारियों से परेशान होकर सीएम को भेजा इस्तीफा

कांग्रेस पार्षद ने माउंट आबू शरद महोत्सव में उत्सव समिति के अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा देने का ऐलान किया है। ऐसे में  कांग्रेस पार्षद ने कई सवाल खड़े कर दिए। जानकारी के मुताबिक माउंट आबू नगर पालिका के वार्ड 11 पार्षद देवेंद्र जानी ने उपखंड अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को इस्तीफा भेजा है। 

Rajasthan में कांग्रेस सरकार, माउंट आबू में कांग्रेस का बोर्ड बावजूद इसके Congress councilor ने नगर पालिका अधिकारियों से परेशान होकर सीएम को भेजा इस्तीफा

सिरोही। 
राजस्थान में कांग्रेस की गहलोत सरकार के कार्यकाल में स्वयं कांग्रेसी परेशान नजर आ रहे है। एक ओर जहां उपचुनावों में राजधानी जयपुर में कांग्रेस के बोर्ड और कांग्रेस के मंत्री— मेयर कांग्रेस के पार्षद को नहीं जीता पाए, 
वहीं दूसरी ओर प्रदेश की माउंट आबू पालिका में कांग्रेस के पार्षद ने कांग्रेसी बोर्ड होते हुए मुख्यमंत्री को इस्तीफा भेज दिया। 
इतना ही नहीं, कांग्रेस पार्षद ने माउंट आबू शरद महोत्सव में उत्सव समिति के अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा देने का ऐलान किया है। ऐसे में  कांग्रेस पार्षद ने कई सवाल खड़े कर दिए।
जानकारी के मुताबिक माउंट आबू नगर पालिका के वार्ड 11 पार्षद देवेंद्र जानी ने उपखंड अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को इस्तीफा भेजा है। 
जानी ने नगर पालिका आबू पर्वत के अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाए है। पार्षद के आरोप है कि नगर पालिका आबू पर्वत के अधिकारी मनमर्जी करते है। इससे आहत होकर पार्षद पद से इस्तीफा भेजा गया। 
उत्सव समिति के अध्यक्ष तक की नहीं सुन रहे अधिकारी
पार्षद देवेंद्र जानी ने बताया कि माउंट पर्वत नगर पालिका ने मुझे उत्सव समिति का अध्यक्ष बनाया था। 
नगर पालिका माउंट पर्वत ने पिछले दिनों शरद महोत्सव का आयोजन किया। इस समारोह में ना तो किसी सुझाव को माना और ना ही किसी कार्यक्रम को लेकर चर्चा की गई। 
पालिका के पार्षद तो दूसर उत्सव ​समिति के अध्यक्ष तक से सुझाव मानना तो दूर अधिकारियों ने चर्चा नहीं की। 
शरद महोत्सव के कार्यक्रमों तक की जानकारी नहीं 
पार्षद का आरोप है कि शरद महोत्सव के तहत उत्सव समिति का अध्यक्ष तो मुझे बना दिया गया लेकिन पालिका के अधिकारियों ने महोत्सव के संबंध में जानकारी तक देना उचित नहीं समझा। 
इतना ही नहीं, महोत्सव में लाखों—करोड़ों रुपए खर्च किए गए लेकिन उत्सव समिति के अध्यक्ष को बताया तक नहीं गया। 
शरद महोत्सव में अतिथियों का सम्मान, अध्यक्ष को शामिल क्यों नहीं!
आबू पर्वत नगर पालिका के अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए पार्षद जानी ने कहा कि शरद महोत्सव के तहत कार्यक्रम के दौरान अतिथियों को सम्मानित किया गया। 
स्वागत कार्यक्रम में भी पालिका अधिकारियों ने उत्सव समिति के अध्यक्ष तक को शामिल नहीं किया। उन्होंने कहा कि शरद महोत्सव ही नहीं,इससे पहले भी कई आयोजन किए गए। 
सभी में पालिका के अधिकारियों की मनमर्जी चलती आ रही हैं। जबकि पार्षदगणों को नजरअंदाज किया जाता रहा है। ऐसे में जानी ने बतौर उत्सव स​मिति अध्यक्ष और नगर पालिका पार्षद के पद से इस्तीफा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भेज दिया। 
हालांकि इस्तीफा भेजने के 24 घंटे बाद पार्षद से मुख्यमंत्री गहलोत ने बातचीत की तो उन्होंने इस्तीफा वापस लेने की बात पर सहमति जताई।

Must Read: अलवर के तिजारा में आज जैन मंदिर जाएंगे राहुल गांधी, कांग्रेस संगम शिविर को करेंगें संबोधित

पढें राजनीति खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :