Indian Government @ उड़ान योजना: नागरिक उड्डयन मंत्री ने ‘उड़ान योजना’ के तहत शिलांग-डिब्रूगढ़ मार्ग पर पहली सीधी फ्लाइट को दिखाई हरी झंडी

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने भारत सरकार की क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना-उड़े देश का आम नागरिक (आरसीएस-उड़ान) के तहत शिलांग-डिब्रूगढ़ मार्ग पर पहली सीधी उड़ान को वर्चुअली झंडी दिखाकर रवाना किया।

नागरिक उड्डयन मंत्री ने ‘उड़ान योजना’ के तहत शिलांग-डिब्रूगढ़ मार्ग पर पहली सीधी फ्लाइट को दिखाई हरी झंडी

नई दिल्ली, एजेंसी। 
केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया, एमओएस, नागरिक उड्डयन मंत्रालय, जनरल डॉ. वीके सिंह (सेवानिवृत्त), एमओएस, नागरिक उड्डयन मंत्रालय,  राजीव बंसल, सचिव, नागरिक उड्डयन मंत्रालय (एमओसीए) के साथ भारत सरकार की क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना-उड़े देश का आम नागरिक (आरसीएस-उड़ान) के तहत शिलांग-डिब्रूगढ़ मार्ग पर पहली सीधी उड़ान को वर्चुअली झंडी दिखाकर रवाना किया।
इस अवसर पर श्रीमती उषा पाधी, संयुक्त सचिव, नागरिक उड्डयन मंत्रालय के साथ नागरिक उड्डयन मंत्रालय, एमओसीए के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने कहा कि शिलांग दुनिया के सबसे ऊंचे और सबसे पानी वाले स्थानों में से एक है। यह स्थान देश ही नहीं पूरे विश्व के लिए महत्वपूर्ण है। रोलिंग पहाड़ियों, गुफाओं, सबसे ऊंचे झरनों, सुंदर परिदृश्य और इसकी समृद्ध विरासत और संस्कृति की उपस्थिति के कारण शिलांग को हमेशा पूर्व के स्कॉटलैंड के रूप में जाना जाता है। ऐसा कुछ भी नहीं है जो मेघालय के पास न हो। यह जगह दुनिया भर से पर्यटकों को आकर्षित करती है।" मंत्री ने कहा कि “2014 में, उत्तर पूर्व में केवल 6 हवाई अड्डे चालू थे जो अब 2021 में बढ़कर 15 हवाई अड्डे हो गए हैं।  यह सिर्फ शुरुआत है, हम उत्तर-पूर्व की अंतर्राज्यीय (राज्य के अंदर) और राज्यान्तरिक (राज्य के बाहर) कनेक्टिविटी को बढ़ाने के लिए और प्रतिबद्ध हैं। हवाई जहाज से कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के अलावा, हमारा फोकस अंतिम छोर तक डिलीवरी के लिए हेलिकॉप्टर सेवाओं के साथ-साथ इंफ्रास्ट्रक्चर क्षमताओं को विकसित करने पर है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि हमने हाल ही में उत्तर-पूर्व में हेली सेवाओं को और बढ़ावा देने के लिए हेलीकॉप्टर नीति शुरू की है। हम चाहते हैं कि देश भर से यात्रियों को पूर्वोत्तर की यात्रा पर लाया जाए। 

इंडिगो कंपनी ने शुरू की हवाई सेवा
उड़ान 4 बोली प्रक्रिया के दौरान एयरलाइन मैसर्स इंडिगो को शिलांग-डिब्रूगढ़ मार्ग पर हवाई सेवा शुरू करने की अनुमति दी गई थी। आम लोगों के लिए किरायों को कम करने और सुलभ रखने के लिए उड़ान योजना के तहत एयरलाइंस को वायबिलिटी गैप फंडिंग (वीजीएफ) प्रदान की जा रही है। एयरलाइन अपने 78 सीटों वाले एटीआर 72 विमान से यहां हवाई सेवा मुहैया कराएगी। उड़ान योजना के तहत अब तक 389 मार्गों और 62 हवाई अड्डों (5 हेलीपोर्ट और 2 वाटर एयरोड्रोम सहित) का संचालन किया जा चुका है। परिवहन के किसी भी सीधे साधन की अनुपलब्धता के कारण, अभी तक लोगों को शिलांग और डिब्रूगढ़ के बीच यात्रा करने के लिए सड़क और ट्रेन द्वारा 12 घंटे की लंबी यात्रा को करने के लिए मजबूर होना पड़ता था। अब, यहां के रहने वाले निवासी केवल 75 मिनट की उड़ान का विकल्प चुनकर दोनों शहरों के बीच आसानी से यात्रा कर सकते हैं।

Must Read: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मंत्रिमंडल के साथ राज्यपाल को सौंपा इस्तीफा

पढें दिल्ली खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News) के लिए डाउनलोड करें First Bharat App.

  • Follow us on :